Bewafa Shayari – Zakhm Uski Meharbani

Zindagi ka har zakhm uski meharbani hai,
Meri zindagi to ek adhuri kahani hain,
Mita deta har dard ko magar,
Yeh dard hi to uski aakhri nishani hain..

ज़िंदगी का हर ज़ख़्म उसकी मेहरबानी है,
मेरी ज़िंदगी तो एक अधूरी कहानी हैं,
मिटा देता हर दर्द को मगर,
यह दर्द ही तो उसकी आखरी निशानी हैं..

Leave a Reply