यह इश्क़ नहीं आसां – Jigar Moradabadi – Urdu Shayar

यूं ही दिल के तड़पने का कुछ तो है सबब आखिर
या दर्द ने करवट ली है या तुमने इधर देखा
माथे पे पसीना क्यों आँखों में नमी सी क्यों
कुछ खैर तो है , तुमने जो हाल -ऐ -जिगर देखा

Jigar Moradabadi – Urdu Shayar

यह इश्क़ नहीं आसां
 

क्या हुस्न ने समझा है क्या इश्क़ ने जाना है
हम ख़ाक-नाशिनो की ठोकर में ज़माना है

वो हुस्न -ओ -जमाल उनका यह इश्क़ -ओ -शबाब अपना
जीने की तम्मना है मरने का ज़माना है

या वो थे खफा हम से या हम थे खफा उनसे
कल उनका ज़माना था आज अपना ज़माना है

यह इश्क़ नहीं आसां इतना तो समझ लीजिये
एक आग का दरिया है और डूब के जाना है

आँसू तो बहुत से हैं आँखों में “जिगर” लेकिन
बन जाए सो मोती है बह जाए सो पानी है

Yeh Ishq Nahin Aasaan

kya husn ne samjha hai kya ishq ne jaana hai
ham Khaak-nashinoo ki Thokar mein zamana hai

wo husn-o-jamaal unkaa yeh ishq-o-shabaab apana
jeene ki tamanaa hai marne ka zamana hai

yaa wo the Khafaa hum se yaa hum the Khafaa unse
kal unkaa zamana tha aaj apana zamana hai

yeh ishq nahin aasaan itanaa to samajh lijiye
Ek aag kaa dariyaa hai aur Doob ke jaanaa hai

aansuu to bahut se hain aankhon mein “Jigar” lekin
ban jaaye so moti hai beh jaaye so pani hai..


तुझ को खुदा का वास्ता
 

इश्क़ फना का नाम है इश्क़ में ज़िन्दगी न देख
जलवा-ऐ-आफताब बंजारे में रोशनी न देख

शौक़ को राहनुमा बना , जो हो चुका कभी न देख
आग दबी हुई निकाल , आग बुझी हुई न देख

तुझ को खुदा का वास्ता तू मेरी ज़िन्दगी न देख
जिस की सहर भी शाम हो उस की सियाह की छबि न देख

Tujh ko Khudaa kaa Baastaa
 

ishq fanaa kaa naam hai ishq mein zindagi na dekh
jalwa-ae-aaftaab banzarre mein roshani na dekh

shauq ko rahnumaa banaa jo ho chukaa kabhi na dekh
aag dabi huii nikaal aag bujhi hui na dekh

tujh ko Khudaa kaa Baastaa tu meri zindagi na dekh
jis ki sahar bhi shaam ho us ki siyaah shavvi na dekh..


इश्क़ में लाजवाब
 

इश्क़ में लाजवाब हैं हम लोग
माहताब आफताब हैं हम लोग

गरचे अहल -ऐ -शराब हैं हम लोग
यह न समझो खराब हैं हम लोग

शाम से आ गए जो पीनी पर
सुबह तक आफताब हैं हम लोग

नाज़ करती है खाना -वीरानी
ऐसे खाना -खराब हैं हम लोग

Ishq mein laajwaab
 

Ishq mein laajwaab hain hum log
maahataab aafataab hain hum log

Garche ahal-ae-sharaab hain hum log
Yeh na samajho Kharaab hain hum log

shaam se aa gaye jo pinee par
subah tak aafataab hain hum log

naaz karati hai Khaanaa-viraani
aise Khaanaa-Kharaab hain hum log..


साक़ी पर इलज़ाम
 

साक़ी पर इलज़ाम न आये
चाहे तुझ तक जाम न आये

तेरे सिबा जो की हो मोहब्बत
मेरी जवानी काम न आये

जिन के लिए मार भी गए हम
वो चल कर दो कदम भी न आये

इश्क़ का सौदा इतना गराँ है
इन्हें हम से कोई काम न आये

महखाने में सब ही तो आये
लेकिन “जिगर ” का नाम न आये

Saaqi Par Ilzaam
 

saaqi par ilzaam na aaye
chaahe tujh tak jaam na aaye

tere sibaa jo ki ho mohabbat
meri jawani kaam na aaye

jin ke liye maar bhi gaye hum
wo chal kar do kadam na aaye

ishq kaa saudaa itanaa garaan hai
inhen hum se koi kaam na aaye

mehkahane mein sab hi to aaye
lekin “Jigar” ka naam na aaye

Leave a Reply