2 Line Romantic Shayari

उन्होंने वक़्त समझकर गुज़ार दिया हमको..
और हम.. उनको ज़िन्दगी समझकर आज भी जी रहे हैं..!!

┄┅══❁♥❁════┅

वो इतना रोई मेरी मौत पर मुझे जगाने के लिए..
मैं मरता ही क्यूँ अगर वो थोडा रो देती मुझे पाने के लिए..!!

┄┅══❁♥❁════┅

खुद भी रोता है, मुझे भी रुला के जाता है..
ये बारिश का मौसम, उसकी याद दिला के जाता हैं।

┄┅══❁♥❁════┅

निगाहों से भी चोट लगती है.. जनाब..
जब कोई देख कर भी अन्देखा कर देता है..!!

┄┅══❁♥❁════┅

Read More –

वो दुआएं काश मैने दीवारों से मांगी होती,
ऐ खुदा.. सुना है कि उनके तो कान होते है!!

┄┅══❁♥❁════┅

इश्क है या इबादत.. अब कुछ समझ नहीं आता,
एक खुबसूरत ख्याल हो तुम जो दिल से नहीं जाता.

┄┅══❁♥❁════┅

फ़िक्र तो तेरी आज भी है..
बस .. जिक्र का हक नही रहा।

┄┅══❁♥❁════┅

तुमसे ऐसा भी क्या रिश्ता हे?
दर्द कोई भी हो.. याद तेरी ही आती हे।

┄┅══❁♥❁════┅

काग़ज़ पे तो अदालत चलती है..
हमने तो तेरी आँखो के फैसले मंजूर किये।

┄┅══❁♥❁════┅

एम्बुलेंस सा हो गया है ये जिस्म,
सारा दिन घायल दिल को लिये फिरता है।

┄┅══❁♥❁════┅

हम तो बिछडे थे तुमको अपना अहसास दिलाने के लिए,
मगर तुमने तो मेरे बिना जीना ही सिख लिया।

┄┅══❁♥❁════┅

ताला लगा दिया दिल को.. अब तेरे बिन किसी का अरमान नहीं..
बंद होकर फिर खुल जाए, ये कोई दुकान नहीं।

┄┅══❁♥❁════┅

जुनून, हौसला, और पागलपन आज भी वही है
मैंने जीने का तरीका बदला है तेवर नहीं..!!

┄┅══❁♥❁════┅

हम ने भी कह दिया उनसे की बहुत हो गयी जंग बस..
बस ए मोहब्बत तुझे फ़तेह मुबारक मेरी शिक्स्त हुई।

┄┅══❁♥❁════┅

पहले रिम-झिम फिर बरसात और अचानक कडी धूप,
मोहब्बत ओर अगस्त की फितरत एक सी है..!!

┄┅══❁♥❁════┅

बारिश और महोबत दोनों ही यादगार होते हे,
बारिश में जिस्म भीगता हैं और मोहब्बत मैं आँखे.

┄┅══❁♥❁════┅

कल क्या खूब इश्क़ से मैने बदला लिया,
कागज़ पर लिखा इश्क़ और उसे ज़ला दिया..!!

┄┅══❁♥❁════┅

ये ही एक फर्क है तेरे और मेरे शहर की बारिश में
तेरे यहाँ ‘जाम’ लगता है, मेरे यहाँ ‘जाम’ लगते हैं..!!

┄┅══❁♥❁════┅

हाल तो पूछ लू तेरा पर डरता हूँ आवाज़ से तेरी,
ज़ब ज़ब सुनी है कमबख्त मोहब्बत ही हुई है।

┄┅══❁♥❁════┅

आंसू निकल पडे ख्वाब मे उसको दूर जाते देखकर..!!
आँख खुली तो एहसास हुआ इश्क सोते हुए भी रुलाता है..!!

┄┅══❁♥❁════┅

नही रहता कोई शख़्स अधूरा, किसी के भी बिना,

वक़्त गुज़र ही जाता है, कुछ खोकर भी, कुछ पाकर भी…

┄┅══❁♥❁════┅

आज खुद को इतना तन्हा महसूस किया मैंने,

लगा जैसे कोई दफना के चला गया हो

┄┅══❁♥❁════┅

हिरासत में हूं मैं  तेरी हसीन बाहों की.
बस दुआ है कोई ज़मानत न करा दे हमारी.!!

┄┅══❁♥❁════┅

रूह से तुम्हे महसूस करे,लफ्जो में तुम्हारे खो जाये,
इश्क़ का मौसम है,उफ्फ कहो तो हम तुम्हारे हो जाये ।

┄┅══❁♥❁════┅

अंदाजा नही है किसी को ” जख्म का ” !!
बस मिट्टी हटाके नमक छिड़कने आ जाते है !!

┄┅══❁♥❁════┅

इश्क़ की नौकरी मिलती नहीं खैरात में,

दिल में फकीरी और फितरत सुफियानी चाहिए।।

┄┅══❁♥❁════┅

भरी बहार में इक शाख़ पर खिला है गुलाब

कि जैसे तू ने हथेली पे मेरी गाल रख्खा है..

┄┅══❁♥❁════┅

नजरें शर्माजाती है मग़र दीदार करना नही छोड़ती
कैसे बताये उनके सामने हमारी हालात कैसे हो जाती है !

┄┅══❁♥❁════┅

शायद गुनाह है जिंदगी जीना

इसलिए सजाये हर मोड़ पर मिल जाती है

┄┅══❁♥❁════┅

सुनो ! महफूज कर लो न हमें खुद में..
के बिन तेरे, बेवजह बिखर रहे हैं हम..

┄┅══❁♥❁════┅

गुज़र जाते हैं खूबसूरत लम्हें यूं ही मुसाफिरों की तरह…

यादें वहीं खड़ी रह जाती हैं रूके रास्तों की तरह…!!!

┄┅══❁♥❁════┅

मोहब्बत तो खामोशी से हो जाती है जनाब

यह तो ख्वाहिशें है जो शोर मचा देती हैं।।

┄┅══❁♥❁════┅

मैं नही लिख पाऊंगा कुछ,

शब्द कम, इश्क़ ज्यादा है..

┄┅══❁♥❁════┅

लाख अदाओं की जरूरत ही क्या है

जब हम फिदा ही तुम्हारी सादगी पर है।

┄┅══❁♥❁════┅

प्यास अगर शराब की होती… तो ना आता तेरे मैखाने मे….

ये जो तेरी नज़रो का जाम है कम्बख्त कही और मिलता ही नही…!!

┄┅══❁♥❁════┅

Leave a Reply