दिल नहीं आप धड़कते हैं मेरे सीने में – WASI SHAH SHAYARI

मेरी वफ़ाएँ

कोई कहे उसे मेरी दुनिया याद करती हैं
उसे कहना उसे मेरी वफ़ाएँ याद करती हैं

मैं अक्सर आईने के सामने बेचैन रहती हूँ
किसी ने खत में लिखा है अदाएं याद आती हैं

उसे कहना खिजाएं आ गई हैं अब तो लौट आए
उसे कहना दिसंबर की हवाएँ याद करती हैं

उसे कहना के आँखों पर घनी बदली सी छाई है
जिन्हे दिल पर बरसना है घटाएँ याद करती हैं

गया था जब तू मेरी ख्वाहिशें भी साथ ले जाता
लहू में नाचती कुछ इल्तज़ा याद करती है

Meri Wafaain

Koi Kahe usey meri duniya yaad karti hain
usey kehna,usey meri wafaain yaad karti hain

main aksar ainey ke samney bechain rehti hoon
kisi ne khat mein likha hai,adayein yaad aati hain

usey kehna khazaain aa gai hain,ab to laut aaey
usey kehna December ki hawaain yaad karti hain

usey kehna ke ankhoo par ghani badli se chaai hai
Jinhey dil par barasna hai,ghataain yaad karti hain

gya tha jab tu meri khawahishain bhi saath ley jata
lahu main nachti kuch iltiza yaad karti hain..


एक यही आस
 

एक यही आस ही काफी है मेरे जीने में
दिल नहीं आप धड़कते हैं मेरे सीने में
तुझ से जो घाव मिले दिल से लगा लेते है
कितनी लजत् है तेरी ज़ात के ग़म पीने में

Ek Yahi Aas
 

Ek Yahi aas hi kafi hai Mere jeene Mein
DiL Nahi App dharakte hain Mere seene Mein
Tujh se jo ghabh Miley dil se laga lete hain
Kitni lazat hai teri zaat ke gham peene Main

Leave a Reply