तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब – उर्दू शायरी फूल गुलाब का

तुझे पल भर को भी भूल जाने की कोशिश कभी कामयाब न हुई
तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब थी जो हवा चली तो महक उठी

बन के गुलाब

बन के गुलाब कांटे चुभा गया एक शख्स
हुआ चिराग तो घर ही जला गया एक शख्स

तमाम रंग मेरे और सारे ख्वाब  मेरे
फ़साना था के अफसाना बना गया एक शख्स

मैं किस हवा में उड़ूँ किस फ़िज़ा में लहराऊँ
दुखों के जाल हर जगह बिछा गया एक शख्स

इश्क़ में किसी के भुला रखा था इसे
मिले वो ज़ख़्म के फिर याद आ गया एक शख्स

खुला यह राज़ की आईना जहाँ है दुनिया
और इस जहाँ में मुझे तमाशा बना गया एक शख्स

 

Ban Ke Gulab

Ban ke Gulab kante chubha gaya ek shakhs
Hua Chirag to ghar hi jalaa gaya ek shakhs

Tamam rang mere aur sare khawab mere
Fasana tha ke afasana bana gaya ek shakhs

Main kis hawa mein udoon kis fiza mein lehraoon
Dukhon ke jaal har jagah bicha gaya ek shakhs

ishq mein kisi ke bhula rakha tha isse
Mille wo zakham ke phir yaad aa gaya ek shakhs

Khula yeh raaz ki ainaa jahan hai duniya
Aur is mein mujhe tamasha bana gaya ek shakhs


सूखे गुलाब मिलते हैं

सालों बाद न जाने क्या समां होगा
हम सब दोस्तों में से न जाने कौन कहाँ होगा
फिर मिलना हुआ तो मिलेंगे ख्बाबों में
जैसे सूखे गुलाब मिलते हैं किताबों में

Sookhe Gulab Milte Hain

Salon Baad Najane Kya Sama hoga
Hum Sab Dosto Mein Se Najane Kaun Kahan hoga
Phir Milna Hua to Milainge Khawabbon mein
Jaise Sookhe Gulab Milte Hain Kitabon Mein


अगर मैं तुम्हे गुलाब दूँ

अगर मैं तुम्हे गुलाब दूँ , तो कांटे भी मिलेंगे
अगर में तुम्हे चाँद दूँ ,तो दाग भी मिलेंगे
अगर तुम्हे शाम दूँ ,तो अँधेरा भी मिलेगा
अगर तुम्हे शमा दूँ ,तो परवाना भी मिलेगा
अगर तुम्हे खुशी दूँ ,तो आँसू मिलेंगे
अगर खुद को दूँ ,तो दर्द भरा दिल भी मिलेगा

Agar Main Tumhe Gulab Du

Agar Main Tumhe Gulab du, to Kaante Bhi Milenge
Agar Mein Tumhe Chaand du ,To Daag Bhi Milenge
Agar Tumhe Shaam Du,To Andhera Bhi Milega.
Agar Tumhe Shama Du,To Parwana Bhi Milega
Agar Tumhe Khusi Du,To Aansu Milenge
Agar Khud Ko Du,To Dard Bhara Dil Bhi Milega


हर गुलाब था ताज़ा

सारी उम्र में एक पल भी आराम का न था
वो जो दिल मिला किसी काम का न था
कलियाँ खिल रही थी हर गुलाब था ताज़ा
मगर कोई भी गुलाब मेरे नाम का न था

Har Gulab Tha Taza

Sari Umar Mein Ek Pal Bhi Aram Ka Na Tha
Wo Jo Dil Mila Kisi Kam Ka Na Tha
Kaliya Khil Rai Thi Har Gulab Tha Taza
Magar Koi Bhi Phool Mere Naam Ka Na Tha


पत्ती पत्ती गुलाब बन जाती

पत्ती , पत्ती गुलाब बन जाती
हर कली मेरा ख्वाब बन जाती
अगर आप डाल देती अपनी महकदा नज़रे इन पर
तो सुबह की ओस भी शराब बन जाती

Patti Patti Gulab Ban Jati

Patti, Patti Gulab Ban Jati
Har Kaali Mera Khwaab Ban Jati
Agar ap daal deti apni mehkda nazare in par
To Subha ki oss Bhi Sharab Ban Jati


एक गुलाब चुना हमने

एक दिल मेरे दिल को ज़ख़्म दे गया
ज़िन्दगी भर जीने की कसम दे गया
लाखों फूलो में से एक गुलाब चुना हमने
जो काँटों से भी गहरी चुभन दे गया

Ek Phool Chuna Hamne

Ek Dil Mere Dil Ko Zakham De Gaya
Zindagi Bhar Jeene Ki kasam De Gaya
Lakhon phoolo Mein Se Ek Phool Chuna Hamne
Jo Kaanton Se Bhi Gehri Chubhan De Gaya


जो खुद ग़ुलाब हो

आज सोचा के आपको जवाब में क्या दूँ
आप जैसे लोगो को खिताब क्या दूँ
कोई और फूल हो तो मुझ को नहीं मालूम
जो खुद ग़ुलाब हो उसे क्या ग़ुलाब क्या दूँ

Jo Khud Ghulab Ho

Aaj Socha Ke Jawab Kya dun
Ap Jaise Logo Ko Khitaab Kya dun
Koi Aur Phool Ho To Mujh Ko Nahi Maloom
Jo Khud Ghulab Ho usse kya Gulab dun


कहीं  गुलाब मिलेंगे

मोहब्बत भरी नज़रों में ख़्वाब मिलेंगे
कहीं  कांटे तो  कहीं  गुलाब मिलेंगे
मेरे दिल की किताब को पढ़ के तो देखो
कहीँ आपकी याद तो कहीं खुद आप मिलोगे

Kahin Gulab Milenge

mohabbat bhari Nazaron Mein Khawab Milenge
Kahi Kante To kahi Gulab Milenge
Mere Dil Ki Kitab Ko Padh Ke To Dekho
Kahi Apki Yaad To Kahi Khud Aap Milonge.


दुनिया गुलाब देख के कहती है

दुनिया गुलाब देख के कहती है
की कितना बदनसीब है यह जो काँटों में खिला है
पर कोई उन काँटों की नहीं सोचता
जिन्हें बड़े नसीब से एक फूल मिला है

Duniya Gulab Dekh Ke Kehti hai

Duniya Gulab Dekh Ke Kehti hai
Ki Kitna Badnasib Hai Yeh jo Kanto Mein Khila Hai
Par Koi Un Kanto Ki Nahi Sochta
Jinhe Bade Nasib Se ek Phool Mila Hai

Leave a Reply