Bewafa Shayari – Gunah Karke

Gunah Karke Saza Se Darte Hain,
Zehar Pee ke Dawa Se Darte Hain,
Dushmano ke Sitam Ka Khauff Nahi,
Hum To Doston Ki Wafa Se Darte Hain..

गुनाह करके सज़ा से डरते हैं,
ज़हर पी के दवा से डरते हैं,
दुश्मनो के सितम का ख़ौफ्फ नही,
हम तो दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं..

Leave a Reply