गुरूर तो होना था उनको हमारी मोहब्बत की शिद्दत देख कर

इश्क़ का रोग था

कैसे मुमकिन था किसी और वसीले से इलाज ….
इश्क़ का रोग था , जहर के पीने से गया ..!!

Ishq ka Rog Tha

kaise Mumkin tha kisi aur waseelay se elaaj….
Ishq ka rog tha, zehar ke peene se gaya..!!


मोहब्बत की शिद्दत

गुरूर तो होना था उनको हमारी मोहब्बत की शिद्दत देख कर
मगर वो इस गरूर की सोच में हमारी कीमत भूल गए …

Mohabbat Ki Shiddat

Guroor to hona tha unko hmari mohabbat ki shiddat dekh kar
Magar wo is  ki Guroor soch men hamari kimat bhol gye…

Leave a Reply