पैगाम-ऐ-मोहब्बत शायरी

यूँ मिले के मुलाकात न हो सकी

यूँ मिले के मुलाकात न हो सकी
होंट खुले मगर कोई बात न हो सकी
मेरी खामोश निगाहें हर बात कह गई
और उनको शिकायत है के बात न हो सकी

Yun Mile ke Mulakaat Na Ho Saki

Yun mile ke Mulakaat na ho Saki
Hont khulay Magar koi Baat Na Ho Saki
Meri Khamosh Nigahen Har Baat keh gai
Aur Unko Shikayat Hai ke Baat Na Ho Saki


दिल की आवाज़ को इज़हार कहते हैं 

दिल की आवाज़ को इज़हार कहते हैं
झुकी निगाह को इक़रार कहते हैं
सिर्फ पाने का नाम इश्क़ नहीं
कुछ खोने को भी प्यार कहते हैं

 

Dil ki  Awaaz ko Izhaar Kehte Hain

Dil ki aawaz ko izhaar kehte hain
jhuki nigah ko iqrar kehte hain
sirf paane ka naam ishq nahin
kuch khone ko bhi pyar kehte hain


हम भी मोहब्बत करके गुनेहगार हो गए

हम भी मोहब्बत करके गुनेहगार हो गए
पहले फूल थे अब खाक हो गए
जब से देखा है तुम्हारे हसीं चेहरे को
हम भी तुम्हारी चाहत के तलबगार हो गए .

Hum Bhi Mohabbat Karke Gunehgar Ho Gaye

Hum bhi mohabbat karke gunehgar ho gaye
pehle phool the abk khak ho gaye,
jab se dekha hai tumhare hasin chehre ko,
hum bhi tumhari chahat k talabgar ho gaye.


उसने कहा चाँद खूबसूरत है या मै

उसने कहा चाँद खूबसूरत है या मै
मैंने कहा यह मै नहीं जनता
हाँ मगर जब तुम्हे देखता हूँ
तो चाँद को भूल जाता हूँ
और जब चाँद देखता हूँ तुम याद आते हो

Usne Kaha Chand Khubsurt Hai Ya Main

Usne Kaha Chand Khubsurt Hai Ya Main
Maine Kaha Ye Mai Nahi Janta
Han Magar Jab Tumhe Dekhta Hon
To Chand Bhol Jata Hon
Aur Jab Chand Dekhta Hon Tum Yad Ate Ho


खुद को इस दिल में बसाने की इजाज़त दे दो

खुद को इस दिल में बसाने की इजाज़त दे दो ,
मुझ को तुम अपना बनाने की इजाज़त दे दो ,
तुम मेरी ज़िन्दगी का एक हसीं लम्हा हो ,
फूलो से खुद को सजाने के इजाज़त दे दो ,
मैं कितना चाहता हूँ किस तरह बताऊ तुम्हे ,
मुझे ये आज बताने की इजाज़त दे दो ,
तुम्हारी झील सी आँखों और चाँद सा चेहरा
मुझे ये शाम सजाने की इजाज़त दे दो ,
मुझे क़ैद कर लो अपनी मोहबत मैं
या मुझे मोहबत करने की इजाज़त दे दो

Khud Ko is Dil Me Basaane Ki Ijazat De Do

Khud Ko is Dil Me Basaane Ki Ijazat De Do
Mujh Ko Tum Apna Banane Ke Ijazat De Do
Tum Meri Zindagi Ka Ek Haseen Lamha Ho
Phoolo Se Khud Ko Sajane Ke ijazat De Do
Main Kitna Chahta Hon Kis Tarha Batao Tumhe
Mujhe Ye Aaj Batane Ke Ijazat De Do
Tumhari jhil Si Aankhon aur Chand Sa Chehra
Mujhe Ye Sham sajane ki ijazat de do
mujhy qaid kar lo apni mohabat main ya mujhe
mohabat karne ki ijazat de do


एक मुस्कुराहट तू मुझे एक बार दे दे

एक मुस्कुराहट तू मुझे एक बार दे दे
ख्वाब में ही सही एक दीदार दे दे .
बस एक बार कर ले तू आने का वादा
फिर उम्र भर का चाहे इंतज़ार दे दे

Ek Muskurahat Tu Muhje Ek Baar De De

Ek muskurahat tu muhje ek baar de de
khwab mein hi sahi ek deedar de de.
Bas ek baar kar le to aane ka wada
phir Umar Bhar ka chahe intezar de de

Leave a Reply