बारिशों के मौसम में – शायरी

बारिशें नहीं रुकतीं
 

बारिशों के मौसम में , तुम को याद करने की
आदतें पुरानी हैं

अब की बार सोचा है , आदतें बदल डालें
फिर ख्याल आया के

आदतें बदलने से  बारिशें नहीं रुकतीं..

Baarishain Nahin Ruktee
 

Barishon ke mousam mein, Tum ko yaad karnay ki
Aadatain purani hain

Ab ki baar socha hai, Aadatain badal dalain
Phir khayal aaya ke

Aadatain badalnay say, Baarishain nahin ruktee..


बारिशों से दोस्ती
 

ये बारिशों से दोस्ती अच्छी नहीं  “फ़राज़”
कच्चा तेरा मकान है कुछ तो ख़याल करो

BAARISHON SE DOSTI
 

YEH  BAARISHON SE DOSTI ACHI NAHI FARAAZ
KACHA TERA MAAKAN HAI KUCH TO KHAYAAL KER..


वो तेरे नसीब की बारिशें
 

वो तेरे नसीब की बारिशें किसी और छत पे बरस गई
दिल बेखबर मेरी बात सुन , उससे भूल जा , उससे भूल जा .

Woh Tere Naseeb Ki Barishain
 

Woh Tere Naseeb Ki Barishain Kissie Aur CHat pe Baras Gayein
Dil Bekhabar Meri Baat Sun, Ussay Bhool Ja, Ussay Bhool Jaa…

Leave a Reply