किसी के हिजर में नींदें गवां कर कुछ नहीं मिलता – Wasi Shah

हाल-ऐ-दिल

न कर बयाँ उन से हाल-ऐ-दिल “वासी”
मगरूर सा शख्स है कहीं साथ न छोड़ दे

Haal-ae-Dil

Na Kar Byaan Un Se Haal-ae-Dil “WASI”
Magror Sa Shakhs Hai Kahin Sath Na Chor De


जान -ऐ-मन

कौन कहता है शरारत से तुम्हें देखते हैं
जान -ऐ-मन हम तो मोहब्बत से तुम्हें देखते है

Jaan-ae-maan

kon kehta hai shararat se tumein dekhtey hain
jaan e man ham to mohabbat se tumhein dekhtey hain


किसी के हिजर में

किसी की आँख से सपने चुरा कर कुछ नहीं मिलता
मंदिरों से चिराग़ों को बुझा कर कुछ नहीं मिलता
मुझे अक्सर सितारों से यही आवाज़ आती है
किसी के हिजर में नींदें गवां कर कुछ नहीं मिलता

Kissi Ke Hijr Mein

Kissi Ki Ankh Se Sapney Chura Kar Kuch Nahi Milta
Mandeiron Se Chiraaghon Ko Bhuja Kar Kuch Nahi Milta
Mujhe Aksar Sitaron Se Yehi Awaaz Aati Hai
Kissi Ke Hijr Mein Neendein gawan Kar Kuch Nahi Milta


उन के मिल जाने का नशा

हिजर की प्यास में क़तरा भी बुहत होता है
दीद के वास्ते एक लम्हा भी बुहत होता है

जिन के मिलने की नहीं दूर तक कोई उम्मीद
उन के खो जाने का हादसा भी बुहत होता है

जिन के खो जाने पे खो जाती हैं सब होश -ओ -हवास
उन के मिल जाने का नशा भी बुहत होता है

अब कोई और तलब दिल में नहीं है  “वासी”
अब तेरी याद का साया भी बुहत होता है

Un ke mil jane ka nasha

Hijr ki piyas may qatra bhi buht hota hai
deed ke wastay lamha bhi buht hota hai

Jin ke milny ki nahi dour tak koi ummeed,
un ke kho jany ka khadsha bhi buht hota hai

Jin ke kho jane pe kho jaty hain sab hosh-o-hawas
un ke mil jane ka nasha bhi buht hota hai

Ab koi aur talab dil mein nahi hai  “WASI”
ab teri yaad ka saya bhi buht hota hai

Leave a Reply