कर के इज़हार-ऐ-मोहब्बत बेपरवाह हो जाते हैं लोग

राह -ऐ -जूनून

फ़ना न कर अपनी ज़िन्दगी को ऐ इंसान राह -ऐ -जूनून में
तब करेगा इबादत जब गुनाह करने की ताक़त न होगी

Raah-ae-Junoon

Fana na kar apni zindagi ko ay jawan raah-e-junoon main.
Tab karega ibadat jab gunnah karne ki taqat na hogi


क्यों बेवफा हो जाते हैं लोग

हँसते हैं यूँ ही हंस कर रुला जाते हैं लोग
मिलते हैं यूँ ही मिल कर जुदा हो जाते हैं लोग

पल दो पल की मोहब्बत को उम्र भर का साथ न समझना
मुहबत भी करते हैं और खफा भी हो जाते हैं लोग .

 

नसीब में प्यार न था जो मुझे मिला ही नहीं .
कर के इज़हार-ऐ-मोहब्बत बेपरवाह हो जाते हैं लोग .

अब किस से करें शिकवा अपनी किस्मत का .
कर के वादे वफ़ा क्यों बेवफा हो जाते हैं लोग

Kyon bewafaa ho jate hain log

Hanste hain yun hi hans kar rula jate hain log
Milte hain yun hi mil kar juda ho jate hain log

Pal do pal ki Mohabbat ko umar bhar ka sath na samjhna.
Muhabat bhi karte hain or khafaa bhi ho jate hain log.

Naseeb mein pyar na tha jo mujhe mila hi nhi.
Kar ke izhaar-ae-Mohabbat be parwaah ho jatey hain log.

Ab kis se karen Shikwa apni qismat ka.
Kar ke vaade wafaa kyon bewafaa ho jate hain log


जी -भर के देख लो

यूँ न मुझ को देख की तेरा दिल पिघल न जाये
मेरे आंसुओ से तेरा दामन  जल न जाये

वो मुझ से फिर मिला है आज ख़्वाबों में
ऐ खुदा कहीं मेरी नींद खुल न जाये

जी -भर के देख लो हम को तुम सनम
क्या पता फिर ज़िन्दगी की शाम ढल न जाए

Ji Bhar ke dekh lo

Yun na mujh ko dekh tera dil pighal na jaye
Mere aansuo se tera daman jal na jaye

Wo mujh se phir mila hai aaj khawabon mein
Ae khudaya kahin meri neend khul na jaye

Ji-bhar ke dekh lo hum ko tum sanam
Kya pata phir zindagi ki shaam dhal na jaaye

Leave a Reply