दिल की तलाशियाँ

ज़हर
 

बड़ा अजीब सा ज़हर था उसकी यादों में
सारी उम्र गुज़र गयी मुझे मरते मरते

Zehar
 

Bada Ajeeb sa Zehar tha uski Yaadon Mein
Saari Umar Guzar Gayi Mujhe Marte Marte!!!


दिल की तलाशियाँ
 

अपने सिवा बताओ और कुछ मिला है तुम्हे  फ़राज़
हज़ार बार ली है तुमने इस दिल की तलाशियाँ

Dil ki Talaashiyaan
 

Apne siwa Batao aur Kuch mila hai tumhe Faraz’
Hazaar baar Li hai tumne is dil ki Talaashiyaan…!


तेरे बगैर
 

में बस इतना जानता हूँ के तेरे बगैर
ज़िंदगी “हयात ” नहीं और मौत “निजात ” नहीं

Tere Bagair
 

Mein Bas Itna Jaanta hoon Ke Tere Bagair
Zindgi Hayaat Nahi Aur Mout Nijaat Nahi


उस के ख्याल
 

मैं उस के ख्याल से जाऊं तो कहाँ जाऊं ..
वो मेरी सोच के हर रस्ते पर नज़र आता है ..

Us ke khayal
 

Main us ke khayal se jaoon to kahan jaoon..
Wo meri soch ke har raste pay nazar aata hai..


कहीं न कफ़न के रहे
 

ऐ सनम तेरे हिजर में न सफर के रहे न वतन के ,
गिरे टुकड़े दिल के कहीं न कफ़न के रहे न दफ़न के ..

Kahin na kafan ke rahe
 

Aye sanam tere hijar mein na safar ke rahe na watan ke,
Girey tukrre dil ke kahin na kafan ke rahe na dafan ke..

Leave a Reply