मुहब्बत का एहसास – Romantic Shayari

प्यार का अंजाम कौन सोचता है ,
चाहने से पहले नियत कौन देखता है .
मुहब्बत है एक अँधा एहसास ,
करते हैं सब पर मुकाम कौन जानता है

हिंदी और उर्दू शायरी – मुहब्बत का एहसास की शायरी – प्यार का अंजाम कौन सोचता है

Pyar ka anjam kaun sochta hai,
Chahne se pahle niyat kaun dekhta hai.
Mohabbat hai ek andha ehsas,
Karte hain sab par mukam kaun janta hai

Hindi and urdu shayari – Muhabbat ka Ehsas Shayari – Na koi ilzaam, Na koi tanz, Na koi ruswai Mir

किस्मत से अपनी मुझको हमेशा शिकायत रहेगी ,
जो न मिल सका उससे मुहब्बत रहेगी ,
कितने ही क्यों न आ जाएं रहो में ,
फिर भी दिल को उसी से चाहत रहेगी

हिंदी और उर्दू शायरी – मुहब्बत का एहसास की शायरी – किस्मत से अपनी मुझको हमेशा शिकायत रहेगी

Kismat se apni mujko hamesha Shikayat rahegi,
Jo na mil ska usse mohabbat rahegi,
kitne hi kyun na aa jaye raho mein,
Phir bhi dil ko usi se chahat rahegi

Hindi and urdu shayari – Muhabbat ka Ehsas Shayari – Kismat se apni mujko hamesha Shikayat rahegi

माना की तुम्हें मुझसे ज्यादा ग़म होगा ,
मगर रोने से यह ग़म कभी न काम होगा ,
जीत ही लेंगे दिल की नाकाम बाजियां हम ,
अगर मुहब्बत में हमारी दम होगा …

हिंदी और उर्दू शायरी – मुहब्बत का एहसास की शायरी – माना की तुम्हें मुझसे ज्यादा ग़म होगा

Mana Ki Tumhein Mujhse Jyada Gham Hoga,
Magar Rone Se Yeh Gham Kabhi Na Kam Hoga,
Jeet Hi Lenge Dil Ki Nakam Baaziyan Hum,
Agar Mohabbat Mein Hamari Dam Hoga

Hindi and urdu shayari – Muhabbat ka Ehsas Shayari – Mana Ki Tumhein Mujhse Jyada Gham Hoga

जिस बस में बैठी हो हसीनाएं
उस बस के सीसे चिटक ही जाते है
ड्राइवर चाहे जितनी तेज़ चलाये बस
दीवाने तो फिर भी लटक ही जाते है

हिंदी और उर्दू शायरी – मुहब्बत का एहसास की शायरी – जिस बस में बैठी हो हसीनाएं

Jis Bus Me Baithi Ho Hashinaye
Us Bus Ke Sise Chitak Hi Jate He
Driver Chahe Jitni Tez Chalaye Bus
Diwane to Fir Bhi Latak Hi Jate He

Hindi and urdu shayari – Muhabbat ka Ehsas Shayari – Jis Bus Me Baithi Ho Hashinaye

इस बहते दर्द को मत रोको
यह तो सजा है किसी के इंतज़ार की
लोग इन्हे आंसू कहे या दीवानगी
पर यह तो निशानी हैं किसी के प्यार की …!

हिंदी और उर्दू शायरी – मुहब्बत का एहसास की शायरी – इस बहते दर्द को मत रोको

Is Behte Dard Ko Mat Roko
Ye To Saza Hai Kisi Ke Intezaar Ki
Log Inhe Aansu Kahe Ya Deewangi
Par Ye To Nishani Hain Kisi Ke Pyar Ki

Hindi and urdu shayari – Muhabbat ka Ehsas Shayari – Is Behte Dard Ko Mat Roko

जुबां तो कह नहीं सकती , तम्हें एहसास तो होगा
मेरी आँखों को पढ़ लेना मुझे तुम से मुहब्बत है

हिंदी और उर्दू शायरी – मुहब्बत का एहसास की शायरी – जुबां तो कह नहीं सकती , तम्हें एहसास तो होगा

Zubaan to keh nahi sakti, tumhain ehsaas to hoga
Meri ankhon ko parh lena mujhe tum se muhabbat hai

Hindi and urdu shayari – Muhabbat ka Ehsas Shayari – Zubaan to keh nahi sakti

Leave a Reply