फिर यही ग़ज़ल लिखोगे तुम

बहुत याद आते है

न जाने वो क्यों इतना याद आते है ,
उसकी सूरत आँखों से क्यों नहीं निकल पाती है ,
जितना भुलाऊँ उसको उतना याद आती है ..

Bahut Yaad aate hai

na jane wo kyu itna yaad aate hai,
uski surat aankho se kyo nahi nikal paati hai,
jitna bhulau usko utna yaad aati hai..


फिर यही ग़ज़ल लिखोगे तुम

कल जो जाना मैंने तुम्हारा प्यार
तब वक़्त ने न दिया मेरी किस्मत का साथ
फिर मेरी याद मैं तब महल बनाओगे तुम
फिर यही ग़ज़ल लिखोगे तुम

Phir yehi gazal Likhooge tum

kal jo jana mein ne tumhara payar
tab waqat ne na dya meri kismat ka sath
phir meri yaad mein tab mahal banayoogay tum
phir yehi gazal likhwayogay tum!!


उसकी यादें

उसकी यादें दिल को दर्द दे जाती हैं
दिल नहीं चाहता जब याद करना उसको ,
फिर भी वो किसी राह पर नज़र आ जाता है

Uski yaadein
 

uski yaadein dil ko dard de jati hain
dil nahi chahta jab yaad karna usko,
phir bhi wo kisi rah par nazar aa jata hai!!


याद बहुत आओगे तुम
 

याद रखना पछताओगे एक दिन तुम
पर याद बहुत आओगे तुम
पर हम तभ न होंगे शायद
तभ यही गीत शायद गुनगुनाओगे तुम
फिर याद बहुत आओगे तुम

Yaad Bahut ayoge tum
 

yaad rakhna pachtaoge ek din tum
par yaad bahut ayoge tum
par hum tabh na hongay shyad
tabh yehi geet shyed gungunaoge tum
phir yaad bahut ayogay tum!!


किसी बेवफा की याद में
 

न रोया कर सारी सारी रात किसी बेवफा की याद में ,
वो खुश है अपनी दुनिया मैं तेरी दुनिया को उजाड़ कर!!!

Kisi bewafa ki yaad mein
 

Na roya kar sari sari raat kisi bewafa ki yaad mein
wo khush hai apni dunya mai teri dunya ko ujad kar!!


आहें भरता है कोई
 

याद में तेरी आहें भरता है कोई
हर सांस के साथ तुझे याद करता है कोई
मौत सच्चाई है एक रोज आनी है
लेकिन तेरी जुदाई में हर रोज़ मरता है कोई!!

Aahen Bharta Hai Koi
 

Yaad Me Teri Aahen Bharta Hai Koi
Har Saans Ke Saath Tujhe Yaad Karta Hai Koi
Maut Sachai Hai Ek Roj Aani Hai
Lekin Teri Judaai Me Har Roz Marta Hai Koi

Leave a Reply