किसी के इश्क़ के हम-ओ-ख्याल थे हम भी कभी – अल्लामा इक़बाल

किसी के इश्क़ के
 

किसी के इश्क़ के हम-ओ-ख्याल थे हम भी कभी
गुजरे ज़माने में बहुत बा-कमाल थे हम भी कभी

Kisi ke Ishq ke
 

Kisi ke Ishq ka hum-o-Khiyaal the hum bhi kabhi
Gaye Dinoon mein bahut Ba-kamaal the hum bhi kabhi…


ढूंढ़ता फिरता हूँ
 

ढूंढ़ता फिरता हूँ ऐ इक़बाल अपने आप को
आप ही गोया मुसाफिर आप ही मंज़िल हूँ मैं

Dhoondta Firtaa Hoon
 

Dhoondta firtaa hoon aey IQBAL apne aap ko
aap hi goya musaafir aap hi manzil hoon main…


उसकी फितरत
 

उसकी फितरत परिंदों सी थी ,मेरा मिज़ाज दरख़्तों जैसा
उसे उड़ जाना था और मुझे कायम ही रहना था

Uski Fitraat
 

uski Fitraat Parindoon se thi Mera Mizaaj darkhtoon jaisa
use ud jana tha aur Mujhe kayam hi Rahna Tha…


किसी की याद
 

किसी की याद ने जख्मों से भर दिया है सीना
अब हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी

Kisi Ki Yaad
 

Kisi Ki Yaad ne Zakhmoon se bhar Diya Seena
Har ek Saans Par Shak hai k Aakhri Hogi…


करे जो इश्क़
 

मुझ सा कोई शख्स नादान भी न हो
करे जो इश्क़ कहता है नुकसान भी न हो

Kare Jo IShq
 

Mujh sa koi Shakhs Nadaan bhi na ho
Kare Jo IShq kahta hai Nuqsaan bhi na ho


फूल चाहे थे
 

फूल चाहे थे  , मगर हाथ में आए पत्थर ,
हम ने आगोश- ऐ-मोहब्बत में सुलाये पत्थर ..

Phool Chahey They
 

Phool chahey they, magar hath me aye pathar,
Hum ne aghosh e mohabbat me sulaye pathar…


जश्न -ऐ -बहाराँ
 

उठा कर चूम ली हैं चंद मुरझाई हुई कलियाँ ,
न तुम आए तो यूं जश्न -ऐ -बहाराँ कर लिया मैने ..

Jashn-ae-Baharan
 

Utha kar choom li hain chnd murjhayi huyi kaliyan,
Na tum ayee tou yoon jashn-e-baharan karliya mene..

Leave a Reply