एक दिल ही था वो भी उस के पास था

साक़ी
 

तेरी शराब कुछ भी नहीं उस की आँखों के सामने “साक़ी “
वो जो देख ले एक नज़र तो पीने की हसरत नहीं रहती

SAQI
 

Teri Sharab Kuch Bhi Nahi Us Ki Ankhon Ke Samne “SaQi”
Wo Jo Dekh Le Ek Nazar To Peene ki Hasrat Nahi Rehti…


मदहोशी
 

नज़रों से क्यों इतना पिला देती हो
महखाने की राह भूल गए हैं
गुनाह हो जाये न मदहोशी में
इसी खातिर हरदम दूर बैठे हैं

Madhoshi
 

Nazaron se kyun itana pila deti ho
Meihkhane ki raah bhool gaye hain
Gunaha ho jaye na madhoshi mein
Isi khatir hardam door baithe hain…


कतरे कतरे से वफ़ा
 

बेवफा कहने से पहले मेरी रग रग का खून निचोड लेना
कतरे कतरे से वफ़ा न मिली तो बेशक मुझे छोड़ देना

Katre Katre Se Wafa
 

Bewafa Kehne Se Pehle Meri Rag Rag Ka Khoön nichod Lena
Katre Katre Se Wafa Na Mili To Beshak Mujhe Chod Dena…


तेरी चाहत
 

पास तुम होते तो कोई शरारत करते
तुझे ले कर बाँहों में मोहब्बत करते

देखते तेरी आँखों में नींद का खुमार
अपनी खोई हुई नींदों की शिकायत करते

तेरी आँखों में अपना अक्स ढूँढ़ते
खुद से भी ज़यादा तेरी चाहत करते

एक दिल ही था वो भी उस के पास था
रात भर जाग कर किस की हिफाज़त करते

Teri Chahat
 

paas tum Hote To Koi Shararat Karte
Tujhe Le Kar Bahon Mein Mohabbat Karte

Dekhte Teri Ankhon Mein Neend Ka Khumar
Apni Khoyi Hui Neendon ki Shikayat Karte

Teri Aankhon Mein Apna aks Dhoondte
Khud Se Bhi Zayada Teri Chahat Karte

Ek Dil Hi Tha Wo Bhi Us Ke Paas Tha
Raat Bhar Jaag Kar Kis Ki Hifazat Karte

Leave a Reply