Alone Shayari In Hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए Alone Shayari In Hindi लेकर आए है हम सबके जीवन में बहुत से कुछ न कुछ
ऐसे लोग होते हैं जो हमें अकेला छोड़ देते है यदि आप इससे रिलेटेड शायरी ढूंढ रहे है तो आप बिलकुल सही जगह
आय है यहां पे आपको Alone Shayari, Alone Shayari In Hindi, Alone Shayari Images, Feeling
Alone Shayari, Alone Shayari 2 Lines,Sad Alone Shayari, Best Alone Shayari Hindi

shayarisms4lovers.in- New Hindi Shayari on Love, Sad, Funny, Friendship, Bewafai, Dard, GoodMorning, GoodNight, Judai, Whatsapp Status in Hindi

Alone Shayari

कितना भी किसी के लिए हँस के जी लें हम,
रुला देती है फिर भी उनकी कमी कभी-कभी..!!
हर वक़्त का हँसना तुझे बर्बाद ना कर दे,
​तन्हाई के लम्हों में कभी रो भी लिया कर..!!

तन्हाईयाँ कुछ इस तरह से डसने लगी मुझे,
मैं आज अपने पैरों की आहट से डर गया..!!

चलते-चलते अकेले अब थक गए हम,
जो मंज़िल को जाये वो डगर चाहिए,
तन्हाई का बोझ अब और उठता नहीं,
अब हमको भी एक हमसफ़र चाहिए..!!

तेरा पहलू तेरे दिल की तरह आबाद रहे,
तुझपे गुजरे न क़यामत शब-ए-तन्हाई की..!!
शायद इसी को कहते हैं मजबूरी-ए-हयात,
रुक सी गयी है उम्र-ए-गुरेजां तेरे बगैर..!!

यूँ भी हुआ रात को जब सब सो गए,
तन्हाई और मैं तेरी बातों में खो गए..!!
तेरे बगैर इस मौसम में वो मजा कहाँ,
काँटों की तरह चुभती है बारिश की बूँदें..!!

साथ में जिसके एक दिन दुनिया चलता है,
वह शक्श अकसर शुरू में तन्हा चलता है..!!
वो इंसान दुनिया जीतने की हिम्मत रखता है,
जो इंसान अकेले चलने की हिम्मत रखता है..!!

Alone Shayari In Hindi

अगर ज़िन्दगी का जंग जीतना है,
तो अकेले चलना सीखना होगा..!!

जिंदगी ख्वाहिशों का एक मेला है,
कहीं पर हार तो कहीं पर जीत का ये खेला है,
जो भी मिले उससे तुम मुस्कुरा कर मिला करो,
इस भीड़ में हर कोई ही अकेला है..!!

दिन में हमें तितलियां सताती हैं,
और शम इस दिल को तन्हा कर जाती है..!!
फिर वही मौसम लौटा याद भरी पुरवाई भी,
ऐसा तो कम ही होता है वो भी हो तन्हाई भी..!!

वो जोश-ए-तन्हाई, वो हर तरफ बेकसी का आलम,
कटी है आँखों में रात सारी, तड़प तड़प कर सहर हुयी..!!
यूँ तो हर रंग का मौसम मुझसे वाकिफ है मगर,
रात की तन्हाई मुझे कुछ अलग ही जानती है..!!

जगमगाते शहर की रानाइयों में क्या न था,
ढूँढ़ने निकला था जिसको बस वही चेहरा न था,
हम वही, तुम भी वही, मौसम वही, मंज़र वही,
फ़ासले बढ़ जायेंगे इतने मैंने कभी सोचा न था..!!

मेरी पलकों का अब नींद से कोई ताल्लुक नही रहा,
मेरा कौन है ये सोचने में रात गुज़र जाती है..!!

मोहब्बत मुकद्दर है कोई ख़्वाब नही,
ये वो अदा है जिसमें हर कोई कामयाब नही,
जिन्हें मिलती मंज़िल उंगलियों पे वो खुश है,
मगर जो पागल हुए उनका कोई हिसाब नही..!!

एक तुम्हीं थे जिसके दम पे चलती थी साँसें मेरी,
लौट आओ कि ज़िंदगी से वफ़ा निभाई नहीं जाती..!!

Alone Shayari

मुझको मेरी तन्हाई से अब शिकायत नहीं है,
मैं पत्थर हूँ मुझे खुद से भी मोहब्बत नहीं है..!!
एक तेरे ना होने से बदल जाता है सब कुछ,
कल धूप भी दीवार पे पूरी नहीं उतरी..!!

मेरी लिखी किताब मेरे हाथो में देकर कहने लगे,
इसे पढा करो मोहब्बत करना सिख जाओगे..!!

तुम जब आओगे तो खोया हुआ पाओगे मुझे,
मेरी तन्हाई में ख़्वाबों के सिवा कुछ भी नहीं,
मेरे कमरे को सजाने कि तमन्ना है तुम्हें,
मेरे कमरे में किताबों के सिवा कुछ भी नहीं..!!

वो सिलसिले वो शौक वो ग़ुरबत न रही,
फिर यूँ हुआ के दर्द में सिद्दत न रही,
अपनी जिंदगी में हो गये मशरूफ वो इतना,

कि हमको याद करने कि फुरसत न रही..!!

जिंदगी के ज़हर को यूँ हँस के पी रहे हैं,
तेरे प्यार बिना यूँ ही ज़िन्दगी जी रहे हैं,
अकेलेपन से तो अब डर नहीं लगता हमें,
तेरे जाने के बाद यूँ ही तन्हा जी रहे हैं..!!

आँखों ने ज़र्रे ज़र्रे पर सजदे लुटाये हैं,
न जाने जा छुपा है मेरा पर्दा-नसीन कहाँ..!!
अजीब सी बेताबी रहती है तेरे बिना,
रह भी लेते हैं और रहा भी नहीं जाता..!!

तेरा बार बार रूठना मुझे अच्छा लगता है,
पर क्या तुझे भी मेरा मनाना अच्छा लगता है..!!

जगमगाते शहर की रानाइयों में क्या न था,
ढूँढ़ने निकला था जिसको बस वही चेहरा न था,
हम वही, तुम भी वही, मौसम वही, मंज़र वही,
फ़ासले बढ़ जायेंगे इतने मैंने कभी सोचा न था..!!

Kitana Bhee Kisee Ke Lie Hans Ke Jee Len Ham,
Rula Detee Hai Phir Bhee Unakee Kamee Kabhee-Kabhee..!!
Har Vaqt Ka Hansana Tujhe Barbaad Na Kar De,​
Tanhaee Ke Lamhon Mein Kabhee Ro Bhee Liya Kar..!!

Tanhaeeyaan Kuchh Is Tarah Se Dasane Lagee Mujhe,
Main Aaj Apane Pairon Kee Aahat Se Dar Gaya..!!
Chalate-Chalate Akele Ab Thak Gae Ham,
Jo Manzil Ko Jaaye Vo Dagar Chaahie,

Tanhaee Ka Bojh Ab Aur Uthata Nahin,

Ab Hamako Bhee Ek Hamasafar Chaahie..!!
Tera Pahaloo Tere Dil Kee Tarah Aabaad Rahe,
Tujhape Gujare Na Qayaamat Shab-E-Tanhaee Kee..!!

Shaayad Isee Ko Kahate Hain Majabooree-E-Hayaat,
Ruk See Gayee Hai Umr-E-Gurejaan Tere Bagair..!!
Yoon Bhee Hua Raat Ko Jab Sab So Gae,
Tanhaee Aur Main Teree Baaton Mein Kho Gae..!!

Tere Bagair Is Mausam Mein Vo Maja Kahaan,
Kaanton Kee Tarah Chubhatee Hai Baarish Kee Boonden..!!
Saath Mein Jisake Ek Din Duniya Chalata Hai,
Vah Shaksh Akasar Shuroo Mein Tanha Chalata Hai..!!

Vo Insaan Duniya Jeetane Kee Himmat Rakhata Hai,
Jo Insaan Akele Chalane Kee Himmat Rakhata Hai..!!

Alonai Shayari In Hindi

Agar Zindagee Ka Jang Jeetana Hai,
To Akele Chalana Seekhana Hoga..!!
Jindagee Khvaahishon Ka Ek Mela Hai,
Kaheen Par Haar To Kaheen Par Jeet Ka Ye Khela Hai,

Jo Bhee Mile Usase Tum Muskura Kar Mila Karo,
Is Bheed Mein Har Koee Hee Akela Hai..!!
Din Mein Hamen Titaliyaan Sataatee Hain,
Aur Sham Is Dil Ko Tanha Kar Jaatee Hai..!!

Phir Vahee Mausam Lauta Yaad Bharee Puravaee Bhee,
Aisa To Kam Hee Hota Hai Vo Bhee Ho Tanhaee Bhee..!!
Vo Josh-E-Tanhaee, Vo Har Taraph Bekasee Ka Aalam,

Katee Hai Aankhon Mein Raat Saaree,
Tadap Tadap Kar Sahar Huyee..!!

Yoon To Har Rang Ka Mausam Mujhase Vaakiph Hai Magar,
Raat Kee Tanhaee Mujhe Kuchh Alag Hee Jaanatee Hai..!!
Jagamagaate Shahar Kee Raanaiyon Mein Kya Na Tha,
Dhoondhane Nikala Tha Jisako Bas Vahee Chehara Na Tha,
Ham Vahee, Tum Bhee Vahee, Mausam Vahee, Manzar Vahee,
Faasale Badh Jaayenge Itane Mainne Kabhee Socha Na Tha..!!

Meree Palakon Ka Ab Neend Se Koee Taalluk Nahee Raha,
Mera Kaun Hai Ye Sochane Mein Raat Guzar Jaatee Hai..!!
Mohabbat Mukaddar Hai Koee Khvaab Nahee,
Ye Vo Ada Hai Jisamen Har Koee Kaamayaab Nahee,
Jinhen Milatee Manzil Ungaliyon Pe Vo Khush Hai,
Magar Jo Paagal Hue Unaka Koee Hisaab Nahee..!!

Ek Tumheen The Jisake Dam Pe Chalatee Thee Saansen Meree,
Laut Aao Ki Zindagee Se Vafa Nibhaee Nahin Jaatee..!!

Alonai Shayari

Mujhako Meree Tanhaee Se Ab Shikaayat Nahin Hai,
Main Patthar Hoon Mujhe Khud Se Bhee Mohabbat Nahin Hai..!!
Ek Tere Na Hone Se Badal Jaata Hai Sab Kuchh,
Kal Dhoop Bhee Deevaar Pe Pooree Nahin Utaree..!!
Meree Likhee Kitaab Mere Haatho Mein Dekar Kahane Lage,

Ise Padha Karo Mohabbat Karana Sikh Jaoge..!!
Tum Jab Aaoge To Khoya Hua Paoge Mujhe,
Meree Tanhaee Mein Khvaabon Ke Siva Kuchh Bhee Nahin,
Mere Kamare Ko Sajaane Ki Tamanna Hai Tumhen,

Mere Kamare Mein Kitaabon Ke Siva Kuchh Bhee Nahin..!!
Vo Silasile Vo Shauk Vo Gurabat Na Rahee,

Phir Yoon Hua Ke Dard Mein Siddat Na Rahee,
Apanee Jindagee Mein Ho Gaye Masharooph Vo Itana,
Ki Hamako Yaad Karane Ki Phurasat Na Rahee..!!
Jindagee Ke Zahar Ko Yoon Hans Ke Pee Rahe Hain,
Tere Pyaar Bina Yoon Hee Zindagee Jee Rahe Hain,
Akelepan Se To Ab Dar Nahin Lagata Hamen,
Tere Jaane Ke Baad Yoon Hee Tanha Jee Rahe Hain..!!

Aankhon Ne Zarre Zarre Par Sajade Lutaaye Hain,
Na Jaane Ja Chhupa Hai Mera Parda-Naseen Kahaan..!!
Ajeeb See Betaabee Rahatee Hai Tere Bina, Rah Bhee
Lete Hain Aur Raha Bhee Nahin Jaata..!! Tera Baar Baar

Roothana Mujhe Achchha Lagata Hai, Par Kya Tujhe
Bhee Mera Manaana Achchha Lagata Hai..!!
Jagamagaate Shahar Kee Raanaiyon Mein Kya Na Tha,
Dhoondhane Nikala Tha Jisako Bas Vahee Chehara Na Tha,
Ham Vahee, Tum Bhee Vahee, Mausam Vahee, Manzar Vahee,
Faasale Badh Jaayenge Itane Mainne Kabhee Socha Na Tha..!!

Feeling Alone Shayari

मेरी पलकों का अब नींद से कोई ताल्लुक नही रहा,
मेरा कौन है ये सोचने में रात गुज़र जाती है..!!
वो हर बार मुझे छोड़ के चले जाते हैं तन्हा,
मैं मज़बूत बहुत हूँ लेकिन कोई पत्थर तो नहीं हूँ..!!

यूँ तो हर रंग का मौसम मुझसे वाकिफ है मगर,
रात की तन्हाई मुझे कुछ अलग ही जानती है..!!

मोहब्बत मुकद्दर है कोई ख़्वाब नही,
ये वो अदा है जिसमें हर कोई कामयाब नही,
जिन्हें मिलती मंज़िल उंगलियों पे वो खुश है,
मगर जो पागल हुए उनका कोई हिसाब नही..!!

मेरी लिखी किताब मेरे हाथो में देकर कहने लगे,
इसे पढा करो मोहब्बत करना सिख जाओगे..!!

Alone Shayari 2 Lines

तुम जब आओगे तो खोया हुआ पाओगे मुझे,
मेरी तन्हाई में ख़्वाबों के सिवा कुछ भी नहीं,
मेरे कमरे को सजाने कि तमन्ना है तुम्हें,
मेरे कमरे में किताबों के सिवा कुछ भी नहीं..!!

बहुत सोचा बहुत समझा बहुत ही देर तक परखा,
कि तन्हा हो के जी लेना मोहब्बत से तो बेहतर है..!!
अभी ज़िंदा हूँ लेकिन सोचता रहता हूँ अकेले में,
कि अब तक किस तमन्ना के सहारे जी लिया मैंने..!!

जब जब याद करोगी अपनी तन्हाईयो को,
एक जलता चराग सा नज़र आऊगा मैं,
राह से रहगुज़र बन के भी गुजर जाओगी,
एक मिल का पत्थर सा खड़ा नज़र आऊगा मैं..!!

बिछड़ के भी वो रोज मिलता है मुझे ख्वाबों में,
अगर ये नींद न होती तो कब के मर गए होते..!!

आज की रात जो मेरी तरह तन्हा है,

मैं किसी तरह गुजारूँगा चला जाऊंगा,
तुम परेशाँ न हो बाब-ए-करम-वा न करो,
और कुछ देर पुकारूंगा चला जाऊंगा..!!

Sad Alone Shayari

मैं हूँ दिल है तन्हाई है,
तुम भी जो होते तो अच्छा होता..!!

हज़ारो बातें मिल कर एक राज़ बनता है,
सात सुरों के मिलने से साज़ बनता है,
आशिक़ के मरने पर कफ़न भी नहीं मिलता,
और हसीनाओ के मरने पर ताज़ बनता है..!!

उसकी आरज़ू अब खो गयी है,
खामोशियों की आदत सी हो गयी है,
न शिकवा रहा न शिकायत किसी से,
बस एक मोहब्बत है जो इन तन्हाइयों से हो गई है..!!

कैसे गुजरती है मेरी हर एक शाम तुम्हारे बगैर,
अगर तुम देख लेते तो कभी तन्हा न छोड़ते मुझे..!!

एक पल का एहसास बनकर आते हो तुम,
दूसरे ही पल खुवाब बनकर उड़ जाते हो तुम,
जानते हो की लगता है डर तन्हाइयों से,
फिर भी बार बार तनहा छोड़ जाते हो तुम..!!

Best Alone Shayari Hindi

तेरे बिना ज़िंदगी अधूरी है यारा,
तुम मिल जाओ तो ज़िंदगी पूरी है यारा,
तेरे साथ ज़िंदगी की सारी खुशिया,
दुसरो के साथ हसना तो मज़बूरी है यारा..!!

हर शख्स मुझे ज़िन्दगी जीने का तरीका बताता है,
उन्हें कैसे समझाऊँ की एक खुवाब अधुरा है मेरा,
वरना जीना तो मुझे भी आता है..!!

चला जाऊंगा जैसे खुद को तनहा छोड़ कर,
मैं अपने आपको रातों में उठकर देख लेता हूँ..!!
दिल गया तो कोई आँखें भी ले जाता,
फ़क़त एक ही तस्वीर कहाँ तक देखूँ..!!

मैं भी तनहा हूँ और तुम भी तन्हा,
वक़्त कुछ साथ गुजारा जाए..!!
आँखें फूटें जो झपकती भी हों,
शब-ए-तन्हाई में कैसा सोना..!!

Faiailing Alonai Shayari

Meree Palakon Ka Ab Neend Se Koee Taalluk Nahee Raha,
Mera Kaun Hai Ye Sochane Mein Raat Guzar Jaatee Hai..!!
Vo Har Baar Mujhe Chhod Ke Chale Jaate Hain Tanha,
Main Mazaboot Bahut Hoon Lekin Koee Patthar To Nahin Hoon..!!
Yoon To Har Rang Ka Mausam Mujhase Vaakiph Hai Magar,

Raat Kee Tanhaee Mujhe Kuchh Alag Hee Jaanatee Hai..!!
Mohabbat Mukaddar Hai Koee Khvaab Nahee,
Ye Vo Ada Hai Jisamen Har Koee Kaamayaab Nahee,
Jinhen Milatee Manzil Ungaliyon Pe Vo Khush Hai,
Magar Jo Paagal Hue Unaka Koee Hisaab Nahee..!!

Meree Likhee Kitaab Mere Haatho Mein Dekar Kahane Lage,
Ise Padha Karo Mohabbat Karana Sikh Jaoge..!!

Alonai Shayari 2 Linais

Tum Jab Aaoge To Khoya Hua Paoge Mujhe,
Meree Tanhaee Mein Khvaabon Ke Siva Kuchh Bhee Nahin,
Mere Kamare Ko Sajaane Ki Tamanna Hai Tumhen,
Mere Kamare Mein Kitaabon Ke Siva Kuchh Bhee Nahin..!!
Bahut Socha Bahut Samajha Bahut Hee Der Tak Parakha,
Ki Tanha Ho Ke Jee Lena Mohabbat Se To Behatar Hai..!!

Abhee Zinda Hoon Lekin Sochata Rahata Hoon Akele Mein,
Ki Ab Tak Kis Tamanna Ke Sahaare Jee Liya Mainne..!!
Jab Jab Yaad Karogee Apanee Tanhaeeyo Ko,
Ek Jalata Charaag Sa Nazar Aaooga Main,
Raah Se Rahaguzar Ban Ke Bhee Gujar Jaogee,

Ek Mil Ka Patthar Sa Khada Nazar Aaooga Main..!!
Bichhad Ke Bhee Vo Roj Milata Hai Mujhe Khvaabon Mein,
Agar Ye Neend Na Hotee To Kab Ke Mar Gae Hote..!!
Aaj Kee Raat Jo Meree Tarah Tanha Hai, Main Kisee
Tarah Gujaaroonga Chala Jaoonga, Tum Pareshaan Na
Ho Baab-E-Karam-Va Na Karo, Aur Kuchh Der Pukaaroonga
Chala Jaoonga..!!

Sad Alonai Shayari

Main Hoon Dil Hai Tanhaee Hai,
Tum Bhee Jo Hote To Achchha Hota..!!
Hazaaro Baaten Mil Kar Ek Raaz Banata Hai,

Saat Suron Ke Milane Se Saaz Banata Hai,

Aashiq Ke Marane Par Kafan Bhee Nahin Milata,
Aur Haseenao Ke Marane Par Taaz Banata Hai..!!
Usakee Aarazoo Ab Kho Gayee Hai,
Khaamoshiyon Kee Aadat See Ho Gayee Hai,

Na Shikava Raha Na Shikaayat Kisee Se,
Bas Ek Mohabbat Hai Jo In Tanhaiyon Se Ho Gaee Hai..!!
Kaise Gujaratee Hai Meree Har Ek Shaam Tumhaare Bagair,
Agar Tum Dekh Lete To Kabhee Tanha Na Chhodate Mujhe..!!
Ek Pal Ka Ehasaas Banakar Aate Ho Tum,

Doosare Hee Pal Khuvaab Banakar Ud Jaate Ho Tum,
Jaanate Ho Kee Lagata Hai Dar Tanhaiyon Se,
Phir Bhee Baar Baar Tanaha Chhod Jaate Ho Tum..!!

Baist Alonai Shayari Hindi

Tere Bina Zindagee Adhooree Hai Yaara,
Tum Mil Jao To Zindagee Pooree Hai Yaara,
Tere Saath Zindagee Kee Saaree Khushiya,
Dusaro Ke Saath Hasana To Mazabooree Hai Yaara..!!

Har Shakhs Mujhe Zindagee Jeene Ka Tareeka Bataata Hai,
Unhen Kaise Samajhaoon Kee Ek Khuvaab Adhura Hai Mera,
Varana Jeena To Mujhe Bhee Aata Hai..!! Chala Jaoonga Jaise
Khud Ko Tanaha Chhod Kar, Main Apane Aapako Raaton Mein
Uthakar Dekh Leta Hoon..!! Dil Gaya To Koee Aankhen Bhee Le Jaata,

Faqat Ek Hee Tasveer Kahaan Tak Dekhoon..!!
Main Bhee Tanaha Hoon Aur Tum Bhee Tanha,

Vaqt Kuchh Saath Gujaara Jae..!!
Aankhen Phooten Jo Jhapakatee Bhee Hon,
Shab-E-Tanhaee Mein Kaisa Sona..!!

%d bloggers like this: