ऐ बारिश ज़रा थम के बरस – Romantic बारिश शायरी

ऐ बारिश
 

ऐ बारिश ज़रा थम के बरस
जब मेरा यार आ जाये तो जम के बरस
पहले न बरस की वो आ न सकें
फिर इतना बरस की वो जा न सकें

AE Barish
 

Ae barish zara tham ke baras
Jab mera yaar aa jaye to jam ke baras
Pehle na baras ki woh aa na sake
Phir itna baras ki wo ja na sake..


बारिश की बूँद
 

मत पूछ कितनी “मोहब्बत ” है मुझे उस से ,
बारिश की बूँद भी अगर उसे छु ले तो दिल में आग लग जाती है

Baarish Ki Boond
 

Mat Pooch Kitni “Mohabbat” Hai Mujhe Us Se,
Baarish Ki Boond Bhi Agar Use Chu Le To Dil Mein Aag Lag Jati Hai..


बरसात का मौसम
 

जब जब आता है यह बरसात का मौसम
तेरी याद होती है साथ हरदम
इस मौसम में नहीं करेंगे याद तुझे यह सोचा है हमने
पर फिर सोचा की बारिश को कैसे रोक पाएंगे हम

Barsaat Ka Mausam
 

Jab Jab Aata Hai Ye Barsaat Ka Mausam
Teri Yaad Hoti Hai Saath Hardam
Is Mausam Mein Nahi Karege Yaad Tujhe Ye Socha Hai Humne
Par Fir Socha Ki Barish Ko Kaise Rok Payege Hum..


ज़रा ठहरो के बारिश है
 

ज़रा ठहरो के बारिश है यह थम जाए तो फिर जाना
किसी का तुझ को छु लेना मुझे अच्छ नहीं लगता

Zara Thehro Ke Baarish Hai
 

Zara Thehro K Baarish Hai Yeh Tham Jaey To Phir Jana…
Kisi Ka Tujh Ko Choo Laina Mujhe Acha Nahi Lagta…


पहली बारिश
 

जब भी होगी पहली बारिश तुमको सामने पाएंगे
वो बूंदों से भरा चेहरा तुम्हारा हम कैसे देख पाएंगे

Pehli Baarish
 

Jab Bhi Hogi Pehli Baarish Tumko Samne Payenge
Woh Bundo Se Bhara Chehra Tumhara Hum Kaise Dekh Payenge

Leave a Reply