Bashir Badr – Us ki chahat ki chandni hogi

Us ki chahat ki chandni hogi,
Khoobsoorat si zindagi hogi,
Ek ladki bahut sey phool liye,
Dil ki dehleez par khadi hogi,
Chahey jitney charagh gul kar do,
Us key ghar roshni to hogi,
Neend tarseygi meri ankhon me,
Jab bhi khawbon sey dosti hogi,
Hum bohat door they magar tumney,
Dil ki awaz to suni hogi,
Sochta hun key wo kahan hogi,
Kis key angan me chandni hogi…

उस की चाहत की चाँदनी होगी,
खूबसूरत सी ज़िंदगी होगी,
एक लड़की बहुत से फूल लिए,
दिल की दहलीज़ पर खड़ी होगी,
चाहे जितने चराग गुल कर दो,
उस के घर रोशनी तो होगी,
नींद तरसेगी मेरी आँखों मे,
जब भी खाव्बों से दोस्ती होगी,
हम बहोत दूर थे मगर तुमने,
दिल की आवाज़ तो सुनी होगी,
सोचता हूँ के वो कहाँ होगी,
किस के आँगन मे चाँदनी होगी…

Leave a Reply