ग़म इसका नहीं की आप मिल न सकोगे – याद शायरी

तन्हाई में आंसू
 

करोगे याद एक दिन साथ बिताए ज़माने को
चले जाएंगे जिस दिन हम कभी वापिस न आने को
करेगा महफ़िल में ज़िकर हमारा कोई तो
चले जाओगे तन्हाई में आंसू वहाने को .

Tanhai Mein Aansu
 

Karoge Yaad Ek Din Saath Beete Zamane Ko
Chale Jaayenge Jis Din Hum Kabhi Wapas Na Aane Ko
Karega Mehfil Mein Zikr Hamara Koi To,
Chale Jaaoge Tanhai Mein Aansu Bahane Ko…


तुम्हारी याद
 

सुनो मुझे हर पल तुम्हारी याद आती है ,
कभी साँसों के चलने पे , कभी दिल के मचलने पे ,
कभी आँखें छलकने पे कभी चाँद निकलने पे ,
कभी सूरज के ढलने पे कभी शब के अंधेरों में खो जाने पे
कभी दिन के सबेरों में कभी लोगों के मेले में ,कभी तनहा अकेले में

Tumhari Yaad
 

Suno Mujhe Har Pal Tumhari Yaad Aati Hai,
Kabhi Saanso Ke Chalne Pe, Kabhi Dil Ke Machalnay Pe,
Kabhi Aankhen Chalakne Pe Kabhi Chand Nikalny Pe,
Kabhi Suraj Ke Dhalne Pe Kabhi Shab Ke Andheron Mein,
Kabhi Din Ke Sawairon Me Kabhi Logon Ke Melay Mein,Kabhi Tanha Akele Mein…


मौत से पहले
 

रात के अँधेरे में सारा जहाँ सोता है
लेकिन किसी की याद में एक दिल रोता है
खुदा करे की किसी पर कोई फ़िदा न हो
अगर हो तो मौत से पहले जुदा न हो

Maut Se Phele
 

Raat Ke Andhere Mein Sara Jahan Sota Hai,
Lekin Kisi Ke Yaad Mein Ek Dil Rota Hai,
Khuda Kare Ki Kisi Par Koi Fida Na Ho,
Agar Ho To Maut Se Phele Juda Na Ho…


भुला न सकेंगे
 

दूर जाकर भी हम दूर जा न सकेंगे
कितना रोएंगे हम बता न सकेंगे ,
ग़म इसका नहीं की आप मिल न सकोगे
दर्द इस बात का होगा की हम आपको भुला न सकेंगे

Bhula na Sakenge
 

Door jakar bhi hum door jaa na sakenge,
Kitna royenge hum bata na sakenge,
Gham iska nahi ki aap mil na sakoge,
Dard is baat ka hoga ki hum aapko bhula na sakenge

Leave a Reply