जब भी गुज़रे हैं किसी दर्द के बाजार से हम – परवीन शाकिर शायरी

अक्स -ऐ -खुशबू हूँ
 

अक्स -ऐ -खुशबू हूँ बिखरने से न रोके कोई
और फिर बिखरु तो मुझ को न समेटे कोई .

काँप उठती हूँ मैं यह सोच के तन्हाई में
मेरे चेहरे पे तेरा नाम न पढ़ ले कोई

अब तो इस राह से वो शख्स गुज़रता भी नहीं
अब किस उम्मीद पे दरवाज़े से झाँके कोई

कोई आहट , कोई आवाज़ , कोई चाप नहीं
दिल की गालियां बड़ी सुनसान हैं आये कोई

Aks-ae-khushboo hoon
 

Aks-ae-khushboo hoon bikherne se na roke koi
aur phir bikharjaoun to mujh ko na samete koi.

 

kaanp uthti hoon main yeah soch ke tanhayii mein….
mere chehre pe tera naam na padh le koi

ab to iss rah se wo shakhs guzarta bhi nahi..
ab kis umeed pe darwaze se jhanke koi

Koi aahat, koi awaz, koi chaap nahi,
dil ki ghaliyaan bari sunsaan hein aaye koi.


हुई बर्बाद मोहबत कैसे
 

ज़िंदगी पर किताब लिखूंगी
उस में सारे हिसाब लिखूंगी

प्यार को वक़्त गुज़ारी लिख कर
चाहतों को अज़ब लिखूंगी

हुई बर्बाद मोहबत कैसे
कैसे बिखरे हैं ख्वाब लिखूंगी

अपनी ख्वाहिश का तजकरा कर के
उस का चेहरा गुलाब लिखूंगी

मैं उस से जुदाई का सबब
अपनी किस्मत खराब लिखूंगी …

Hui barbaad mohabat kaise
 

Zindgi par kitab likhungi
Uss mein sare hisaab likhungi

Pyar ko waqt guzari likh kar
Chahton ko azab likhongi

Hui barbaad mohabat kaise
Kaise bikhre hain khuwaab likhongi

Apni khwahish ka tazkra kar ke
Uss ka chehra gulaab likongi

Main uss se judai ka sabab
Apni qismat khrab likhongi…


जब भी गुज़रे हैं किसी दर्द के बाजार से
 

यह जो चेहरे से तुम्हें लगते हैं बीमार से हम
खूब रोये हैं लिपट कर दर -ओ -दीवार से हम
रंज हर रंग के झोली में भरे हैं हम ने
जब भी गुज़रे हैं किसी दर्द के बाजार से हम

Jab Bhi Guzre Hain kisi Dard ke Bazaar Se
 

Yeah jo chehre se tumhen lagte hain beemar se hum
khob roye hain lipat kar dar-o-deewar se hum
ranj har rang ke jholi main bhare hain hum ne
jab bhi guzre hain kisi dard ke bazaar se hum!!!

Leave a Reply