छड़ दूँ सजना तकना तेरिया राहां नू – पंजाबी शायरी

रुक लेंन दे इन्हा सॉहा नू

छड़ दूँ सजना तकना तेरिया राहां नू
एक बार रुक लेंन दे इन्हा सॉहा नू


रंगलियाँ  बहाराँ

किसे नु मिल जंदिया न  रंगलियाँ  बहाराँ
किसे नु चमन भी नसीब न हुँदा
किसे दी कबर ते तामीर होंदे महल चौबारे
ते किसे नू कफ़न भी नसीब न हुँदा


जिंदगी दा कुछ हिसा

अपनी जिंदगी दा कुछ हिसा तेरे संग निभा चले हाँ
प्यार किता सी तनु रब तो ज़यादा
ताहियों धोखा खा चले हाँ
सी यकीं रब तो भी ज़यादा
पर तेनु आज गवा चले हाँ


ओ चन सी अम्ब्रा दा

वफ़ा समझ के जिनु निभोदें रे
ओ बेवफा सी जिस नु प्यार करदे रहे
में नफरत नू प्यार नाल तोल्दा  रिहा
पर ओ आसमान सी जमीन नाल की बोलदा
ओ चन सी अम्ब्रा दा
उस दी ख़ुशी लई हर रोज़ टूटे कई तारे सी
मेरा दिल बेचारा डुल सी जमीन दी
मुड धरती ते औन्दा दोबारा सी


दिल दा इलाज़

मेरे रबा मेरी गल दा जवाब ता दे
इस टूटे हुए दिल दा इलाज़ ता दे
सारी बीती है उम्र मेरी दुखां दे सहारे
होर किने दुःख लेखे न हिसाब ता दे

Leave a Reply