“मेरी रानी बिटिया तो राज करेगी” Emotional Story in Hindi

दोस्तों मैं आपको एक ऐसी Emotional Story in Hindi सुनाने जा रही हो जो हर किसी को पढनी चाहिए. अगर आप पिता है तो अपनी बेटी के लिए पढ़े, अगर भाई है तो बहन के लिए और अगर पति है तो अपनी पत्नी के लिए ये इमोशनल स्टोरी ज़रूर पढ़े.

Emotional short story in hindi

मेरा नाम कीर्ति है लेकिन ये कहानी मेरी नहीं बल्कि मेरी बेस्ट फ्रेंड आयशा की है. आयशा एक upper middle class फॅमिली से थी और बहुत चुलबुली थी. हम दोनों स्कूल में एक साथ पढ़ते थे. आयशा इतनी खूबसूरत थी कि मानो किसी फिल्म की हीरोइन हो. आयशा अपने घर अकेली बेटी थी और इसीलिए उसे बचपन से ही खूब प्यार मिला था. एक बार मैं आयशा के घर पर थी तो उसकी माँ ने उसे डांटते हुए कहा “आयशा…पढाई में भी दिल लगाया कर वर्ना इस बार बी ए की परीक्षा में पास नहीं होगी.” उसकी माँ ने इतना ही कहा था कि आयेशा के पिता बोल पड़े “अरे..रहने दो तुम…मैं अपनी बिटिया के लिए सबसे अमीर घर ढोंडूगा, मेरी बिटिया तो राज करेगी..राज”

आयशा के पिता की बातो से लगता था कि वो उसकी शादी किसी बहुत बड़े घर में करेंगे. मेरी बी ए की पढाई ख़त्म हो गयी और मैं MA करने किसी दुसरे शहर चली गयी. अब मेरी आयशा से बात नहीं होती लेकिन मैंने कई बार उसके बारे में सोचा था. आयशा को मिले अब 6 साल हो गए, मेरी भी शादी हो चुकी है और यकीनन आयशा की भी हो चुकी होगी.

Father Daughter Emotional Story in Hindi

एक दिन मुझे किसी काम से बाज़ार के साइबर कैफ़े में जाना था. जब मैं Cyber Cafe से बाहर आई तो एक लड़की खड़ी थी जो कि बहुत जानी पहचानी लग रही थी. गौर से देखा था तो मैं ख़ुशी से उछल पड़ी क्यूंकि ये आयशा थी. मैं उसके पास गयी और उसे गले लगाया और उसका हाल चाल पूछा. अभी मैं कुछ और पूछती, आयशा ने कहा “कीर्ति मैं अपनी बेटी को स्कूल से लेने आई हु, उसका छुट्टी का टाइम हो गया है, फिर कभी मिलूंगी तुमसे”.

मैंने मन ही मन सोचा “हम दोनों बेस्ट फ्रेंड्स थे लेकिन ये आयशा इतना अजीब तरह से क्यों पेश आ रही है. पहले तो ये बहुत मस्त चुलबुली हुआ करती थी”. मैं अगले दिन फिर उसी साइबर कैफ़े में काम से गयी तो आयशा वही खड़ी हुई थी. इस बार मैंने उसका हाथ पकड़ा और पास के कॉफ़ी शॉप में ले गयी और कहा “आयशा, क्या हुआ तुम्हे?? मुझे तुम उदास लग रही हो, घर पर सब ठीक तो है?”.

आयशा ने अक्पके मन से मुझे कहा कि हाँ सब ठीक है लेकिन मैं जानती थी कि कुछ तो गड़बड़ है. मैंने फिर उसे समझाया कि आयशा मैं तुम्हारी बेस्ट फ्रेंड हु, अगर तुम अपनी प्रॉब्लम मुझे नहीं बताओगी तो किसे बताओगी. मेरे जोर देने पर आयशा ने बताया कि “BA फाइनल ईयर में मेरी शादी तय हो गयी थी और मैंने ख़ुशी में अपनी BA भी पूरी नहीं की. लड़के वालो ने झूठ बोला कि उनका खानदान बहुत अच्छा है और लड़का किसी बड़ी कंपनी में इंजिनियर है लेकिन शादी के बाद पता चला कि लड़का कोई छोटी-मोटी नौकरी करता है और सास ससुर तो बहुत ही ताने मारते थे. उन्होंने मोटे दहेज़ के लिए झूठ बोलकर शादी कर ली.”

इतना सुनकर मेरे होश उड़ गए और आयशा की आँखों से आंसू निकलने लगे. उसने बताया इतना ही नहीं जब भी उसका पति घर आता तो शराब पीकर आता और रोज उसे मारता. उन्होंने मुझे घर से भी निकाल दिया ये कहकर कि ये बेटी पता नहीं किसकी है.

आयशा ने मुझे बताया कि अब वो अपने माँ के पास रहती है और उसके पापा की डेथ हो चुकी है. उसके पापा जो बिज़नस करते थे वो भी अब बंद हो चूका है. आयशा की ये कहानी सुनकर तो मेरे पसीने ही छूट गए.

दोस्तों, हर माँ बाप हमेशा यही कोशिश करते है कि उनकी बेटी की शादी किसी बड़े घर में हो और वो पूरी उम्र राज करे लेकिन कई बार किस्मत को कुछ और ही मंजूर होता है. इसलिए, हर माँ बाप की ये ज़िम्मेदारी बनती है कि उनकी बेटी आत्मनिर्भर बने और अच्छी शिक्षा हासिल करे ताकि शादी के बाद भी वह अपना सिर गर्व से ऊंचा रख कर चल सके. अपनी बेटियों को आर्थिक रूप से इतना सशक्त ज़रूर बनाये ताकि वह शादी के बाद भी आत्मनिर्भर हो सके. अगर आपको ये Emotional Story in Hindi अच्छी लगी तो Facebook और Whatsapp पर शेयर करना ना भूले.

Submitted by Keerti Dhawan

%d bloggers like this: