प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना | Sansad Adarsh Gram Yojana

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2 अक्टूबर को ग्रीन इंडिया, क्लीन इंडिया के मकसद से स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की इसके बाद उन्होनें गांवों को स्वच्छ और विकसित बनाने के उद्देश्य से 11 अक्टूबर, 2014 को प्रधानमंत्री सांसद ग्राम योजना – Sansad Adarsh Gram Yojana की शुरुआत की।

प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना – Sansad Adarsh Gram Yojana

यह योजना नरेन्द्र मोदी की एक प्रतिष्ठित गांव विकास योजना है जो कि सामाजिक, सांस्कृतिक, आर्थिक और विकास समेत गांवों के पूरे विकास पर आधारित है।

प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत करीब 2500 गांवों को 2019 तक इस योजना से जोड़े जाना का लक्ष्य है। इस योजना की एक अनोखी और बेहद खास बात यह है कि इसके तहत देश के सभी सांसदों ने एक गांव को गोद लिया और गोद लिए गए गांव में बुनियादी जरूरतों के हिसाब से विकास करवाया।

आपको बता दें कि करीब 800 सांसद हैं अगर हर एक सासंद तीन गांवों को गोद लेता है और गांवों की विकास की जिम्मेदारी लेता है तो 2019 तक 2500 गांवों को कवर करने का प्रधानमंत्री का मकसद पूरा हो सकता है। वहीं इस कार्यक्रम के तहत राज्य सरकारें, ग्राम पंचायतें, अपनी काफी अहम भूमिका निभा रहे हैं।

प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना का मुख्य लक्ष्य महात्मा गांधी की व्याख्या पर आधारित है।

प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना के अंर्तगत सांसद को अपने निर्वाचन क्षेत्र से अपनी पसंद के जिले की ग्रामीण इलाके से ग्राम पंचायत का चयन करना होता है। वहीं आपको बता दें कि जिस शहरी निर्वाचन क्षेत्रों में जहां ग्राम पंचायत नहीं है तो उस केस में सांसद आस-पास के ग्रामीण निर्वाचन क्षेत्र से भी ग्राम पंचायत को गोद ले सकता है और उसमें विकास करवा सकता है।

प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना के मुख्य उद्देश्य – Purpose of Prime Minister Sansad Adarsh Gram Yojna

इस योजना का मुख्य उद्देश्य यह है कि जो भी ग्राम पंचायत सांसद की तरफ से गोद ली गई हो उसका पूरा विकास करवाए और विकास के काम में तेजी लाए जिससे वहां रह रहे लोगों को इस योजना का लाभ मिल सके।

  • प्रधानमंत्री सांसद ग्राम योजना का मकसद यह है कि जो भी ग्राम पंचायत सांसद ने चुनी है उस ग्राम पंचायत में रह रह लोगों के जीवन स्तर में सुधार लाना और ज्यादा से ज्यादा विकास करवाना ताकि ग्राम पंचायत एक आदर्श ग्राम पंचायत बन सके।
  • प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना का मुख्य लक्ष्य गोद ली गई ग्राम पंचायत में ज्यादा से ज्यादा विकास करना है कि भले ही ये विकास शिक्षा में हो, अच्छे स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करना हो या फिर रोड कनेक्टिविटी के लिए हो।
  • प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना का मुख्य उद्देश्य पिछड़ी हुई ग्राम पंचायतें जिनमें विकास करवाने के साथ रोजगार के अवसर बढ़ाना भी है। जिससे ज्यादा से ज्यादा युवाओं को रोजगार मिल सके और वे आर्थिक रूप से मजबूत हो सकें।
  • इस योजना के तहत निर्वाचित सांसद को अपनी पसंद की ग्राम पंचायत में बुनियादी जरूरतों को सुविधाओं पर खास ध्यान देना होगा ताकि वहां रह रहे लोगों को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हो इसके साथ ही ग्राम पंचायत में अच्छा विकास हो सके।
  • गोद ली गई ग्राम पंचायत में अगर असमानता है तो इस योजना के तहत सांसद की जिम्मेदारी बनती है कि असमानतओं को कम करना इसके साथ ही सभी में समानता का भाव पैदा करना।
  • प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत सांसद की तरफ से गोद ली गई ग्राम पंचायत में सांसद को ये भी ध्यान रखना होगा कि ये योजना वहां रह रहे लोगों के लिए कितनी लाभकारी साबित हो रही है।
  • प्रधानमंत्री सांसद ग्राम योजना का मुख्य उद्देश्य है अधिकारों और हक की प्राप्ति करना इसका मतलब जो भी ग्राम पंचायत अपने अधिकारों से वंचित है उसे उसके पूरे अधिकार दिलावाना।
  • प्रधानमंत्री सांसद ग्राम योजना का मकसद समाजिक गतिशीलता को भी बढ़ावा देना है यानि की जो भी सामाजिक कार्यों में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेना है जिससे ही एक-दूसरे की भावना का विकास हो सके।
  • इस योजना का उद्देश्य सामाजिक पूंजी भी है इसका मतलब है कि आपसी तालमेल बिठाना।
  • प्रधानमंत्री सांसद ग्राम योजना के तहत ग्राम पंचायत के विकास के लिए उन्हें प्रोत्साहित करना भी बेहद जरूरी है इसके लिए अगर स्थानीय स्तर के विकास और प्रभावी मॉडल इस तरह बनाने की जरूरत है जिससे पंचायत प्रेरित और प्रोत्साहित होकर उन मॉडल को सीखने और अपनाने के लिए तैयार हो जाएं।
  • इस योजना के तहत गोद ली गई आदर्श ग्राम पंचायत का मकसद स्ंथानीय विकास के ऐसे केन्द्रों के रूप में विकसित करना है जिससे कि दूसरे ग्राम पंचायत भी प्रशिक्षित हो सकें और इस पर अमल कर सकें।
  • इस योजना के तहत सांसद द्धारा विकास कामों के लिए सारे महत्वपूर्ण कदम उठाने चाहिए जिससे ग्राम पंचायत में पूरा विकास हो सके।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना महात्मा गांधी के विकास की अवधारणा पर आधारित है, इसका मतलब, इस योजना के तहत सांसद द्धारा गोद ली गई ग्राम पंचायत में विकास के साथ-साथ उसे मॉडल गांव बनाना भी है जैसे की इस ग्राम पंचायत में सामाजिक, आर्थिक, व्यक्तिगत विकास के साथ बुनियादी सुविधाएं, सेवाएं, सुरक्षा भी शामिल हैं।

प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना में विकास कार्यों पर जोर – Emphasis on development works in Prime Minister Sansad Adarsh Gram scheme

सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत सांसद की तरफ से चुनी गई ग्राम पंचायत में कई विकास के काम करवाए जाते हैं ताकि ग्राम पंचायत एक आदर्श ग्राम पंचायत बन सके और उस ग्राम पंचायत में रह रहे लोगों को सभी सुविधाएं मिल सकें, हम आपको आदर्श ग्राम पंचायत में करवाए जाने वाले विकास कामों की सूची नीचे दे रहे हैं जो कि इस प्रकार हैं –

  • इस योजना के तहत ज्यादा से ज्यादा स्कूल खोले जाने पर ज्यादा जोर दिया जाता है ताकि उस ग्राम पंचायत का विकास हो सके।
  • चुनी गई ग्राम पंचायत में लोगों को शिक्षा के प्रति जागरूक करने जोर दिया जाता है जिससे शिक्षा का स्तर बढ़ सके और ज्यादा से ज्यादा लोग शिक्षित हो सकें।
  • प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के अंतर्गत पंचायत भवन, चौपाल और धार्मिक स्थलों के विकास कामों पर भी सांसद द्धारा खासा बल दिया जाता है।
  • ग्राम पंचायत एक मॉडल ग्राम पंचायत बन सके इसके लिए सभी का ध्यान रखा जाता है इसलिए इसके तहत गर्भवती महिलाओं के लिए पोषक आहार की व्यवस्था करवाने पर भी ज्यादा जोर दिया जाता है ताकि गर्भवती महिला को किसी तरह की शारीरिक समस्या नहीं हो और वो स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सकें।
  • इस योजना के तहत ग्राम पंचायत में गोबर गैस के लिए सार्वजनिक प्लांट लगाने पर भी बल दिया दिया है।
  • प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत स्कूलों में मिड-डे मील बांटने को भी खासा महत्व दिया जाता है, ज्यादा से ज्यादा स्कूलों में मिड-डे मील बांटने की कोशिश रहती है ताकि बच्चों को अच्छी क्वालिटी के भोजन के साथ समय पर भोजन प्राप्त हो सके।
  • इस योजना के तहत किसानों के भी विकास का खासा ध्यान रखा जाता है, इसके अंतर्गत किसानों के लिए ड्रिप इरिगेशन की सुविधा दिए जाने पर काफी काम किया जाता है।

प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना की विशेषताएं – Characteristics of Prime Minister Sansad Adarsh Gram Yojana

  • प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना की खास बात यह है कि इस योजना का पूरा ब्लूप्रिंट ग्रामीण विकास मंत्रालय की तरफ से नीचे लिखी गई विशेषताओं के साथ तैयार किया गया है –
  • इस योजना की खास बात ये है कि मनोनीत सांसद को अपने निर्वाचन क्षेत्र से अपने पसंद के गांव को ही अपनाना चाहिए जो कि अपने या उसके ससुराल में नहीं होना चाहिए, इसके साथ ही सांसदों को सिर्फ आसपास के ग्रामीण इलाकों को ही चुनना है।
  • सांसद की तरफ से चुनी गई ग्राम पंचायत के लिए उचित योजना लागू करके गरीब परिवारों को गरीबी से छुटकारा दिलाने के लिए सशक्त बनाने पर जोर दिया जाना चाहिए।
  • प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत लैंगिक समानता, महिलाओं को सशक्त बनाना, सामाजिक न्याय और साफ-सफाई पर जोर देने के साथ-साथ गांव को मॉडल गांवों में बदलने के लिए सभी आधारभूत विकास देने पर केन्द्रित हैं।
  • इस योजना के तहत हर गांव में जिनमें लोगों के लिए रहने के लिए घर नहीं है उनके लिए पक्के घर की व्यवस्था की जाएगी इसके साथ ही स्वच्छता सुविधाओं का खास ध्यान दिया जाएगा।
  • प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत हर गांव में शिक्षा के स्तर में सुधार किया जाएगा, मॉडर्न स्कूल खोले जाएंगे जिसमें आईटी-सक्षम कक्षा, ई-पुस्तकालय और वेब आधारित शिक्षण शामिल की जाएगी। आपको बता दें कि क्लास 10th तक हर विघार्थी के पास शिक्षा की सभी सुविधाओं की पहुंच होगी।
  • इस योजना का मुख्य मकसद ग्रामीण क्षेत्रों में रह रहे लोगों के जीवन स्तर में सुधार लाना है इसलिए इसके तहत स्वास्थ्य कार्ड, चिकित्सा परीक्षा और कुल टीकाकरण के साथ सभी को बुनियादी सुविधाओं मुहैया कराना है।
  • आपको बता दें कि इसके अलावा भी सार्वजनिक क्षेत्रों में CCTV कैमरे समेत पेयजल की सुविधा, ग्रामीण इलाकों को मुख्य सड़क से जोड़ना, सभी घरों में बिजली की आपूर्ति समेत गांवों में लाइब्रेरी, फोन सुविधा और इंटरनेट कनेक्टीविटी से भी जोड़ना इस योजना का मुख्य मकसद है जिसे उपलब्ध करवाने के लिए सांसद द्दारा खासा ध्यान दिया जाता है।

प्रधानमंत्री सांसद ग्राम योजना के तहत ई- गवर्नेंस पर भी दिया जोर – Emphasis on e-Governance under the Prime Minister’s Sansad Adarsh Gram

इस योजना के तहत ई-गर्वनेंस पर ज्यादा जोर दिया गया इसके लिए सभी ग्रामीणों के आधार कार्ड के प्रावधान को भी सुनिश्चित किया जाएगा।

इस तरह की योजना सामाजिक सुरक्षा, वृद्धावस्था समेत अक्षमता और विधवा पेंशन के लिए योग्य परिवारों को सार्वजनिक वितरण प्रणाली के लिए सार्वभौमिक पहुंच प्रदान करेगी।

वाकई प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तरफ से शुरु की गई ये योजना काफी सराहनीय है इससे न सिर्फ ग्रामीण इलाकों में रह रहे लोगों कोा जीवन स्तर सुधरेगा बल्कि ग्राम पंचायतों का भी विकास होगा। जिससे वे एक मॉडल ग्राम पंचायत के रुप में उभरेंगी।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत खेल आइकन सचिन तेंदुलकर ने भी एक गांव गोद लिया था। जिसमें काफी विकास भी करवाया इसके अलावा भी कई सासंदों ने इस योजना में बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया और इसे सफल बनाने प्रयास कर रहे हैं।

Leave a Reply