मेहरबान होके बुलालो मुझे चाहो जिस भी वक़्त – मिर्ज़ा ग़ालिब

गुजरा वक़्त – मिर्ज़ा ग़ालिब
 

मेहरबान होके बुलालो मुझे चाहो जिस भी वक़्त
मैं गुजरा वक़्त नहीं हूँ के फिर लौट के आ भी न सकूँ

Mehrbaan hoke bulalo mujhe chahee jis bhi waqt
Main gujra waqt Nahi hoon Ke Phir laut ke aa bhi Na Sako


खाक हो जाएंगे यह जोश-ऐ -मोहब्त ग़ालिब
जले कोई मरे कोई , अँधेरा मेरी महफ़िल में

Khak Ho jaige Yeh josh-AE-Mohabt Ghalib
jale Koi Mare Koi, andhera Meri Mehfil Mein


सजदे तो सब ने किये तेरा नया अंदाज़ है
तूने वो सजदा किया जिस पर इश्क़ को नाज़ है

Sajde to Sab Ne Kiye Tera Naya Andaz Hai
Tune wo Sajda Kiya Jis Par ishq Ko Naaz Hai


हैरान हो तुम को मस्जिद में देख कर ग़ालिब
ऐसा भी क्या हुआ के खुदा याद आ गया

hairan Hoon Tum Ko Masjid Mein Dekh Kar Ghalib
Aisa Bhi Kia Hua Ke Khuda Yaad aa gaya

Leave a Reply