कोमल सा एहसास हो तुम या…….!

कोमल सा एहसास हो तुम या

मन के रेशम में छिपा प्यारा सा कोई भाव हो तुम

तुम्हे मैं अपना कौन कहूँ,

इस जीवन का सार हो तुम……!!