नींद शायरी – 55+ Neend Shayari – Neend Poetry

नींद शायरी  – 55+ Neend Shayari –  Neend Poetry

नमस्कार दोस्तों आज का पोस्ट Shayari On Topics पर आधारित हैं इस पोस्ट में आप पढ़ सकते हैं 55+ Neend Shayari / Poetry को. जो उन सभी शायरी के चाहने वालो के लिए हैं.जो खूबसूरत वर्ड नींद पर बनी शायरी को Search कर रहे हैं. Shayari on Neend And Ishq, Neend Shayari  Romantic.
यह  पोस्ट उन्ही शायरी के चाहने वाले  लोगो के लिए हैं. जिनकी नींदे प्यार में उड़ गयी जिनको आज भी इंतज़ार हैं प्यार भरी सुकून की नींद का तो आईये पढ़ते हैं और शुरुआत करते हैं आज की पोस्ट का एक प्यारे से गागमे की प्यारी से लाइन.
मुझे चैन न आये, चैन न आये, चैन न ❌ आये
न जाने कहाँ दिल खो गया❗
नींद शायरी – 55+ Neend Shayari – Neend Poetry
1 ▪▪ 
नींद से क्या शिकवा
जो आती नहीं रात भर,
कसूर तो उस चेहरे का है,

जो सोने नही देता❗

2 ▪▪ 
कितने आँसू
एक साथ आंखों में आ जाते है,
नींद उड़ जाती है तब

जब उनका ख्याल आ जाता हैं❗

Neend Shayari – Neend Poetry

3 ▪▪ 
आज न नींद आई न ख्वाब
तुम जो ख्यालो मे बेहिसाब

4 ▪▪
ख़्वाब
आंखों से गए
नींद रातों से गई
वो गयी तो ऐसा लगा जिंदगी

हाथों से गई❗

5 ▪▪
नींद के शौक़ीन
 ज्यादा तो नहीं लेकिन,
तेरे ख्वाब न देखूं तो गुज़ारा

नहीं होता❗

6 ▪▪
तुमसे पहले भी
रातें हमारी बीतती थी
बिना नींद के ही आने से
इन आंखों को अब
जागने का एक मतलब मिल गया❗
7 ▪▪ 
मूदतों बाद उसे ख़्वाब में आते देखा
नींद में मर गए लेकिन
 ख़्वाब से निकले
नही हम❗
8 ▪▪ 
मैं दिन हूँ, मेरी शाम
तुम हो
मैं नीँद हूँ , मेरा ख़्वाब
तुम हो❗
मैं लब हूँ, मेरी बात
तुम हो
मैं तब हूँ  जब मेरे साथ
तुम हो❗
9 ▪▪ 
 रात तु मेरे सपनो मे आ
जाती हैं
उस रात नीद से उठना नही
चाहते है❗
10 ▪▪ 
नींद सुबह की लगती है सबको प्यारी,
उठना जरुरी भी, कि
जिम्मेदारी बहुत
सारी हैं❗
11 ▪▪ 
आँखो का
यूँ नींद से बगावत कर,
किसी की यादों में जागना भी

इश्क़ है❗

 

मिलना तो हो जाये ख्वाबों में भी,
पर इस कदर खुद को तड़पाना भी
इश्क़ है❗
12 ▪▪ 
मुझे भी
अब नींद की तलब नहीं रही
अब रातों को जागना अच्छा
लगता है,
मुझे नहीं मालूम वो मेरी किस्मत में है या नहीं
मगर उसे खुदा से माँगना अच्छा
लगता है❗
13 ▪▪ 
पगली
जागना भी मंजूर है
मुझे तेरी यादों मे.
रात भर
जितना तेरे एहसासों मे सुकून  हैं

.उतना उस नींद मे कहाँ❓

Neend Shayari  Romantic 

14 ▪▪ 
तन्हाईयों में  मुस्कुराना भी
इश्क है
इस बात को सबसे छुपाना भी
इश्क है❗
यु तो नींद नहीं आती हमें रात भर
मगर सोते-सोते जागना और जागते-जागते सोना भी
इश्क है❗
15 ▪▪ 
नींद भी नीलाम हो जाती है
दिलो के महफिलो मे
जनाब
 किसी को भुलाकर सो जाना
इतना असान नही होता❗
16 ▪▪ 
जो गुजारी न जा सकी
हम ने वो जिंदगी गुजारी
बिन तुम्हारे कभी नहीं आई
क्या मेरी नींद भी तुम्हारी
17 ▪▪ 
अधूरी मोहब्बत मिली  तो नींदें भी
रूठ गयी,
गुमनाम ज़िन्दगी थी जब
कितने सकून से सोया
करते थे❗
  18 ▪▪ 
ज़िंदगी भी
एक खेल ही है
बचपन मे कौआ उड़
,मैना उड़
जवानी में नींद उड़,
 चैन उड़
बुढापे में बाल उड़,
दांत उड़❗
  19 ▪▪ 
कहते हैं कि
इश्क में नींद उड़ जाती है,
तो कोई
हमसे भी इश्क कर, लो

कमबख्त मुझे नींद बहुत आती है❗

  20 ▪▪ 
गैर मुकम्मल सी
जिन्दगी,
वक्त कि बेतहाशा रफ्तार
.रात इकाई नींद दुहाई,
ख्वाब सैकडा दर्द
हजार❗
  21 ▪▪ 
मेरे कलम से
लफ्ज़ खो गए शायद
आज वो भी बेवफा हो गए
शायद
जब नींद खुली तो पलकों में पानी था
मेरे ख्वाब मुझपे रो गाए
शायद❗
  22 ▪▪ 
नीद में सपना देखा तों
ख्वाब बन गया
ख्वाबो में ही सही मिले आप
ज़िन्दगी भर का किस्सा
बन गया
नीद जब खुली तों ना सपना था
और ना कोई अपना था❗
  23 ▪▪ 
तु दिल से
ना जाये तो मैं क्‍या करू
तु ख्‍यालों
से ना जाये तो मैं क्‍या करू
कहते है
ख्‍वावों में होगी मुलाकात  उनसे
लेकिन नींद न आये तो मैं
क्‍या करू ❓
  24 ▪▪ 
नींद को
आज भी शिक़वा है मेरी
आँखो से
मैंने आने न दिया उसको कभी
तेरी याद से पहले❗
  25 ▪▪ 
ऊफ्फ्फ्फ
मोहब्बत कर ली
अब रातो मे नींद कैसे आएगी❗
  26 ▪▪ 
एहसास -ए -मोहब्बत क्या है❓
ज़रा हमसे पूछो
करवट
तुम बदलते हो
नींद मेरी खुल जाती है❗
  27 ▪▪ 
सपना
है आँखों  में
मगर नींद कहीं
और है
दिल तो हैं जिस्म में
मगर धड़कन कहीं

और है❗

Neend Shayari – Neend Poetry

  28 ▪▪ 
हम उन से मोहब्बत करके
दिन रात  सनम रोते है,
मेरी नींद
गयी मेरा चैन गया और

चैन से वो सोते है❗

Neend Shayari  Romantic 

  29 ▪▪ 
मोहब्बत में रात को नींद नही आती …
तो क्या हुआ..❓
हम भी मोहब्बत के खिलाडी हैं..
दोपहर को सो जाते हैं❗
  30 ▪▪ 
हमें भी नींद आ जाएगी हम भी सो ही जाएँगे
अभी कुछ बे-क़रारी है
सितारो तुम तो
सो जाओ❗
▪▪▪▪
क़तील शिफ़ाई
  31 ▪▪ 
रात भी नींद भी
कहानी भी
हाए क्या चीज़ है
जवानी भी❗
 ▪▪▪▪
फ़िराक़ गोरखपुरी
  32 ▪▪ 
भरी रहे अभी
आँखों में उस के नाम की नींद
वो ख़्वाब है तो यूँ ही देखने से गुज़रेगा❗
▪▪▪▪
ज़फ़र इक़बाल
  33 ▪▪ 
मुद्दत से
 ख़्वाब में भी नहीं नींद का ख्याल
हैरत में हूँ ये किस का मुझे इंतिज़ार है❗
▪▪▪▪
शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम

  34 ▪▪ 
हमारे
ख़्वाब चोरी हो गए हैं
हमें रातों को नींद आती नहीं है❗
▪▪▪▪

बख़्श लाइलपूरी

  35 ▪▪ 
तुम्हारे कभी नहीं आई
क्या मिरी नींद भी तुम्हारी है❗
▪▪▪▪
जौन एलिया
  36 ▪▪ 
आज फिर
नींद को आँखों से बिछड़ते देखा
आज फिर याद कोई चोट पुरानी आई❗
▪▪▪▪
इक़बाल अशहर
  37 ▪▪ 
अब आओ मिल के सो रहें
तकरार हो चुकी
आँखों में नींद भी है बहुत रात कम भी है❗
▪▪▪▪
निज़ाम रामपुरी
  38 ▪▪ 
ता फिर न इंतिज़ार में नींद आए
उम्र भर
आने का अहद कर गए आए जो ख़्वाब में❗
▪▪▪▪
मिर्ज़ा ग़ालिब
  39 ▪▪ 
आई होगी
किसी को हिज्र में मौत
मुझ को तो नींद भी नहीं आती❗
▪▪▪▪
अकबर इलाहाबादी
  40 ▪▪ 
इस सफ़र में नींद ऐसी खो गई
हम न सोए रात थक कर सो गई❗
▪▪▪▪
राही मासूम रज़ा
  41 ▪▪ 
जिस रात वो मेरे सपनो में
आ जाते है,
उस दिन
हम नींद से उठना नहीं चाहते है❗
  42 ▪▪ 
ऐ नींद,
तू कहाँ खो गई
किस झोपड़ी में
सो गई❗
दौलत ने बिछाए बिस्तर
तू ज़मीं पर ही
सो गई❗
  43 ▪▪ 
दिल कहता है, जल्दी से तुम्हें
एक नज़र देख कर
लौट आऊँ
नींद में मुस्कुराते हो तो बड़ा
प्यार आता है तुम पर❗
  44 ▪▪ 
सुकून
तो न जाने कहाँ खो गया है,
अब तो बस नींद के झरोखें आते है❗
  45 ▪▪ 
नींद भी
आने से इतराती है आज कल,
तुम से

ख्वाबो में मिलना जो है❗

Neend Poetry

  46 ▪▪ 
मैं
तेरे नाम का एक सपना हूँ
और तू ❓
तू मेरे हिस्से की नींद हैं
जो मुझसे दूर बहुत दूर रहती हैं❗
  47 ▪▪ 
तुम्हारे
ख्वाबों को गिरवी रखके
तकिये से रोज़ रात थोड़ी
नींद उधार लेता हूँ❗
  48 ▪▪ 
यू खाली पलकें झुका देने से
नींद नहीं आती
सोते वही लोग है,
जिनके पास किसी की याद नहीं होती❗
  49 ▪▪ 
नींद
से ज़्यादा प्यारे थे
उनको हम कभी
आंख भी खुली हो अब,
तो बात नहीं होती❗
  50 ▪▪ 
एक मुक़म्मल रात, थोड़ी सी नींद
और सिर्फ तेरी बात❗
  51 ▪▪ 
ना जगाओ
नींद से उस आशिक़ को
आज कई दिनों बाद सोया लगता है❗
  52 ▪▪ 
सो कर
सुकून पा लेते, लेकिन
नींद को हुक्म नही है तुम्हारा❗
  53 ▪▪ 
तुम्हें नींद
नहीं आती तो कोई और वजह होगी
अब हर ऐब के लिए
कसूरवार इश्क़ तो नहीं❗
  54 ▪▪ 
न करवटे थी न बेचैनियां थी,
क्या गजब की नींद थी
मोहब्बत से पहले❗
  55 ▪▪ 
यह प्यार का ही तो क़सूर है,
जो इन आँखो को नींद
 नामंज़ूर है❗
  56 ▪▪ 
लगता है
मेरी  नींद  का किसी पराये के साथ
चक्कर चल रहा है
सारी सारी रात गायब रहती है❗
  57 ▪▪ 
चलो नींद
के दफ्तर में  हाज़िरी लगा आते हैं,
वो सपनो में

आये तो ओवर टाइम भी  कर लेंगे❗

  58 ▪▪ 
कितने आँसू एक साथ आंखों में आ जाते है,
नींद उड़ जाती है
जब भी वो रातो को ख्यालों में
आ जाते है❗