Bashir Badr – Yunhi be-sabab na phira karo

Yunhi be-sabab na phira karo koi sham ghar main raha karo,
Woh ghazal ki sahi kitaab hai ussey chupke chupke padha karo,
Koi haath bhi na milaayega jo gale miloge tapaak se,
Yeh naye mizaaj ka sheher hai zara faasle se mila karo,
Abhi raah main kayi morr hain koi aayega koi jaayega,
Tumhe jis ne dil se bhulaa diya ussey bhoolne ki dua karo,
Mujhe ishtihaar si lagti hain yeh mohabton ki kahaniyan,
Jo kaha nahin woh suna karo jo suna nahin woh kaha karo,
Kabhi husn-e-parda-nasheen bhi ho zara aashiqana libaas main,
Jo main ban sanwar ke kahin chaloon mere sath tum bhi chala karo,
Nahin be-hijaab woh chand sa ke nazar ka koi assar na ho,
Ussey itni garmi-e-shauq se badi der tak na taaka karo,
Yeh khizaan ki zard si shaal main jo udaas pair ke paas hai,
Yeh tumhare ghar ki bahaar hai ussey aansuyon se haraa karo…

यूँही बे-सबब ना फिरा करो कोई शाम घर मैं रहा करो,
वो गज़ल की सही किताब है उससे चुपके चुपके पढ़ा करो,
कोई हाथ भी ना मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से,
यह नये मिज़ाज का शहेर है ज़रा फ़ासले से मिला करो,
अभी राह मैं कई मोड हैं कोई आएगा कोई जाएगा,
तुम्हे जिस ने दिल से भुला दिया उससे भूलने की दुआ करो,
मुझे इश्तिहार सी लगती हैं यह मोहब्तों की कहानियाँ,
जो कहा नहीं वो सुना करो जो सुना नहीं वो कहा करो,
कभी हुस्न-ए-परदा-नशीन भी हो ज़रा आशिक़ाना लिबास मैं,
जो मैं बन संवार के कहीं चलूं मेरे साथ तुम भी चला करो,
नहीं बे-हिजाब वो चाँद सा के नज़र का कोई अस्सर ना हो,
उससे इतनी गर्मी-ए-शौक़ से बड़ी देर तक ना ताका करो,
यह खीज़ान की ज़र्द सी शाल में जो उदास पैर के पास है,
यह तुम्हारे घर की बहार है उससे आँसुयों से हरा करो…

Leave a Reply