Allama iqbal shayari Hindi | अल्लामा इक़बाल की मशहूर शायरी | Trdshayari

Allama iqbal shayari in hindi

 अल्लामा इक़बाल यानी मोहब्बत इक़बाल एक मशहूर उर्दू फारसी प्रशिद्ध कवि और शायर है इनके मशहूर शायरी और लेख की वजह से इनको पूरी दुनिया मे जाना जाता है अल्लामा इक़बाल जी की शायरी में वो बाते छुपी रहती थीं जो आपको सच्चाई से रूबरू करे उनके विचार की वजह से वह लोगो को एक राष्ट्र से जोड़ कर रखते थे और पूरी दुनिया मे उन्हें कवि नेता और शायर के नाम से पहचान मिली

आज trdshayri पर हम अल्लामा इक़बाल जी की वो प्रशिद्ध और Best shayari लेकर आये है जो एक दौर में काफी प्रचलित थी वैसे तो उनकी काफी सारी शायरी और लेखन मशहूर है जिसमे से कुछ चुनिंदा शायरी का संग्रह हम आपके साथ share कर रहे है इस blog post के माध्यम से
अल्लामा इक़बाल की बेस्ट शायरी हिंदी में तो injoy करे आप भी और उनको याद कर सकते है ।

ज़मीर जाग ही जाता है अगर ज़िन्दा हो इक़बाल,
कभी गुनाह से पहले तो कभी गुनाह के बाद।
              अल्लामा इक़बाल…. ✍️

Zameer jaag he jata hai agar zinda ho iqbal,
Kabhi gunah se pahle to kabhi Gunah ke baad..
❤️❤️

मोहब्बत की तमन्ना है तो फिर वो वस्फ़ पैदा कर,
जहाँ से इश्क चलता है वहाँ तक नाम पैदा कर।
              अल्लामा इक़बाल…. ✍️

Mohabbat ke tammana hai to phir
wo washf Paida kar..
Jaha se ishq chalta hai waha tak
Naam paida kar…
❤️❤️

दुआ तो दिल से मांगी जाती है , ज़ुबान से नही
ये इक़बाल क़ुबूल तो उसकी भी होती है
जिसकी ज़ुबान नही होती ।।
             अल्लामा इक़बाल…. ✍️

Dua to dil se mangi jati hai, zubaan
se nahi ae iqbal,
Qubool toh uski bhi hoti hai jiski
zubaan nahi hoti.
❤️❤️

Allama Iqbal Best Shayari Quotes

Md Allama iqbal ke best shayari

नशा पिला के गिराना तो सब को आता है
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी
             अल्लामा इक़बाल…. ✍️

Nasha pila ke girana to sab ko aata hai ,
Maza to tab hai ki girto ko tham le saki..
❤️❤️

उमभर तेरी मोहब्बत मेरी खिदमत रही ,
जब में तेरे खिदमत के काबिल हुआ तो तू
चल बसी ।।
              अल्लामा इक़बाल…. ✍️

Umar bahr teri mohabbt meri khidmat rahi
Jab me tere khidmat ke kabil hua to tu
Chal basi …
❤️❤️

अल्लामा इक़बाल शायरी

हसी आती है मुझे हसरते इंसान पर
गुनाह करता है खुद और लानत भेजता है
शैतान पर ।।
              अल्लामा इक़बाल…. ✍️

Hasi aati hai mujhe hasrate insaan par
Gunah karta hai khud aur lanat bhejta hai
Saitan par ..
❤️❤️

जानते हो तुम भी फिर भी अनजान बनते हो
इस तरह हमें परेशान करते हो..
पूछते हो तुम्हे किया पसंद है
जवाब खुद हो फिर भी सवाल करते हो..
               अल्लामा इक़बाल…. ✍️

Jante ho tum bhi phir bhi anjaan bante ho ,
Ish tarah hame pareshan karte ho ,
Puchte ho tumhe kiya pasand hai
Jawab khud ho phir bhi
Sawal karte ho …
❤️❤️

मोहम्मद अल्लामा इक़बाल शेर ओ शायरी 

अल्लामा इक़बाल के शेर शायरी

अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल
लेकिन कभी-कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे।
            अल्लामा इक़बाल…. ✍️

Achha Hai Dil Ke Saath Rahe Paaswaan-e-Aqal,
Lekin Kabhi Kabhi Ise Tanha Bhi Chhod De..
❤️❤️

दुनिया की महफ़िलों से उकता गया हूँ या रब,
क्या लुत्फ़ अंजुमन का जब दिल ही बुझ गया हो।
             अल्लामा इक़बाल…. ✍️

Duniya Ki Mehfilo Se Ukta Gaya Hoon Ya Rab,
Kya Lutf Anjuman Ka Jab Dil Hi Bujh Gaya Ho.
❤️❤️

%d bloggers like this: