यादों का इक झोंका – तेरी यादें शायरी

सजा बन जाती है गुज़रे हुए वक़्त की यादें
न जाने क्यों छोड़ जाने के लिए मेहरबान होते हैं लोग
 
यादों का इक झोंका
 

यादों का इक झोंका आया हम से मिलने बरसों बाद
पहले इतना रोये न थे जितना रोये बरसों बाद
लम्हा लम्हा उजड़ा तो ही हम को एहसास हुआ
पत्थर आये बरसों पहले शीशे टूटे बरसों बाद

Yaadon Ka Ik Jhonka

Yaadon Ka Ik Jhonka Aaya Hum Se Milne Barson Baad
Pehle Itna Roye Na The Jitna Roye Barson Baad
Lamha Lamha Ujdaa To Hi Hum Ko Ihsaas Hua
Pathar Aaye Barson Pehle Sheshe Tote Barson Baad


इन यादों को ले जाना
 

यादें तेरी रख दी है सँभालकर
दूर कहीं इस दिल से निकाल कर
सब कुछ तो वापिस ले लिया है तुमने दूर जाकर
इन यादों को भी ले जाना किसी रोज़ आ कर

In Yaadon Ko Le Jana
 

Yaaden teri rakh di hai sambhalkar
Dur kahin is dil se nikalkar
Sab kuch to wapis le liya hai tumne dur jaakar
In yaadon ko bhi le jana kisi roz aakar..


किसी की याद में बेकरार
 

ऐ दिल किसी की याद में होता है बेकरार क्यों
जिस ने भुला दिया तुझे , उस का है इंतज़ार क्यों
वो न मिलेगा अब तुझे , जिस की तुझे तलाश है
राहों में आज बे-कफ़न तेरी बेवफ़ाई की लाश है

Kisi Ki Yaad Mein Beqarar
 

Ae Dil Kisi Ki Yaad Mein Hota Hai Beqarar Kiyun
Jis Nay Bhula Diya Tujhe,Us Ka Hai Intezar Kiyun
Wo Na Milaga Ab Tujhe Jis Ki Tujhe Talash Hai
Raahon Mein Aaj Be-Kafan Teri Bewfai Ki Laash Hai


याद तेरी जब भी आई
 

याद तेरी जब भी आई वफ़ा रोती रही
आँखों से बरसा वो बादल के इन्तहा होती रही
तेरे मिलने की दुआ के लिए जब भी हाथ उठाए मैंने
मेरी इस मासूम ख्वाहिश पे न जाने क्यों दुआ रोती रही

Yaad Teri Jab Bhi Aayi
 

Yaad teri jab bhi aayi wafa roti rahi
Aankho se Barsa wo baadal ke intaha hoti rahi
Tere milne ki dua ke liey jab bhi hath uthaey mainne
Meri is masoom khwahish pe najany kyun dua roti rahi


उस की याद ने रुला दिया
 

फासलों ने दिल की क़ुर्बत को बढ़ा दिया
आज उस की याद ने बे हिसाब रुला दिया
उस को शिकायत है के मुझे उस की याद नहीं
हम ने जिस की याद में खुद को भुला दिया

Us Ki Yaad Ne Rula Diya
 

Fasloon ne dil ki qurbat ko badha diya
Aaj us ki yaad ne bay hisab rula diya
Us ko shikwa hai ke mujhae us ki yaad nahin
Hum ne jis ki yaad mein khud ko bhula diya


भूल के कुछ यादें तेरी

दिल को तेरा सुकूँ दे वो ग़ज़ल कहाँ से लाऊँ
भूल के ग़ज़ल अपनी तेरी ग़ज़ल कैसे सजाऊँ
दिल में उतार जाएं वो लफ़ज़ कहाँ से लाऊँ
भूल के कुछ यादें तेरी, याद कैसे दिल में बसाऊँ

Bhool Ke Kuch Yaadein Teri
 

Dil Ko Tera Sukoon De Wo Ghazal Kahan Se Laoon
Bhul Ke Ghazal Apni Teri Ghazal Kaise Sajaoon
Dil Mein Utaar Jayein Wo Lafaz Kahan Se Laoon
Bhool Ke Kuch Yaadein Teri , Yaad Kaise Dil Mein Basaoon


अपनी यादें अपनी बातें
 

अपनी यादें अपनी बातें लेकर जाना भूल गए
जाने वाले जल्दी में मिलकर जाना भूल गए
मुड़ मुड़ कर पीछे देखा था जाते जाते कई उसने
जैसे उसे कुछ कहना था जो वो कहना भूल गया

Apni Yaadein Apni Baatein
 

Apni yaadein apni baate lekar jana bhool gaye
Jane wale jaldi mein milkar jana bhool gaye
Mud mud kar picshe dekha tha jaate jaate kai usne
Jaise use kuch kehna tha jo wo kehna bhool gaya..


तेरी यादो को न भुला पाए
 

तुझे भूले ,तेरी यादो को न भुला पाए
किसी से न हारे थे , एक तुझसे हार गए
तेरी यादों में ऐसे खोये ,किसी को याद न कर पाए
तूने मुझे इस कदर छोड़ा के हम किसी के न हो पाए

Teri Yaado Ko Na Bhula Paye
 

Tujhe bhoole,Teri yaado ko na bhula paye
Kisi se na hare the khabi ,ek tujhse haar gaye
Teri yaadon mein aisi khooye,kisi ko yaad na kar paaye
Tune mujhe is kadar choda ke hum kisi ke na ho paaye


याद उन्हें किया जाता है
 

याद उन्हें किया जाता है
जो दिल से भुलाये जाते है
जो खुद रूह में बस गए हो
उन्हें भला हम कैसे भुलाये

Yaad Uunhe Kiya Jata Hai
 

Yaad unhe kiya jata hai
Jo dil se bhulaye jate hai
Jo khud rooh mein bas gaye ho
Unhe bhala hum Kaise bhulye


हम ही याद आएंगे
 

हर आहट एहसास हमारा दिलाएगी
हर हवा किस्सा हमारा सुनाएगी
हम इतनी यादें दे देंगे आपकी ज़िन्दगी में
की न चाहते हुए भी हम ही याद आएंगे

Hum Hi Yaad Aaigain
 

Har aahat ehsas hamara dilayegi
Har hawa kissa humara sunayegi
Hum itni yadein de denge aapki zindagi mein
Ki na chahate hue bhi hum hi yaad aaigain

Leave a Reply