Anne Frank Quotes To Make Your Heart Melt

Anne Frank’s full name Annelies Marie “Anne“ Frank was a German-born Dutch-Jewish diarist. She gained name and fame through the publication of The Diary of a Young Girl in which she documented her own life. Anne wrote about her life in hiding from 1942 to 1944, at the time of World War II in the German occupation of the Netherlands.

Anne Frank Birthday: Anne was born on 12th June 1929 in Frankfurt, Germany.

Anne Frank Family: Anne was born to Edith and Otto Heinrich Frank. She had an elder sister, Margot. The family was Liberal Jews and they did not follow all the customs and traditions of Judaism. They belonged to a minority group of Jewish and Non-Jewish citizens of various religions.

Since August 1944, Anne started writing a diary on a regular basis. In this diary, she wrote all the incidents of her and family struggling & hiding during the World War II. Unfortunately during the War incidents, the Franks got arrested. And at the age of just 15 years, the girl died in either February or March 1945.

Out of the whole Frank family only Otto Heinrich Frank managed to survive. She returned to Amsterdam after the war to find out the diary which Anne used to write. Finally she found the diary and got its publication in 1947. The dairy than in 1952 translated into English from Dutch as “The Diary Of A Young Girl“. Till date the book has been translated into more than 60 languages.

Now let’s have a look into the heart touching Anne Frank Quotes that will melt your heart.

Anne Frank Quotes

“Think of all the beauty still left around you and be happy.” — Anne Frank

“No one has ever become poor by giving.” — Anne Frank

“Despite everything, i believe that people are really good at heart.” — Anne Frank

“Because paper has more patience than people.” — Anne Frank

“Whoever is happy will make others happy.” — Anne Frank

“A quiet conscience makes one strong.” — Anne Frank

“Look at how a single candle can both defy and define the darkness.” — Anne Frank

“He who has courage and faith will never perish in misery!.” — Anne Frank

“I know that I’m a woman, a woman with inward strength and plenty of courage.” — Anne Frank

“Parents can only give

Abraham Lincoln Quotes That Will Lead You Ahead In Life

Abraham Lincoln was the most influential American Statesman and Lawyer. Abraham Lincoln was the one who served as the 16th President of the United States. The man led the nation throughout the American Civil War. Most of the notable works fall into his good books such as abolished slavery, strengthened the federal government, and modernized the U.S. economy.

Abraham Lincoln Birthday: Abraham was born on 12th February, 1809 in  Sinking Spring Farm near Hodgenville, Kentucky.

Abraham Lincoln Family: Abraham was born to Thomas Lincoln and Nancy Hanks Lincoln. He grew up in very backward poor family.

Abraham was born into a humble family with backward parents, but still he managed to pursue self-education. He became a well-renowned lawyer, Whig Party leader, Illinois state legislator and Congressman. Although he left congress to resume his law practice. But in 1854 he re-entered into politics. He then ran for President ship in 1860 and succeeded in that. The main contribution of his winning went to southern pro-slavery elements. He proved to be a great leader. On foreign and military policy, he spoke against the Mexican-American war. Moreover, he was the first Republican president and his victory was entirely due to his support in the North and West. The leader received 1,866,452 votes. He won the free Northern states, as well as California and Oregon.

Lincoln was an en-actor of the Emancipation Proclamation who preserved the Union and had an affinity for tall hats but he also supported and said a lot about humanity, adversity, the role of government. Being a great President of America, he directed and headed his nation through the Civil war, which was the costliest war in the history of the U.S.

From a simple man to a great leader, he emphasized on many important aspects. Let’s check out some of the most appealing Abraham Lincoln Quotes that will lead you ahead in life.

Abraham Lincoln Quotes

Those who deny freedom to others deserve it not for themselves.” — Abraham Lincoln

Freedom Quotes by Abraham Lincoln

“Be sure you put your feet in the right place, then stand firm.” — Abraham Lincoln

“If I were two-faced, would I be wearing this one?” — Abraham Lincoln

“You cannot escape the responsibility of tomorrow by evading it today.” — Abraham Lincoln

“Don’t worry when you are not recognized, but strive to be worthy of recognition.” — Abraham Lincoln

“I never had a

20 Powerful (And Surprisingly Funny!) Stephen Hawking Quotes That Will Blow Your Mind

The life, lessons, and inspiration from the iconic genius who taught us how the universe began.

Stephen William Hawking (1942 – 2018) was a brilliant theoretical physicist, cosmologist, best selling author and pop culture phenomenon that shed light on the many mysteries of the cosmos, origins of the universe, and the nature of time.

He suffered from a motor neuron disease known as Amyotrophic Lateral Sclerosis (ALS), otherwise known as Lou Gehrig’s disease, which causes progressive degeneration of nerve cells. The disease, which he was diagnosed with when he was only 21 years old, almost entirely paralyzed him and forced him into a wheelchair with a computer-generated voice synthesizer as a means of communicating.


Despite these challenges, Hawking’s mental state remained intact, and his ideas would revolutionize the way the world came to understand the universe itself.

In Stephen Hawking’s obituary, Dennis Overbye of the New York Times writes:

Hawking “roamed the cosmos from a wheelchair, pondering the nature of gravity and the origin of the universe and becoming an emblem of human determination and curiosity.”

Many believe that through his contributions to science, he was the greatest theoretical physicist since Einstein. 

Hawking was born in Oxford, United Kingdom on January 8, 1942. His mother described the young Hawking as an avid party goer who “liked pretty — only pretty ones” and “to some extent, like[d] work.” Hawking said that his parents encouraged him to “always question things and think big.” Hawking later recollected,

“To outsiders, the Hawking household was considered eccentric, but, for me, it was a place where my mind was constantly challenged.”

Following in his parent’s footsteps, the young Hawking attended Cambridge. It was here that he began to take interest in Physics (the study of energy and matter), and after graduating, Hawking continued his postgraduate education at Cambridge University, specializing in the field of Cosmology.

In 1965 — two years after he was diagnosed with Lou Gehrig’s disease and given only two years to live — Hawking fell in love with Jane Wilde. Despite being fully aware of the challenges yet to come, they married.

Hawking said that his marriage “gave [him] something to live for” and gave him the motivation he needed to push forward with his research. He continues, “I started working hard for the first in my life.”

Despite his ever-worsening physical condition, Hawking’s pop culture fame skyrocketed along with …

Warren Buffett Biography Hindi, Success Story of Warren Buffett

वॉरेन बफे का जीवन परिचय – 

वॉरेन बफे दुनिया के जाने माने व्यक्ति है इन्हे शेयर बाजार के खिलाडी के नाम से भी जाना जाता है | वारेन बफे की चर्चा दुनिया के अख़बार, टी. वी, चैनल आदि में बहुत हुई है | दुनिया के सबसे अमीर आदमियों में से एक, जिसे बिल गेट्स अपना बेहतरीन दोस्त और प्रेरक मानते है | इनका जन्म 30 अगस्त 1930 नेवस्का यु.एस (U.S) में हुआ था | इनके पिता जी का नाम हॉवर्ड बफे और माता का नाम लीला स्टॉल था | इनके पिता जी शेयर बाजार में कारोबारी थे |

वारेन बफे ने 11 साल की उम्र में अपने पिता जी के साथ शेयर बाजार के कारोबार में शुरुआत की, 13 साल की उम्र में वारेन बफे ने अपना पहला आयकर विवरण दायर किया था और अपनी साईकिल के 35 डालर को एक व्यय के रूप में घाटा दिया । 15 साल की उम्र में हाई स्कूल (High School) अंतिम वर्ष में बफे और उनके एक साथी ने 25 डालर में एक इस्तेमाल की हुई पिनबॉल मशीन खरीदी और उसे एक नाई (Barber) की दुकान में रख दिया। बहुत ही कम समय में उनके पास तीन मशीनें अलग अलग जगहों पर हो गई थीं, 20 साल की उम्र में बफे (Buffett) ने हार्वर्ड बिज़नेस स्कूल (Harvard Business School) में प्रवेश के लिए आवेदन किया लेकिन उन्हें ठुकरा दिया गया | फिर वॉरेन बफे (Warren Buffett) नें कोलंबिया बिजनेस स्कूल (Columbia Business School) में दाखिला लिया और वही से बफे नें शेयर बाजार में निवेश करने के गुण सिखे।

वारेन बफे अपनी जीवन शैली बहुत ही सरल तरीके से यापन करते थे | (Simple Living High Thinking) आज वॉरेन बफे के पास इतनी सम्पति होने के बावजूद उनकी जीवन शैली उतनी ही सरल है | बफे आज भी उसी घर में रहते है जो उन्होंने 5 दशक पहले खरीदा था वे अपने कार्य स्वयं करते है और न ही कोई सुरक्षा गार्ड का प्रयोग करते है, और न ही उनके पास कोई ड्राइवर है वह कार स्वयं चलाते है साथ ही वह कभी निजी विमान से यात्रा नहीं करते और वह अपने सभी CEO को साल में केवल एक बार पात्र लिखते हैं |

वारेन बफे की सबसे बड़ी बात तो यह है की उन्होंने अपनी कुल संपत्ति का लगभग 85% हिस्सा बिल गेट्स (Bill Gates) की बिल एंड मेलिंडा गेट्स फॉउंडेशन (Bill & Melinda Gates Foundation) को …

मुंशी प्रेमचंद की जीवनी Munshi Premchand Biography in Hindi

Munshi Premchand Biography in Hindi

मुंशी प्रेमचंद (Hindi Writer Munshi Premchand) को आधुनिक हिंदी का पितामह कहा जाता है| आसमान में जो स्थान ध्रुव तारे का है वही स्थान हिन्दी साहित्य में मुंशी प्रेमचंद का है| मुंशी जी हिन्दी के प्रमुख लेखकों में से एक हैं| खासकर हिन्दी और उर्दू में प्रेमचंद जी का विशेष लगाव रहा है| मुंशी जी को उपन्यास सम्राट भी कहा जाता है| आज भी स्कूल और विद्यालयों में मुंशी जी की कहानियां बच्चों को पढ़ाई जाती हैं| प्रेमचंद जी हिंदी के सबसे लोकप्रिय और जाने माने लेखक हैं|

 

मुंशी प्रेमचंद का जन्म 31 जुलाई 1880 को बनारस से थोड़ी दूर लमही नामक गाँव में हुआ था| मुंशी जी के पिता अजायब राय जी एक डाकखाने में छोटी नौकरी करते थे| मुंशी जी उस समय मात्र 8 वर्ष के रहे होंगे जब इनकी माँ का देहांत हो गया| बाल्यावस्था में ही इनके ऊपर जिम्मेदारियों का बोझ आ पड़ा| इनके पिता ने घर की देखभाल के लिए दूसरी शादी कर ली लेकिन सौतेली माँ की आँखों में मुंशी जी के लिए कोई प्रेम नहीं था| बचपन में ही गरीबी और बड़ी विषम परिस्थितियों का सामना करना पड़ा|

उस समय बहुत कम उम्र में ही लोगों की शादियाँ हो जाया करती थीं सो प्रेमचंद जी का विवाह भी मात्र 15 वर्ष की आयु में ही हो गया| मुंशी जी ने खुद अपनी पत्नी के बारे में लिखा है कि वो उम्र में मुंशी जी से बड़ी और कुरूप थीं|

 

विवाह के एक वर्ष बाद ही पिता का देहांत हो गया| प्रेमचंद जी पर मानो मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा| सौतेली माँ के 2 बच्चे, अपनी पत्नी और एक खुद – इस तरह 4 लोगों जिम्मेदारी मुंशी जी के कंधों पर ही आ पड़ी|

मुंशी जी ने परिवार का खर्चा चलाने के लिए अपने कपड़े और किताबें तक बेच दीं| लेकिन पढ़ाई का शौक मुंशी जी को शुरुआत से ही था इसी बीच उन्होंने एक स्कूल में अध्यापक की नौकरी कर ली|

 

मुंशी जी जब छोटे थे तो अपने गाँव से बहुत दूर बनारस में पैदल ही पढ़ने जाते थे| बचपन से ही एक बड़ा वकील बनना चाहते थे| पढ़ाई का शौक भी था लेकिन गरीबी की वजह से सारे सपने दम तोड़ते नजर आ रहे थे| मुंशी जी बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर अपनी स्कूल की फीस देते थे| किसी तरह मुश्किल ने मैट्रिक पास किया|

परिस्थितियां कठिन जरूर थीं लेकिन साहित्य के प्रति उनका लगाव लगातार बढ़ता ही …

गोल्डन गर्ल हिमा दास का जीवन परिचय और सफ़लता की कहानी | Hima Das Biography & Success Story

Hima Das Biography : भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम के एक छोटे से गाँव की १९ वर्ष की लड़की का नाम आज हर किसी की जुबान पर है. उसने कारनामा ही ऐसा कर दिखाया है, जो आज तक कोई भारतीय दिग्गज एथलीट नहीं कर पाया है.

मात्र १८ वर्ष की उम्र में World U-20 Championship 2018 में गोल्ड मैडल हासिल करने वाली पहली भारतीय एथलीट बनने के बाद उसने वर्ष २०१९ में १ माह के भीतर ५ विभिन्न अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में गोल्ड मैडल जीतकर अपना नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज कर दिया है.  

हम बात कर रहे हैं ‘Golden Girl‘ और ‘Dhing Express’ के नाम से मशहूर sprint runner हिमा दास (Hima Das) की. हिमा दास ने सीमित संसाधनों के साथ अपनी कड़ी मेहनत और जूनून से जो सफ़लता प्राप्त की है, वो काबिले तारीफ है. लेकिन सफ़लता की ये राह इतनी भी आसान नहीं थी. आइये विस्तार से जानते हैं – हिमा दास के जीवन, उनके संघर्ष और सफ़लता के बारे में :

Hima Das Biography In Hindi
Hima Das Biography In Hindi | Image Source – rediff.com

हिमा दास का संक्षिप्त परिचय | Hima Das Short Bio 

Name Hima Das हिमा दास 
Nick NameDhing Express, Golden Girl
Birth Date9 January 2000
Birth Place Dhing, Nagaon, Assam
NationalityIndian 
Father’s NameRonjit Das
Mother’s NameJonali Das
CoachNipon Das
Height167 cm (5 Ft. 6 Inch)
Weight52 Kg
OccupationAthlete, Sprint Runner

हिमा दास का जन्म और प्रारंभिक जीवन

हिमा दास (Hima Das) का जन्म ९ जनवरी २००० को असम (Assam) के नगाँव (Nagaon) जिले के ढींग (Dhing) कस्बे के कांधूलिमारी (Kandhulimari Village) नामक गाँव में हुआ था. ढींग गाँव की होने के कारण लोग उन्हें ‘ढींग एक्सप्रेस’ (Dhing Express) के नाम से भी पुकारते हैं.

हिमा के पिता का नाम रणजीत दास (Ronjit Das) है, जो एक कृषक है. वे मुख्य रूप से चांवल की कृषि करते हैं. माता जोनाली दास (Jonali Das) है, जो घर संभालने के साथ ही कृषि के कार्यों में हिमा के पिता का हाथ बंटाती है.

६ भाई-बहनों में हिमा सबसे छोटी है. १७ सदस्यों का उनका एक बड़ा परिवार है. परिवार का पूरा खर्च कृषि से होने वाली आमदनी से चलता था. ज़ाहिर है, कृषि की सीमित आय से इतने बड़े परिवार का पालन-पोषण इतना आसान नहीं था.

हिमा …

Dhvani Bhanushali | ध्वनि भानुशाली बायोग्राफी

Dhvani Bhanushali | ध्वनि भानुशाली बायोग्राफी

एक ऐसा नाम जिसने अपने बचपन के सपने को बहुत कम उम्र में हासिल किया,
एक नाम ऐसा जिसने अपनी कला से पूरी दुनिया को अपना दीवना बना दिया,

जिसने एक छोटे से यूट्यूब चैनल से सफर चालू किया और आज बॉलीवुड में एक अलग ही परचम लहरा दिया,
जिसने मॉडलिंग से लेकर गायिका का सफर सफलतापूर्वक तय किया
वो नाम है ध्वनि भानुशाली

आइये जानते है ध्वनि की ज़िंदगी से जुड़े हुए कुछ ऐसे अहम पहलू जिससे आप शायद बेखबर है…

 

Dhvani Bhanushali Family

ध्वनि भानुशाली का जन्म 2 जून 1988 को मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ। ध्वनि के पिता का नाम विनोद भानुशाली है। ध्वनि एक मराठी परिवार से है।

Dhvani Bhanushali Education 

उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा मुंबई के एक निजी स्कूल से की है। एचआर कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स, मुंबई से उन्होंने अपनी डिग्री बिजनेस मैनेजमेंट और एंटरप्रेन्योरशिप पूरी की है।

जब वह स्कूल में पढ़ती थी तभी से ध्वनि को गाना गाना बहुत पसंद था। उच्च शिक्षा के लिए ध्वनि को लंदन, यूके जाना था; हालाँकि, कुछ कारणों से, वह वहाँ नहीं जा सकी।

इस बीच, ध्वनि की मुलाकात हिमेश रेशमिया से उनके स्टूडियो में हुई, जब वह उनकी प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रही थी हिमेश ही थे जिन्होंने उनकी गायन प्रतिभा को खोजा और उन्हें इसे आगे बढ़ाने की सलाह दी।

Dhvani Bhanushali Career

Dhvani Bhanushali

पढ़ाई के दौरान ही ध्वनि भानुशाली ने एक YouTube चैनल बनाया जो उनके करियर का एक बड़ा मोड़ था। अपने यूट्यूब चैनल में उन्होंने कई अंग्रेजी और हिंदी गाने शामिल किये जो लोगो को बहुत पसंद आए।

बस यहीं से ध्वनि को इतनी लोकप्रियता मिली की उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। फिर उन्हें अपनी अद्भुत आवाज़ के दम पर बॉलीवुड गाने गाने के लिए भी मौका मिला।

ध्वनि भानुशाली ने फिल्म वेलकम टू न्यूयॉर्क (2018) से इश्तिहार गाने के साथ बॉलीवुड की अपनी पहली शुरुआत की। उन्होंने एमटीवी अनप्लग्ड सीजन 7 में नैना को गाकर भी डेब्यू किया जब वह केवल 19 साल की थीं। जिसे अमाल मल्लिक ने संगीतबद्ध किया था।

आइये जानते है कौनसे है वह गाने जिसे गाकर Dhvani Bhanushali को इतना प्यार मिला है


Dhvani Bhanushali Songs

1.वास्ते(THE LOVE SONG)

वास्ते म्यूजिक एल्बम 2019 में रिलीज़ हुआ था यह एक हिंदी गाना है, जिसे तनिष्क बागची ने कंपोज़ किया है और उसकी लिरिक्स अराफत महमूद ने लिखी है। जिसे धवानी भानुशाली और निखिल डिसूजा ने गाया है।।

वास्ते YouTube …

पापड़ बेचने से लेकर ‘सुपर ३०’ तक का सफ़र, “आनंद कुमार” की सफ़लता की प्रेरणादायक कहानी

Anand Kumar Super 30 Biography & Success Story In Hindi : भारत में IIT जैसे टॉप इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ने का सपना कई छात्र-छात्रायें देखते है. ऐसे में उनका मार्गदर्शक बनती हैं – कोचिंग संस्थायें. लेकिन कोचिंग संस्थाओं की भारी-भरकम फीस वहन कर पाना हर छात्र के लिए संभव नहीं हो पाता. जो आर्थिक रूप से कमज़ोर वर्ग के छात्र हैं, वे यह मार्गदर्शन प्राप्त करने से वंचित रह जाते हैं और कहीं न कहीं यह उनके इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा में सफ़लता प्राप्ति में अडंगा बन जाता है.

ऐसे में आर्थिक रूप से कमज़ोर छात्रों के लिए मसीहा बनाकर उभरे हैं – आनंद कुमार (Anand Kumar), जो अपने सुपर ३० संस्थान में ऐसे छात्रों को मार्गदर्शन प्रदान कर रहे हैं और उनकी न सिर्फ टॉप इंजीनियरिंग कॉलेज (Top Engineer College) में प्रवेश का मार्ग, बल्कि उज्जवल भविष्य का मार्ग भी प्रशस्त कर रहे हैं.

आनंद कुमार एक गणितज्ञ, शिक्षाविद और स्तंभकार हैं, जिन्होंने आर्थिक विपन्नता का जीवन करीब से से देखा है. उनका संपूर्ण बचपन अभावों में व्यतीत हुआ. लेकिन उन्होंने शिक्षा को अपना सबसे बड़ा संबल माना. कैम्ब्रिज युनिवेर्सिटी का कॉल लैटर हाथ में होने के बाद भी आर्थिक तंगी के कारण वे कैम्ब्रिज न जा सके. गली-गली पापड़ बेचने को मजबूर हुए. लेकिन आज वे इस मुकाम पर हैं, जहाँ वे समाज के आर्थिक रूप से कमज़ोर छात्रों के शैक्षिक उत्थान की दिशा सराहनीय कार्य कर रहे हैं.

आनंद कुमार के कार्यों को देश-विदेश में सराहना प्राप्त हुई है और उन्हें कई पुरुस्कारों से नवाज़ा गया है. वे विद्यार्थियों के लिए प्रेरणा श्रोत है. उनके प्रेरणादायक जीवन पर आधारित हिंदी फिल्म ‘सुपर ३०’ (Super 30) का निर्माण भी किया गया है. आइये विस्तार से जानते हैं आनंद कुमार (Anand Kumar) और उनके संस्थान  ‘सुपर ३०‘ (Super 30) के बारे में :      

Anand Kumar Super 30 Biography & Success Story In Hindi
Anand Kumar Super 30 Biography & Success Story In Hindi

 आनंद कुमार का संक्षिप्त परिचय (Short Biography Anand Kumar) 

नाम  आनंद कुमार  (Anand Kumar)
जन्म १ जनवरी १९७३ 
जन्म स्थान पटना. बिहार (Patna, Bihar, India)
माता जयंती देवी 
भाई प्रणव कुमार 
पत्नि ऋतु रश्मि 
बेटा जगत कुमार 
कार्य शिक्षक, गणितज्ञ
उपलब्धि सुपर ३० संस्थान के द्वारा आर्थिक रूप से कमज़ोर विद्यार्थियों को IIT की निशुल्क कोचिंग,  हर वर्ष २६ से ३० बच्चों का चयन. इस सराहनीय कार्य के लिए कई पुरुस्कार और सम्मान से नवाज़ा गया.

आनंद कुमार का

क्या आप जानते हैं भारत की मिसाइल वुमन कौन हैं ? | Story of India Missile Woman Tessy Thomas

Tessy Thomas

हम सभी आज उस दौर में पहुंच चुके हैं जहां पर कुछ भी करना नामुनकिन नहीं है आज हम मंगल में जीवन की खोज कर रहे है। इंसानी दिमाग से भी तेज चलने वाले रॉबोट का अविष्कार भी कर चुके हैं। और तो ओर हमारी देश की महिलाएं जो कभी घूंघट में रहा करती थी अब कुश्ती बॉक्सिंग जैसे खेलों में मेडल भी जीतकर देश का नाम रोशन करने लगी है। हालांकि इतना सबकुछ होने के बावजूद भी कई ऐसे क्षेत्र है जिनमें महिलाओं की जल्दी कल्पना कर पाना मुश्किल लगता है।

शायद इसलिए क्योंकि आज भी कई लोगों को महिलाओं की काबलियत पर शक है। और इन्ही क्षेत्रों में से एक मिसाइल निर्माण का भी क्षेत्र है जिसे चलाते फिल्मों में आपने अक्सर पुरुषों को ही देखा होंगा हालांकि आजकल महिलाएं भी आर्मी में भर्ती होकर इन मिसाइलों को चलाने लगी है। लेकिन जब भी बात आती है मिसाइल बनाने की तो हमें सबसे पहले अब्दुल कलाम की याद आती है। और यही कारण है कि उन्हें पूरा देश मिसाइल मैन के नाम से भी जानता है। लेकिन क्या आप जानते है हमारे देश की मिसाइल वुमन कौन है, कौन है वो महिला जो मौजूदा समय में देश के लिए मिसाइल बना रही है।

क्या आप जानते हैं भारत की मिसाइल वुमन कौन हैं ? – Story of India Missile Woman Tessy Thomas

वैज्ञानिक टेसी थॉमस भारत की मिसाइल वुमन के नाम से जानी जाती है टेसी थॉमस को भारत की अग्नि पुत्री भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि देश की शोभा बढ़ाने और बॉर्डर पर विरोधियों के छक्के छुडाने वाले अग्नि मिसाइल वैज्ञानिक टैसी थॉमस ने तैयार किए हैं। टेसी थॉमस साल 1988 से ही अग्नि मिसाइल के परीक्षण से जुड़ी हैं। टेसी थॉमस के सफल परीक्षण में अग्नि -2, अग्नि -3, अग्नि – 4 और अग्नि – 5 की टीम का हिस्सा बना और उसका सफल निरीक्षण शामिल है।

टेसी थॉमस ने कुछ समय पहले ही अग्नि 5 का सफल निरीक्षण किया है। जिसकी रेंज 8000 के आसपास है साथ ही इसकी क्षमता 5 हजार किलोमीटर है। यानी कि इस मिसाइल के जरिए दुश्मन को आसानी से उसी के गढ़ में मारा जा सकता है। टेसी थॉमस ने मिसाइल निर्माण के क्षेत्र में अपने इतने बेहतरीन काम से देश की सुरक्षा और विकास की गति में अहम योगदान दिया है।

अगर हम ये कहें की देश की रक्षा में टेसी थॉमस का भी हमेशा …

एक बंधुआ मजदूर का बेटा कभी ढोता था ईट पत्थर, आज है बीस कंपनियों का मालिक…

Mannem Madhusudana Rao

आपने अपने आसपास ऐसी कई सारी कहानिया सुनी होगी जो आपको प्रेरित करती होगी और ऐसे कई सारे लोग हुए है जिनसे हमे सीख मिलती है।

लेकिन उन्हें छोड़ बहुत सारे ऐसे लोग है जिनकी जिन्दगी चमत्कार लगती है। ऐसा लगता है जैसा की भगवान् ने साक्षात् इनके ऊपर कृपा की है। खाने की घर में अनाज नहीं था लेकिन कुछ सालो बाद करोडपति बन जाना ये चमत्कार से ज्यादा मेहनत और ईमानदारी पर निर्भर करता है और ऐसी ही कहानी है मधुसुदन राव की जो एक बंधुआ मजदूर के बेटे थे और खुद मजदूरी करते थे लेकिन आज बीस बड़ी बड़ी कम्पनियों के मालिक है।

एक बंधुआ मजदूर का बेटा कभी ढोता था ईट पत्थर, आज है बीस कंपनियों का मालिक – Mannem Madhusudana Rao

मधुसुदन राव का शुरुआती जीवन- Mannem Madhusudana Rao Biography

मधुसूदन राव का जन्म आँध्रप्रदेश के प्रकाशम जिले में हुआ। पिता का नाम पेरय्या और माँ का नाम रामुलम्मा है। घर में आठ भाई बहन और कमाने वाले माँ बाप, उनका काम था बंधुआ मजदूरी। माँ बीडी की फैक्ट्री में काम करती और बाप भी दिहाड़ी मजदूरी करते थे।

कन्दुकुरु तहसील का पलकुरु नाम का एक ऐसा गाँव जहाँ दलितों को सम्मान की नजरो से नहीं देखा जाता था। उन्हें घुटने के नीचे धोती नहीं पहनने दी जाती थी। मधुसुदन के माँ बाप सुबह जल्दी निकल जाते और देर रात घर आते लेकिन उसमे भी एक वक्त का खाना ही मिल पाता।

मधु हमेशा सोचते थे की आखिर उनके माँ बाप रोजाना कहा जाते है और इतना लेट क्यों आते है लेकिन जैसे जैसे वो बड़े हुए उन्हें समझ में आ गया की उनके माँ बाप एक बंधुआ मजदूर है। सपने तो मधु के भी बहुत बड़े थे लेकिन पेट की भूख के आगे सब धराशयी हो जाते थे।

घर में कोई पढ़ा लिखा नहीं था लेकिन माँ बाप ने फैसला किया की वो घर में दो बेटों को पढ़ायेगे और इसमें मधु और उनके भाई का दाखिला स्कूल में करवाया गया। शुरुआती पढ़ाई गाँव के स्कूल में ही हुई। वो पढ़ते चले गए और पढाई में हमेशा अब्बल थे। दसवी और बारहवी तक की पढाई की और आगे के बारे में विचार करने लगे।

मधुसुदन राव की पढाई – Mannem Madhusudana Rao Education

मधु खुद बताते है की वो जब बारहवी करके निकले तो उन्हें बी.टेक करना था लेकिन उनके आसपास जुड़े हुए और टीचर्स का कहना था की वो पॉलिटेक्निक …