ज़ख़्मी दिल की शायरी

इश्क़ में दिल टूट जाता है

मयखाने में जाम  टूट जाता है
इश्क़ में दिल टूट जाता है
न जाने क्या रिश्ता है दोनों में
जाम टूटे तो इश्क़ याद आता है
दिल टूटे तो जाम याद आता है

Ishq Mein Dil Toot Jata Hai

Mayekhane Mein Jam Tut Jata Hai
Ishq Mein Dil Toot Jata Hai
Na Jane Kya Rishta Hai Dono Me
Jaam Tute To Ishq Yaad Aata Hai
Dil Tute To Jaam Yaad Aata Hai


कोई मौजूद है इस क़दर मुझ मैं

ख़ाक उड़ती है रात भर मुझ मैं
कौन फिरता है दर-ब-दर मुझ मैं
मुझ को मुझ मैं जगह नहीं मिलती
कोई मौजूद है इस क़दर मुझ मैं …

Koi mauzood Hai is Qadar mujh main

Khaak udthi hai raat bhar mujh main
Kaun firta hai Dar-b-Dar mujh main
Mujh ko mujh main jagah hahi milti
Koi mauzood Hai is Qadar mujh main


ज़र्द आंसुओं की तहरीरें

फ़िज़ा में  बिखरी ज़र्द आंसुओं की तहरीरें
दाग़ -ऐ -गुल में  दरख्तों के दाग़ मिलते हैं
गलत गुमान न कर मेरी इन खुश्क आँखों पे
समंदर में  जज़ीरे ज़रूर मिलते हैं

Zard Ansuoon ki Tehrerein

Fiza mien bikhri zard ansuoon ki tehrerein
daagh-ae-gul mien darakhton ke daagh milte hain
ghallat gumaan na kar meri in khushk aankhon pe
samandar mien jazeere zarur milte hain


बेवफ़ा ज़िन्दगी

यह  बेवफ़ा ज़िन्दगी भी तुम्हारे नाम करते हैं ‘ फ़राज़ ‘
सुना है खूब बनती है बेवफा से बेवफा की

Bewafa Zindagi

Yeh Bewafa Zindagi Bhi Tumhare Naam karte hain ‘Faraz’
Suna hai Khoob Banti hai Bewafa Se Bewafa Ki


एहद -ऐ-वफ़ा

कोई रिश्ता टूट जाए दुःख तो होता है
अपने हो जाएँ पराये दुःख तो होता है …..
हम मर जाएं एहद -ऐ-वफ़ा निभाते निभाते और उनको यकीन न आए दुःख तो है ….
माना हम नहीं प्यार के क़ाबिल , मगर इस तरह कोई ठुकराये दुःख तो होता है

Ehd-AE-Wafa

Koi rishtaa toot jaaye Dukh to hota hai
Apney ho jayain paraye dukh toh hota hai
hum marjaayein Ehd-e-wafa nibhaate nibhate aur unko yakeen na aaye dukh to hai
maana hum nahi pyaar ke qaabil magar is tarah koi thukraaye dukh to hota hai


खिलौना सा एक शख्स

हाथों में तेरे था जो खिलौना सा एक शख्स
एक रोज़ गिर के टूट जायेगा रख राखाओ में ………

Khilona sa ek Shakhs

Haathon mein Tere tha jo Khilona sa ek Shakhs
ek roz gir ke toot gaya rakh rakhaao mein

Leave a Reply