प्यार का इज़हार शायरी – Valentine’s Romantic Shayari

“उन्हें ये ख्वाहिश के हम ज़ुबाँ से इज़हार करे
हमें यह आरज़ू के वो दिल की ज़ुबाँ समझ लें“
 
प्यार का इज़हार
 

उन को चाहना मेरी मोहब्बत है
उन्हें कह न पाना मेरी मजबूरी है
वो खुद क्यों नही समझता मेरे दिल की बात को
क्या प्यार का इज़हार करना ज़रूरी है

Pyar Ka Izhaar
 

Un ko chahna meri mohabbat hai
Unhe keh na pana meri majboori hai
Wo khud kyon nhi samjhta mere dil ki baat ko
Kya pyar ka izhaar karna zaroori hai


मोहब्बत का इज़हार
 

दिल यह मेरा तुमसे प्यार करना चाहता हैं
अपनी मोहब्बत का इज़हार करना चाहता है
देखा हैं जब से तुम्हे ऐ मेरे हमदम
सिर्फ तुम्हारा ही दीदार करना चाहता है

Mohabbat Ka Izhaar
 

Dil yeh mera Tumse Pyar karna chahta hain
Apni Mohabbat ka izhaar karna chahta hai
Dekha hain jab se Tumhe ae mere humdam
Sirf tumhara hi Dedaar karna chahta hai..


दिल की आवाज़
 

दिल की आवाज़ को इज़हार कहते है
झुकी निगाह को इकरार कहते है
सिर्फ पाने का नाम मोहब्बत नहीं है यारो
कुछ खो कर पाने को भी प्यार कहते है

Dil Ki Awaaz
 

Dil ki awaaz ko izhaar kehte hai
Jhuki nigaah ko ikarar kehte hai
Sirf paane ka naam mohabbat nahi hai
Kuch kho kar pane ko bhi pyaar kehte hai..


तुझसे इज़हार किया
 

हर घडी तेरा दीदार किया करते हैं
हर ख्वाब में तुझसे इज़हार किया करते हैं
दीवाने हैं तेरे हम यह इक़रार करते हैं
जो हर वक़्त तुझसे मिलने की दुआ किया करते हैं

Tujse Izhaar Kiya
 

Har Ghadi Tera Dedaar Kiya Karte Hain
Har Khwaab Mein tujse izhaar Kiya Karte Hain
Diwaane hain Tere Hum Yeh Iqraar Karte Hain
Jo Har Waqat Tujse Milne Ki Dua Kiya Karte Hain..


इज़हार-ऐ-इश्क़
 

इश्क़ वही है जो हो एकतरफा हो
इज़हार-ऐ-इश्क़ तो ख्वाहिश बन जाती है
है अगर मोहब्बत तो आँखों में पढ़ लो
ज़ुबान से इज़हार तो नुमाइश बन जाती है

Izhaar-Ae-Ishq
 

Ishq wahi hai jo ho ektarfa ho
Izhaar-ae-Ishq to khwahish ban jaati hai
Hai agar mohabbat to aankho mein pad lo
Zuban se izhaar to numaish ban jaati hai..


इज़हार-ऐ-मोहब्बत
 

दिल की आवाज़ को इज़हार-ऐ-इश्क़ कहते हैं
झुकी निगाहों को इक़रार-ऐ-इश्क़ कहते हैं
सिर्फ ज़ुबान से कहना ही इज़हार-ऐ-मोहब्बत नहीं होता
दबे होंटों की मुस्कराहट को भी इक़रार-ऐ-इश्क़ कहते हैं

Izhaar-Ae-Mohabbat
 

Dil Ki Aawaz Ko Izhaar-ae-Ishq Kahte Hain
Jhuki Nighahon Ko Iqraar-ae-Ishq Kahte Hain
Sirf zuban se kahna hi IZHAR-ae-Mohabbat Nahi hota
Dabe honton ki muskurahat ko bhi Iqraar-ae-Ishq kahte hain..


हाय मेरा यार कमाल
 

नहीं करता इज़हारे-ऐ-इश्क़ वो
पर रहता है मेरे करीब है वो
देखूँ उसकी आँखों में तो शर्मा जाता है वो
हाय मेरा यार भी कितना कमाल है

Haaye Mera Yaar Kamaal
 

Nahi karta Izhaare-ae-Ishq wo
Par rehta hai mere kareeb hai
Dekhoon uski ankhoo mein to sharma jaata hai wo
Haaye mera yaar bhi kitna kamaal hai..


वो इक़रार-ऐ-इश्क़ नहीं करते
 

हया के परदे में वो इज़हारे -ऐ -इश्क़ नहीं करता
जब चाहते है उसे हाल-ऐ-दिल सुनाना
आ जाता है हमारे बीच हया का पर्दा
इसलिए वो इक़रार-ऐ-इश्क़ नहीं करते

Wo Iqraar-Ae-Ishq Nahi Karte
 

Hya ke parde mein wo Izhare-ae-Ishq Nahi karte
Jab chahte hai usse haal-ae-dil suna na
Aa jata hai hamare bich Hya ka parda
Isliye wo Iqraar-ae-Ishq Nahi karte..


मोहब्बत का इज़हार न करना
 

कहा था तुम से मेरा इंतज़ार करना
दुनिया चाहे जो कहे तुम ऐतबार न करना
दिन रात कट रहे हैं अब तो उसी के ख्यालो में
वो लम्हें , वो रातें ,उनको याद बार बार न करना
ज़िन्दगी तनहा ही सही , कट रही है अब तक
किसी ने कहा था , मोहब्बत का इज़हार न करना

Mohabbat Ka Izhaar Na Karna
 

Kaha tha tum se mera intezaar karna
Dunya chahe jo kahe tum aitebar na karna
Din raat kat rahe hein ab to ussi ke khyalo mein
Wo lamhein wo ratein,unko yaad bar bar na karna
Zindagi tanha hi sahi , kat rahi hai ab tak
kis ne kaha tha, mohabbat ka izhaar na karna..


हम भी प्यार का इज़हार करेंगे
 

हम भी प्यार का इज़हार करेंगे
तेरी इश्क़ में जान भी निसार करेंगे

देख के जलेगी दुनिया सारी
इस कदर तुझसे प्यार करेंगे

देंगे सलामी सब आशिक़ हमको
जब प्यार को हम बयाँ करेंगे

दौलत और शोहरत का क्या है काम
तेरी ख़ुशी में खुद को मिटा दूँ मैं

हर घडी हो बस तेरा ही दीदार
वक़्त से हम यही इल्तिजा करेंगे

साये की तरह तुझसे लिपटे रहेंगे
दुनिया की नज़रों से तुझे बचाया करेंगे

Hum Bhi Pyaar Ka Izhaar Karenge
 

Hum Bhi Pyaar Ka Izhaar Karenge
Teri ishq mein Jaan Bhi Nisaar Karenge

Dekh Ke Jalegi Duniya Saari
Iss Kadar tujse pyar Karenge
Denge Salaami Sab Humko
Jab Pyaar Ko Hum Bayaan Karenge

Daulat Aur Shaurat Ka Kya Hai Kaam
Teri Khushi Mein Khud ko mita doon main

Har Ghadi Ho Bus Tera hi Deedar
Waqt Se Hum Yahi Iltijaa Karenge

Saaye Ki Tarah Tujhse Lipte Rahenge
Duniya Ki Nazaro Se Tujhe Bachaya Karenge

Leave a Reply