Best Gulzar Shayari in Hindi – Heart Touching Gulzar Shayari in Hindi

Best Gulzar Shayari in Hindi:- If you are searching for the best collection of Gulzar Shayari Hindi with Images. So, this is the right place to read and copy an awesome collection of Gulzar Saab Sad Shayari in the Hindi language. Here, you can easily read and share with your friends.

In this post, we have shared 111+ Bets Gulzar Shayari in Hindi which you can read and copy to share with your broken heart lover. Here we have shared Gulzar’s new Sad Shayari and Life Shayari for you, whose image you can download and share. We hope you will like this Shayari.

Gulzar Saab Ki Hindi Shayari


कभी इसका दिल रखा कभी उसका दिल रखा
इस कशमकश में भूल गए खुद का दिल कहां रखा

बड़ी मुददत से मिलता है
बड़ी शिददत से चाहने वाला

बुरा वक़्त तो गुज़र ही जायेगा
बस वही लोग नहीं गुज़रते
जिनकी वजह से वो बुरा वक़्त आया है

छोड़ दो ये बहाने
जो तुम करते हो,
हमें भी अच्छे से मालूम है
मज़बूरियाँ तभी आती हैं
ज़ब दिल भर गया हो

Gulzar Saab Ki Hindi Shayari

बटुए को क्या मालूम पैसे उधार के है
वो तो बस फूला ही रहता है अपने गुमान में

यही तो ज़माने का उसूल है
जरुरत हो तो खुदा
वरना बंदा फ़िज़ूल है

इस दौर के लोगो में वफ़ा ढूंढ रहे हो
बड़े नादान हो साहब
ज़हर की शीशी में दवा ढूंढ रहे हो

जो हमारे जज्बातो
की कद्र नही कर सकते,
उनके पीछे पागल होना
प्यार नहीं बेवकूफ़ी है

Short Gulzar Shayari Hindi Mein

खुशियाँ चाहे किसी के साथ भी बाँट ले पर
अपने गम किसी भरोसेमंद के साथ ही बांटने चाहिए

हम चाय पीकर कुल्हड़ नहीं तोड़ पाते
दिल तो खैर बहुत दूर की बात है

ये तो दस्तूर है
जो जितने पास है
वो उतना ही दूर है

माफ़ी चाहता हूँ
तेरा गुनहगार हू ऐ दिल,
तुझे उसके हवाले किया
जिसे तेरी क़दर नही थी

Best Gulzar Shayari in Hindi – Heart Touching Gulzar Shayari in Hindi

जाने वाले को जाने दीजिये
आज रुक भी गया तो
कल चला जायेगा

मुझे रिश्तो की लंबी कतारों से मतलब नहीं
कोई दिल से हो मेरा तो एक शख्स भी काफी है

वैसे दुनिया में आते है सभी मरने के लिए
पर असल मौत उसकी है जिसका अफ़सोस ज़माना करे

तुम्हें मोहब्बत कहां थी
तुम्हें तो सिर्फ़ आदत थी
मोहब्बत होती तो हमारा
पल भर का बिछड़ना भी
तुम्हे सुकून से जीने नहीं देता।

Best Gulzar Shayari in Hindi – Heart Touching Gulzar Shayari in Hindi

हालात दिखा देते है बातें सुनना और सहना
वरना हर शख्स अपने आप में बादशाह होता है

मै ही मनाऊ हमेशा तुझे कभी तू भी तो मना मुझे
महसूस तो करू कैसा लगता है जब यार अपना मनाता है

मुझे तो तोफे में अपनों का वक़्त पसंद है
मगर आज कल इतने महंगे तोफे देता कौन है

अगर किसी से बिछड़ने का डर
तुम्हें हर रोज़ रहने लगे तो
यकीन मानो कि उस इंसान को
तुम एक दिन खो ही दोगे

Gulzar Shayari in Hind

यहाँ हर किसी को दरारों में झाँकने की आदत है
दरवाज़े खोल दो कोई पूछने तक नहीं आएगा

जो साथ रहकर भी साथ न हो
वो दूर ही रहे तो अच्छा है

पलट कर जवाब देना
बेशक गलत बात है
लेकिन सुनते रहो तो लोग
बोलने की हदें भूल जाते है

पूछा जो हमने किसी और
के होने लगे हो क्‍या,
वो मुस्कुरा कर बोले
पहले तुम्हारे थे क्या

Best Gulzar Shayari in Hindi – Heart Touching Gulzar Shayari in Hindi

तिनका सा मै और
समुंदर सा इश्क़
डूबने का डर और
डूबना ही इश्क़

सोचता था दर्द की दौलत से एक मै ही मालामाल हूँ
देखा जो गौर से तो हर कोई रईस निकला

अब मुझे रास आ गया है अकेलापन
अब आप अपने वक़्त का अचार डाल दीजिये

ख़ुदा तूने तो लाखो की
तकदीर संवारी है,
मुझे दिलासा तो दे की
अब तेरी बारी हैं

Best Gulzar Shayari in Hindi – Heart Touching Gulzar Shayari in Hindi

फुरसत में याद करना हो तो मत करना
हम अकेले जरूर है मगर फ़िज़ूल नहीं

जब अपने ही परिंदे किसी और के दाने के
आदि हो जाये तो इन्हे आज़ाद कर देना चाहिए

काश कोई हमें भी ऐसा चाहे
जैसे कोई तकलीफ में सुकून चाहता है

याद रखना दर्द भी वही देते है
जिन्हें हक दिया जाता है,
वरना गैर तो धक्का लगने पर भी
माफी माँग लिया करते है

हम अपनी इस अदा पर गुरुर करते है
किसी से प्यार हो या नफरत भरपूर करते है

अंजान परिंदे उड़ गए उनका क्या दुःख
यहाँ तो पाले हुए दूसरों की छत पर उतर रहे है

रुतबा कम है मगर लाज़वाब है मेरा
जो हर किसी के दर पर दस्तक दे
वो किरदार नहीं मेरा

एक दिन शिकायत तुम्हें
वक्त से नहीं खुद से होगी,
कि जिंदगी सामने थी
और तुम दुनिया में उलझे रहे

Best Gulzar Shayari in Hindi – Heart Touching Gulzar Shayari in Hindi

चुभता हूँ सबको
कोई छूरा तो नहीं हूँ
तुम बताते हो जितना
उतना बुरा तो नहीं हूँ

किसी को आसानी से मत मिल जाना
लोग रास्ता समझने लगते है

दिल के मरीज़ हॉस्पिटल
से जयादा ऑनलाइन मिलते है

इतने जल्द ना सारे राज
बताया करो,
बात अगर लंबी करनी हो
तो कुछ राज छुपाया करो

Gulzar Shayari in Hind

“भरोसा नहीं है क्या मुझपे”
ये लाइन बोलकर पता नहीं
कितने लोग धोखा दे देते है

चाहते है वो हर रोज़ एक नया चाहने वाला
ए खुदा मुझे हर रोज़ एक नई सूरत दे दे

छू न पाया मेरे अंदर की उदासी को कोई
मेरे चेहरे ने इतनी अच्छी अदाकारी की

दुसरो को इतनी जल्दी
माफ़ कर दिया करो
जितनी जल्दी आप
उपरवाले से अपने लिए
माफ़ी की उम्मीद रखते हो

मुझसे धोखा दिया नहीं जाता
मै साथ दुनिया के चलू कैसे

मै सबका दिल रखता हूँ और
सुनो मै भी एक दिल रखता हूँ

दूरियां जब बढ़ी तो
गलतफहमियां भी बढ़ गई,
फिर उसने वो भी सुना
जो मैंने कहा ही नहीं

4 Lines Gulzar ki Shayari

मशवरा तो खूब देते हो की खुश रहा करो
कभी खुश रहने की वजह भी दे दिया करो

मुझे किसी के बदल जाने का कोई गम नहीं
बस कोई था जिससे ये उम्मीद नहीं थी

लोग कहते है भूल जाओ उसे
कितना आसान है न मशवरा देना

जहाँ जाना है जाओ,
तुमसे अब कोई रिश्ता थोड़ी है,
जिसके लिए मुझे छोड़ के गए हो
वो भी कोई फरिश्ता थोड़ी है

Best Gulzar Shayari in Hindi – Heart Touching Gulzar Shayari in Hindi

हमसे रिश्ता बनाये रखना
हम वहाँ काम आते है
जहाँ सब साथ छोड़ जाते है

मै वो क्यों बनू जो तुम्हे चाहिए
तुम्हे वो कबूल क्यों नहीं जो मै हूँ

मुम्किन है मेरे किरदार में बहुत सी खामिया होंगी
पर शुकर है किसी के जज़्बात से खेलने का हुनर नहीं आया

चलो ये अच्छा हुआ
नींद ले गया वरना
तेरा ख़्याल..
मेरी जान भी ले सकता था

Best Gulzar Shayari in Hindi – Heart Touching Gulzar Shayari in Hindi

कहा था ना की एक दिन मुझे फरक पड़ना ही बंद हो जायेगा
वो दिन आ गया है आज़ाद हो तुम, अपना ख्याल रखना

गैर क्यों ले जा रहे है अपने कंधे पर
अरे हां मेरे अपने तो कब्र खोद रहे है

मोहब्बत क्‍या है उस
शख़्श से पूछो,
जिसने दिल टूटने के बाद भी
इंतेज़ार किया हो

लिहाज़ नहीं रखते हम संस्कारो का
लहजा बदल जाये अगर बात करने वालो का

उसको दुःख ही नहीं जुदाई का
बस ये दुःख ही खा गया मुझको

लोगो को हद से जयादा इज़्ज़त और भरोसा दोगे
वो उठाकर आपके मुँह पर बेइज़्ज़ती और धोखा ही मरेगा

फितरत में ही नहीं है
हर किसी का हो जाना,
वरना न प्यार कि कमी थी
न प्यार करने वालों की

उसने ये सोचकर मुझे अलविदा कह दिया
की गरीब है मोहब्बत के सिवा क्या देगा

दर्द को छोड़ कर हार में तू राज़ी है
भूल रहा तेरे हाथो में अभी बाज़ी है

सुनाऊ क्या? किस्सा थोड़ा अजीब है,
जिसने खंज़र मारा है वही दिल के करीब है

बातें तो सिर्फ जज़्बातों
की है वरना मोहब्बत तो
सात फेरो के बाद भी नहीं होती

Short Gulzar Shayari Hindi Mein

मुद्द्ते गुज़र गयी हिसाब नहीं किया
न जाने अब किसके कितने रह गए है हम

मेरी तो खुद की किस्मत साथ नहीं देती
तुम तो “खैर” तुम हो

पतझड़ में सिर्फ पत्ते गिरते है
नज़रो से गिरने का कोई मौसम नहीं होता

इतने बेवफा नहीं हैं
जो तुम्हें भुल जाएंगे,
अक्सर चुप रहने वाले
प्यार बहुत करते है

Gulzar Shayari in Hind

कभी कभी की मुलाकात अच्छी है
कदर खो देता है हर रोज़ का आना जाना

तुम बदले तो हम भी कहाँ पुराने से रहे
तुम आने से रहे तो हम भी बुलाने से रहे

नासमझ है वो अभी मेरी बात नहीं समझेगा
मेरी जगह नहीं है न मेरे हालात नहीं समझेगा

कर दिया आजाद उनको
जो दिल में हमारे रहकर,
ख्वाब किसी और के देखते थे

Short Gulzar Shayari Hindi Mein

मोहब्बत और वफ़ा गयी तेल लेने
पहले ये बताओ की कश्ती वहां कैसे डूबी
जहां पानी कम था

वो सफर बचपन के अब तक याद आते है मुझे
सुबह जाना हो कहीं, तो रात भर सोते न थे

ज़माने की तो फ़ितरत ही है
बातों से मुकर जाना…
हम ही पागल थे जो
वादों पर ऐतबार किया करते थे

सभी के नाम पर नहीं रूकती धड़कने
दिलो के भी कुछ उसूल हुआ करते है

मुझे लगता था उसे मुझसे मोहब्बत है
कहा न लगता था

सोचकर बाजार गया था अपने कुछ आंसू बेचने
हर खरीददार बोला अपनों के दिए तोफे बेचा नहीं करते

कभी घमंड ना करना
अपनी मोहब्बत पे,
तुम से बेहतर मिलने पर
तुम ठकरा दिए जाओगे

खामोशियां भी रिश्ते खा जाती है
थोड़ा ही साही ताल्लुक़ जिंदा रखिये

इश्क़ की अपनी ही बचकानी ज़िद होती है
चुप करवाने के लिए भी वही चाहिए जो रुलाकर गया है


Painful Gulzar Shayari in Hindi


बिछड़ते वक़्त मेरे सारे ऐब गिनाये उसने
सोचता हूँ जब मिला था तब कोन सा हुनर था मुझमे

जो सबके ही करीब हो,
उसको पाकर कोई कैसे
खुशनसीब हो

धागे बड़े कमज़ोर चुन लेते है हम,
और फिर पूरी उम्र
गांठ बांधने में निकल जाती है

हर तरीका आज़मा चुका हूँ
तुम्हें मनाने का,
कहाँ से सीख के आये हो
ये अंदाज रूठ जाने का

कभी कभी उनसे भी दूर होना पड़ता है
जिनके साथ हम ज़िंदगी गुज़ारना चाहते थे

कौन देता है उम्र भर का साथ
लोग जनाज़े में भी कंधा बदलते है

हमें भी सीखा दो
यूँ भूल जाने का हुनर
अब हमसे रातों को
उठ उठ कर रोया नहीं जाता

4 Lines Gulzar ki Shayari

इंसान यूं ही नहीं मतलबी कहा जाता है
उसे अपने सुख से ज़यादा, दूसरे के दुःख में मज़ा आता है

तुम बदले तो हम भी कहाँ पुराने से रहे
तुम आने से रहे तो हम भी बुलाने से रहे

गलती बस एक ही हुई
मुझसे ज़िंदगी में..
जिसने मुड़कर भी ना देखा,
मैंने उसका इंतज़ार किया

यही तो ज़माने का उसूल है
जरुरत हो तो खुदा
वरना बंदा फ़िज़ूल है

इस दौर के लोगो में वफ़ा ढूंढ रहे हो
बड़े नादान हो साहब
ज़हर की शीशी में दवा ढूंढ रहे हो

हमने कहा उनसे
हम बहुत रोते हैं तुम्हारे लिए,
वो बोले रोते तो सब हैं
तो हम क्‍या सबके हो जाए

Gulzar Shayari in Hind

बस यही “दौड़” है इस दौर के इंसानो की
तेरी दीवार से ऊँची मेरी दीवार बने

कुछ तो बात है मोहब्बत में
वरना एक लाश के लिए
कोई ताज महल नहीं बनता

जिस्म से होने वाली मोहब्बत का
इज़हार आसान होता है…
रूह से हुई मोहब्बत समझने में
ज़िन्दगी गुज़र जाती है

ज़रा सी बात पर शौक करना मेरी आदत नहीं
गहरी जड़ का बरगद हूँ दीवार पर ऊगा पीपल नहीं

एक शख्स जो इतना सताता है
सुकून भी न जाने क्यों उसी के पास आता है

एक दिन तुम मुझे
इसलिए भी खो दोगे कि
हमारी रोज़ बात नहीं होती

Short Gulzar Shayari Hindi Mein

मै तुझे बार बार इसलिए समझता हूँ
तुझे टुटा हुआ देखकर मै खुद भी टूट जाता हूँ

बस यही “दौड़” है इस दौर के इंसानो की
तेरी दीवार से ऊँची मेरी दीवार बने

मोहब्बत की है तुम से,
बेफिक्र रहो,
नाराज़गी हो सकती है,
पर नफ़रत कभी नहीं होंगी

चाहने वालो को नहीं मिलते चाहने वाले
हमने हर दगाबाज़ के साथ सनम देखा है

हम अफ़सोस क्यों करे की कोई हमे ना मिला
अफ़सोस तो वो करे जिन्हे हम ना मिले

ख्वाहिश तो न थी किसी से
दिल लगाने की
पर किस्मत में दर्द लिखा हो
तो मोहब्बत कैसे न होती।

ना मांग कुछ ज़माने से ये देकर फिर सुनाते है
किया एहसान जो एक बार वो लाख बार जताते है

मेरे तो दर्द भी औरों के काम आते है
मै रो पढू तो कई लोग मुसकुराते है

एक वक़्त के बाद
हर कोई गैर हो जाता है,
उम्र भर किसी को अपना
समझना एक वहम है

4 Lines Gulzar ki Shayari

कितने अजीब होते है ये मोहब्बत के रिवाज़ भी
लोग आप से तुम , तुम से जान और जान से अनजान बन जा

निकाल देते है औरों में ऐब जैसे खुद नेकियों के नवाब है
अपने गुनाहो पर डाल कर पर्दा कहते है ज़माना खराब है

जिस दिन उस पर
दिल आया था
उस दिन मौत आ जाती
तो ज़्यादा अच्छा था

Gulzar Shayari in Hind

“भरोसा नहीं है क्या मुझपे”
ये लाइन बोलकर पता नहीं
कितने लोग धोखा दे देते है

चाहते है वो हर रोज़ एक नया चाहने वाला
ए खुदा मुझे हर रोज़ एक नई सूरत दे दे

छू न पाया मेरे अंदर की उदासी को कोई
मेरे चेहरे ने इतनी अच्छी अदाकारी की है

%d bloggers like this: