तेरी खुशबू का एहसास – अक्स-ऐ-खुशबू हूँ उर्दू शायरी

अक्स -ऐ -खुशबू हूँ

अक्स -ऐ -खुशबू हूँ बिखरने से न रोके कोई
और बिखर जाऊं तो मुझे न समेटे कोई

काँप उठती हूँ मैं इस तन्हाई में
मेरे चेहरे पे तेरा नाम न पढ़ ले कोई

जिस तरह ख्वाब मेरे हो गए रेज़ा-रेज़ा
इस तरह से न कभी टूट के बिखरे कोई

मैं तो उस दिन से हरासां हूँ के जब हुक्म मिले
खुश्क फूलों को किताबों में न रखे कोई

अब तो इस राह से वो शख्स गुज़रता भी नहीं
अब किस उम्मीद से दरवाज़े से झांके कोई

कोई आवाज़ ,कोई आहात ,कोई चाप नहीं
दिल की गलिया बड़ी सुनसान हैं आये कोई

Aks-AE-Khushboo

Aks-AE-Khushboo Hoon Bikharne Se Na Roke Koi
Aur Bikhar Jaaun To Mujhe Na Samete Koi

Kaanp Uthti Hoon Main Iss Tanhaai Mein
Mere Chehre Pe Tera Naam Na Padh Le Koi

Jis Tarah Khwaab Mere Ho Gaye Reza-Reza
Is Tarah Se Na Kabhi Toot Ke Bikhre Koi

Main To Us Din Se Harasaan Hoon Ke Jab Hukm Mile
Khushk Phoolon Ko Kitabon Mein Na Rakhe Koi

Ab To Is Raah Se Wo Shakhs Guzarta Bhi Nahin
Ab Kis Ummeed Se Darwaaze Se Jaahnke Koi

Koi Aawaaz,Koi Aahaat,Koi Chaap Nahin
Dil Ki Galyaan Badi Sunsaan Hain Aaye Koi..


खुशबू की तरह आया वो

खुशबू की तरह आया वो तेज़ हवाओं में
माँगा था जिसे हम ने दिन रात दुआओं में
तुम चाट पे नहीं आये मैं घर से नहीं निकल
यह चाँद बहुत भटकता है सावन की घटाओं में

Khushboo ki Tarah Aaya wo

Khushboo ki Tarah Aaya wo tez Hawaaon mein
Manga tha jise hum ne Din Raat Duaaon mein
Tum Chat pe nahi aaye Main Ghar se nahi Nikla
Yeh Chaand bahut bhatka hai Saawan ki Ghataon mein..


खिलावत -ऐ -खुशबू

तेरे हुनर में खिलावत -ऐ -खुशबू सही मगर
काँटों को उम्र भर की चुभन कौन दे गया
“मोहसिन” वो कायनात -ऐ -ग़ज़ल है उससे भी देख
मुझ से न पूछ मुझ को यह फन कौन दे गया

Khilwat-AE-khushboo
 

Tere hunar mein khilwat-AE-khushboo sahi magar
Kaanton ko umar bhar ki chubhan kaun day gaya
“Mohsin” wo kaayinaat-ae-ghazal hai ussay bhi deikh
Mujh say na pooch mujh ko yeh fun kaun day gaya..


तेरी बात से खुशबु आये
 

तेरी हस्ती से तेरी ज़ात से खुशबु आये
तू जो बोले तो तेरी बात से खुशबु आये

तुझको देखों तो मेरी आँख महक सी जाये
तुझको सोचूं तो ख्यालात से खुशबु आये

तू चमेली है , नरगिस है के रात की रानी
तुझको छू लूं तो मेरे हाथ से खुशबु आये

Teri Baat Se Khushboo Aaye
 

Teri Hasti Se Teri Zaat Se Khushboo Aaye
Tu Jo Bole To Teri Baat Se Khushboo Aaye

TujhKo Dekhon To Meri Aankh Mehak Si Jaye
TujhKo Sochon To Khyalaat Se Khushboo Aaye

Tu Chameli hai, Nargis Hai Ke Raat Ki Rani
TujhKo Chuu Lon To Mere Hath Se Khushboo Aaye..


तेरे एहसास की खुशबू
 

हर याद हर एक बात अगर भूल भी जाएँ
बरसों हमें तड़पायेगी तेरे एहसास की खुशबू

तुम चाहे निगाहों से हर एक याद मिटा दो
धड़कन में रहेगी मेरी हर साँस की खुशबू

हर कतरा मोहब्बत का यूं सुलगेगा लब्बों पर
छा जाएगी जब तुझ पे मेरी प्यास की खुशबू

चाहत तो है चाहत न मिटी है न मिटेगी
खो जाये भला दूरी में हर आस की खुशबू

क्यों मेरी निगाहों से तू ओझल है मेरे यार
रख दिल पे ज़रा हाथ तेरे पास है खुशबू

Tere Ehsaas ki khushboo
 

Har yaad har ek baat agar bhool bhi jayen
barson humein tadpayagin tere ehsaas ki khushboo

tum chahe nigahoon se har ek yaad mita do
dharkan mein rahegi meri har sans ki khushboo

har Katra mohabbat ka yoon sulgega laboon par
cha jayegi jab tujh pe meri pyaas ki khushboo

chahat to hai chahat na miti hai na mite gi
khoo jaye bhala doori mein har aas ki khushboo

kyun meri nigahoon se tu oojhal hai mere yaar
rakh dil pe zara hath tere paas hai khushboo..

Leave a Reply