पंजाबी शायरी – लेंखा विच बिछोड़े रह गए – Punjabi Shayari

लेंखा विच बिछोड़े

लेंखा विच बिछोड़े रह गए
अथरु रो रो थोड़े रह गए

इक न मनी उन्हें मेरी
हाथ भी मेरे जोड़े रह गए

जांदी वारी छड़ गया मैनू
पिज्हे वाल निचोड़े रह गए

फेर ओ कदे मुड़ नहीं आया
मोतिये दे फूल तोड़े रह गए

हुन्ह ते आ के मिल वे सजना
ज़िंदगी दे दिन थोड़े रह गए

 

Lekhan Vich Bichorey

Lekhan vich vichorey reh gaye
athro ro ro thorey reh gaye

Ik na manni unhee meri
Hath bhi meree jode reh gaye

Jandi vari chad gaya meenu
pijhey baal nechode reh gaye

pher o kade mud nahi aya
motiyee de phool thode reh gaye

hun ta aa ke mil weh sajna
Zindgi de din thode reh gaye…


चंगी गल नहीं

वेख -वेख हँसना , पर कुछ भी न कहना , चंगी गल नहीं
जानभूज़ के अनजान बने रहना , चंगी गल नहीं
प्यार करना , पर इजहार न करना , चंगी गल नहीं
किस्से दा प्यार तो विश्वास ही उठा देना , सच्ची ….चंगी गल नहीं

Changi Gal Nai

Vekh-vekh hasna, par kuch v na kehna, Changi gal nai
jab bujj ke anjan bane rehna, Changi gal nai
pyar karna, par ijhhar na karna, changi gal nai,
kisse da, pyar to vishwass hi utha dena, sachi……changi gal nai…


इक दिन मेरे अथरू

इक दिन मेरे अथरू मेरे तो पूछ बैठे
सानू रोज रोज क्यों रुलांदे हो , मैं बोलिया
मैं याद ता ओहनू करदा हाँ
तुसी अप्पे क्यों चले आंदे हो

Ikk Din Mere Athroo

Ikk Din Mere Athroo Mathon Puchh Baithe,
Saanu Roj Roj Kayon Bulaande Ho, Main boliyaa
Main Yaad Taan Ohnu Karda Haan,
Tussi aape Kyon Chale Aande Ho…


जिंद नू मुकाण लग पे

तेरी याद विच अथरु वहाँ लग पे
तेरी सोच विच निंद्रा गवाओं लग पे
यार तेरे जेहा लबना नहीं सानू होर कोई
इना सोचां विच जिंद नू मुकाण लग पे

Jind Nu Mukkan Laag Paee

Teri yaad vich athru wahaan lag pae
Teri soch vich nindra gawaon lag pae
Yaar tere jeha labna nahi sanu hor koi
Ena sochan vich jind nu mukkan lag pae..


इश्क़ दा गुंजल

बड़ा इश्क़ इश्क़ तू करदा हैं
कदी इश्क़ दा गुंजल खोल ता सही
तेनु मिटी विच रौल देवें
तू बोल दो प्यार दे बोल ता सही
प्यार घट ते दर्द हज़ार मिलदे
कदी इश्क़ दी टोकरी टोल ता सही

Ishaq Da Gooonjal

Bara ishaq ishaq tou karda
kadi ishaq da goonjal kohl tey sahi
tenu meti vich rol deyve
tou bol tou pyar day bol tey sahi
pyar gaht tey darad hazaar mildy
kadi ishaq nu tokri tol tey sahi​

Leave a Reply