Best Collection of Pakistani Two Lines urdu Shayari

कोई ऐसा शख्स

जो पुकारता था हर घड़ी , जो जुड़ा था मुझसे लड़ी लड़ी
कोई ऐसा शख्स अगर कभी , मुझे भूल जाये तो क्या करूं

Koi Aisa Shakhs

Jo Pukarta Tha Har Ghadi, Jo Juda Tha Mujhse Ladi Ladi
Koi Aisa Shakhs Agar Kabhi, Mujhe Bhool Jaye To Kya Krun


जान देने की इजाज़त

जान देने की इजाज़त भी नहीं देते हो
वरना मर जाएँ और मर के मना लें तुम को

Jaan Dene Ki Ejazaat

Jaan Dene Ki Ejazaat Bhi Nahi Dete Ho
Warna Mar Jayein Aur Mar Ke Manaa Le Tum Ko


उम्र भर के साथ

उस मरहले को मौत भी कहते हैं दोस्तों
एक पल में टूट जाएँ जहाँ उम्र भर के साथ

Umar Bhar Ke Sath

Us Marhaly Ko Mout Bhi Kehte Hain Dosto
Ek Pal Mein Toot Jayen Jahan Umar Bhar Ke Sath


मिसल-ऐ-खुशबु

सुना है जिन की बातें मिसल-ऐ-खुशबु फैला जाती हैं
बहुत बिखरे हुए होते हैं ऐसे लोग अंदर से

Misl-ae-Khushbu

Suna Hai Jin Ki Baaten Misl-ae-Khushbu fila Jati Hain
Bahut Bikhre Hue Hote Hain Aise Log Andar Se

Leave a Reply