फूलों की तरह बिखर जाओ किसी दिन

चेहरे पे मेरे जुल्फों को फैलाओ किसी दिन;
क्यूँ रोज गरजते हो बरस जाओ किसी दिन;
खुशबु की तरह गुजरो मेरी दिल की गली से;
फूलों की तरह मुझपे बिखर जाओ किसी दिन !!

Chehre Pe Mere Zulfo Ko Failao Kisi Din;
Kyun Roz Garajate Ho, Baras Jao Kisi Din;
Khushbu Ki Tarah Gujro Mere Dil Ki Gali Se;
Phoolon Ki Tarah Mujhpe Bikhar Jao Kisi Din !!

Leave a Reply

%d bloggers like this: