एहसास और ख्वाब शायरी

अपने एहसास से छू कर मुझे चन्दन कर दो
में सदियों से अधूरा हूँ , मुझे मुकम्मल कर दो

न तुम्हें होश रहे और न मुझे होश रहे
इस क़दर टूट के चाहो , मुझे दीवाना कर दो

अपने ग़म से कहो हर वक़्त मेरे साथ रहे
एक एहसान करो उस को मुसलसल कर दो

मुझ पे छा जाओ किसी आग की सूरत में
और मेरी ज़ात को सूखा हुआ जंगल कर दो

इस के साये में मेरे ख्वाब धड़क उठेंगें
मेरे चेहरे पे चमकता हुआ  आँचल कर दो

Apnay Ehsaas Se Chhu Kar Mujhey chandan Kar Do
Mein Sadiyoon Se Adhoora Hoon, Mukammal Kar Do

Na Tumhein Hosh Rahe Or Na Mujhey Hosh Rahe
Is Qadar Toot Ke Chaho, Mujhey diwana Kar Do

Apnay Gham Se Kaho Har Waqt Meray Sath Rahe
ek Ehsaan Karo Us Ko Musalsal Kar Do

Mujh Pe Chah Jao Kisi Aag Ki Soorat main
Or Meri Zaat Ko Sukha Hua Jungle Kar Do

Is Ke Saaye Mein Meray Khawab Dhadak uthengee
Mere Chehre Pe Chamakta Hua Aanchal Kar Do


तोहमतेँ तो लगती रही रोज़ नई नई हम पर ….
मगर जो सब से हसीं इलज़ाम था …
वो तेरा नाम था ….

Tohmat to Lagti rahi Rooz Nai Nai….Hum per….
Magar Jo Sub se Haseen Ilzaam tha…
Wo Tera Naam tha…..

Leave a Reply