Bewafa Shayari – Sisakta Dekha

Aao kisi sham mujhe toot ke bikharta dekho,
Meri ragon mein zeher judai ka utarta dekho,
Kis kis adaa se tujhe manga hain khuda se,
Aao kabhi mujhe sajdon main sisakta dekho..

आओ किसी शाम मुझे टूट के बिखरता देखो,
मेरी रागों में ज़हेर जुदाई का उतरता देखो,
किस किस आडया से तुझे माँगा हैं खुदा से,
आओ कभी मुझे सजदों मैं सिसकता देखो..

Leave a Reply