ओस की बूँदें फूलों को भीगा रही हैं….!!

ओस की बूँदें फूलों को भीगा रही हैं,
ठंडी लहरें एक ताज़गी जगा रही हैं,
आइये और हो जाये आप भी इनमें शामिल,
एक प्यारी सी सुबह आपको जगा रही हैं. 

Leave a Reply

%d bloggers like this: