तेरे बदलने के बावसफ भी तुझ को चाहा है – परवीन शाकिर

यह एतराफ़ भी

तेरे बदलने के बावसफ भी तुझ को चाहा है
यह एतराफ़ भी शामिल मेरे गुनाहों में है …

Yeh Eytraaf bhi

Tere badalney k bawasf b tujh ko chaha hai
Yeh eytraaf bhi shamil mere gunnah mein hai…


तो हर बंदा खुदा होता

ज़रुरत तोड़ देती है ग़रूर-ओ-बेनीआजी को
न होती कोई मजबूरी तो हर बंदा खुदा होता .

 

To har banda khuda hota

zaroorat tod daiti hai gharoor-o-beniazi ko
na hoti koi majboori to har banda khuda hota.

Hindi and urdu shayari – Parveen Shakir ki Shayari – to har banda khuda hota

नया दर्द एक दिल में जगा कर चला गया

नया दर्द एक दिल में जगा कर चला गया
कल फिर वो मेरे शहर में आ कर चला गया

जिसे ढूंढती रही मैं लोगो की भीड़ में
मुझ से वो अपना आप छुपा कर चला गया

में उसकी खामोशी का सबब पूछती रही
वो किस्से इधर उधर के सुना कर चला गया

यह सोचती हूँ कैसे भूलूंगी अब उसे
एक शख्स वो जो मुझ को भुला कर चला गया

Naya dard ek dil mein jaga kar chala gya

Naya dard ek dil mein jaga kar chala gya
Kal phir wo mere sheher mein aa kar chala gya

jisay dhondti rahi main logo ke bheed mein
Mujh se wo apna aap chupa kar chala gya

Mein uski khamooshi ka sbab pochti rahi
Wo qisy idher udher ke suna kar chala gya

Yeh sochti hun kaisy bhuloongi ab usy
Aik shaks wo jo mujh ko bhula kar chala gya

 

Leave a Reply