तेरा रंग-ऐ-हिना – उर्दू हिना शायरी

हाथों की हिना

चंद मासूम से पतों का लहू है ‘फाखिर’
जिस को महबूब के हाथों की हिना कहते हैं

Haathon Ki Hina

Chand Maasoom Se Patton Ka Lahoo Hai ‘Faakhir’
Jis Ko Mahaboob Ke Haathon Ki Hina Kahte Hain…


मोहताज-ऐ-हिना

खून है दिल ख़ाक में अहवाल-ऐ-बुतान पर यानी
उन के नाखून हुए मोहताज -ऐ -हिना मेरे बाद

Mohtaaj-AE-Hinaa

Khoon Hai Dil Khaak Mein Ahvaal-AE-Butaan Par Yaani
Un Ke Naakhoon Hue Mohtaaj-AE-Hinaa Mere Baad…


पा बस्ता ऐ-ज़ंजीर ऐ-हिना

मैं भी पलकों पे सजा लूँगा लहू की बूँदें
तुम भी पा-बस्ता-ऐ-ज़ंजीर-ऐ-हिना हो जाना

Paa Basta-AE-Zanjeer AE-Hina

Main Bhi Palkon Pe Sajaa Loon Ga Lahoo Ki Boonden
Tum Bhi Paa-Basta-AE-Zanjeer-AE-Hina Ho Jaanaa…


तन्हाई में खुशबू-ऐ-हिना

वो हाथ पराये हो भी गए अब दूर का रिश्ता है “कैसर ”
आती है मेरी तन्हाई में खुशबू-ऐ-हिना धीरे धीरे

Tanhaai Mein Khushboo-AE-Hina

Vo Haath Paraaye Ho Bhi Gaye Ab Door Ka Rishta Hai “Qaisar”
Aati Hai Meri Tanhaai Mein Khushboo-AE-Hina Dheere Dheere…


मेहँदी के वास्ते

मेहँदी के वास्ते वो लहू मांगते हैं रोज़
दिल देना उन को जान का बे-नामा हो गया

Mehndi Ke Vaaste

Mehndi Ke Vaaste Vo Lahoo Maangte Hain Roz
Dil Dena Un Ko Jaan Ka Be-Naamaa Ho Gayaa…


तेरी हिना में

शामिल है मेरा खून-ऐ-जिगर तेरी हिना में
यह काम हो तो अब खून-ऐ-वफ़ा साथ लिए जा

Teri Hena Mein

Shaamil Hai Meraa Khoon-E-Jigar Teri Hena Mein
Ye Kam Ho To Ab Khoon-AE-Vafaa Saath Liye Jaa…


तेरा रंग-ऐ-हिना

न मेरे ज़ख्म खिले हैं न तेरा रंग -ऐ -हिना
मौसम आये ही नहीं अब के गुलाबों वाले

Tera Rang-AE-Hina

Na Mere Zakhm Khile Hain Na Tera Rang-AE-Hina
Mausam Aaye Hi Nahin Ab Ke Gulaabon Vaale…


रंग-ऐ-हिना

रंग-ऐ-हिना के बोझ से उठना मोहाल है …
नाजुक हैं किस क़दर मेरे मेहबूब के पाओं

Rang-E-Hina

Rang-E-Hina Ki Bojh Se Uthna Mohaal Hai
NazukK Hain Kis Qadar Mere Mehboob Ke Paaon…


रंग-ऐ-हिना भी तेरा

हाय अब भूल गया रंग-ऐ-हिना भी तेरा
खत भी कभी खून से तहरीर हुआ करते थे . .

Rang-AE-Hina Bhi Tera

Haaye ab bhool gaya rang-AE-hina bhi tera
Khat bhi kabhi khoon se tehreer hua karte the…


मेहँदी लगा के बैठे हैं

वो जो सर झुका के बैठे हैं
हमारा दिल चुरा के बैठे हैं
हमने उनसे कहा हमारा दिल हमे लौटा दो
तो बोले , हम तो हाथों में , मेहँदी लगा के बैठे हैं

Mehndi Laga ke Baithe Hain

Woh jo sar jhuka ke baithe hain
Hamara dil chura ke baithe hain
Humne unse kaha hamara dil hume lota do
To bole, hum to hanthon mein, MEHNDI laga ke baithe hain…


किस्मत हीना की

लग के हाथों पर किसी के दुल्हन सा सजती है .
पीस जाती है खुद मगर ओरों को रंग जाती है
देखो तो किस्मत हीना की हर पल इंतज़ार में रहती है
लगेगी कब उसके हाथों में यही सोचती रहती है

Kismat Heena Ki

lag ke hathon par kisi ke dulhan sa sajati hai
Pis jati hai khud magar ouron ko rang jati hai
dekho to kismat heena ki har pal intzar mein rehti hai
Lagegi kab uske hathon mein yahi sochti rehti hai

Leave a Reply