हमारे जीवन में एकता का महत्व ( Akata Ka Mahtv )

एकता से हम वो प्राप्त कर करते हे जो हम अकेले नहीं पा सकते यानिकि अगर आपको है हमेंशा आगे बढ़ना हे तो एकता जरुरी हे जगलो में एकता होती हे जिसे बड़े से बड़े तूफान भी रुक जाते हे वैसे ही हमारे में एकता होगी तो हम बड़ी सी बड़ी मुश्किल को भी आसानी से हल कर सकते हे यानिकि हमारे जीवन में एकता का बड़ा ही महत्व हे तो आज हम इसी विषय पर बात करने वाले हे की हमारे जीवन में एकता का क्या महत्व हे तो दोस्तों मुझे उम्मीद हे की आपको ये पोस्ट जरूर पसंद होगी।

एकता का महत्व

प्रस्तावना 

एकता एक बल हे जब एक झाड़ू बंधन में होता हे तब वो सभी कचरे को साफ करता हे लेकिन जब वही झाड़ू का बंधन खुल जाता हे तब झाड़ू खुद एक कचरा बन जाता हे वैसे पहाड़ कुछ नहीं हे बस पथ्थरो की एकता हे यानिकि पथ्थरो की एकता ही वजह से पहाड़ होता हे वैसे जंगल कुछ नहीं हे बस पेड़ो की एकता हे एकता की वजह से ही बड़ी चीज का निर्माण होता हे जबकि कोई एकता को त्याग कर अकेले रहना शरू करता हे तब वो खुद दुसरो के लिए और खुद के लिए परेशानी बन जाता हे इसलिए ज़िन्दगी में हमेशा एकता से काम करे। 

हमारे जीवन में एकता का महत्व 

1 . रिश्तो में एकता का महत्व

आप एक लाठी लीजिये तो उसे कुत्ते को मारिये क्या होगा? कुत्ता आपसे डरकर भाग जायेगा अब अगली बार वही लाठी लीजिये और किसी मधुमक्खी के छत्ते पर मारिये फिर देखना आपका क्या होगा? शायद आप समझ ही गए होंगे की आपका क्या होगा। लाठी वही हे आप भी वही हे बस फर्क सिर्फ इतना हे की अकेला कुत्ता था जबकि मधुमक्खी में एकता थी यानिकि एकता ही हमारी शक्ति हे वैसे ही जब तक रिश्तो में एकता हे तब तक कोई भी रिश्ते को तोड़ नहीं सकता लेकिन जब रिश्तों में एकता ख़त्म हो जाता हे तब हर कोई रिश्ते को तोड़ने की कोशिश करता हे आप अकेले हे तो लोग सामने वाले इंसान के बारे में आपको बुरा भला कहेंगे यानिकि रिश्ता तोड़ने की कोशिश करेंगे लेकिन जब आप दोनों में एकता होगी तो वो कुछ कह ही नहीं पाएंगे क्योकि टुडी हुई इमरती की इंट भी लोग ले जाते हे मगर इमरती की नहीं क्योकि उसको ले जाना संभव नहीं हे इसी प्रकार एकता को तोड़ना मुश्किल हे इसलिए जब तक आप …

हमारे जीवन में एकता का महत्व ( Akata Ka Mahtv ) Read More

चीड़ के बारे में जानकारी – Pine Plant Information In Hindi

नमस्कार दोस्तों आपका दिल से स्वागत हे तो आज हम चीड़ वृक्ष के बारे में बात करने वाले हे चीड़ को अंग्रेजी में ( Pine Plant ) कहते हे ये एक सपुष्पक पौधा हे इस पौधे की विशेषता ये हे की ये पौधा सीधा खड़ा होता हे जबकि इस पौधे की शाखाये और प्रशाखाएँ निकलकर शंकु आकर की तरह दिखती हे चीड़ के पौधे को हमारी सेहत के लिए बहुत उपयोगी माना गया हे। तो दोस्तों मुझे उम्मीद हे की आपको ये पोस्ट जरूर पसंद होगी।

चीड़ पेड़ के बारे में जानकारी

Family : Pinaceae

Order : Pinales

Subfamily : Pinoideae

Kingdom : Plantae

Division : Pinophyta

Scientific Name : Pinus 

Pine Plant Information In Hindi

चीड़ के वृक्ष ज्यादातर पृथ्वी के उत्तरी गोलार्ध में पाए जाते हे जैसे की उत्तरी यूरोप , उत्तरी अमेरिका , उत्तरी अफ्रीका , एशिया , भारत , बर्मा , फिलीपींस आदि स्थानों पर पाए जाए जाते हे। 

प्रजातियाँ 

चीड़ की करीबन 114 प्रजातियाँ हे जो करीब 3 से लेकर 80 मीटर तक लम्बे हो सकते हे। 

चीड़ के मुख्य दो प्रकार होते हे एक कोमल या सफ़ेद चीड़ और दूसरा कठोर या पीला चीड़।

चीड़ की कुछ प्रजातियाँ ऐसी भी हे जिनके बीज खाने के काम आते हे जैसे की पश्चिमोत्तर हिमालय का चिलगोजा चीड़ अपने सूखे फल के काफी प्रसिद्ध और मूल्यवान भी हे।

चीड़ पेड़ की विशेषता 

✔ इस पेड़ का आकार पिरामिड जैसा हो जाता हे जब कम उम्र में छोटे पौधे में निचली शाखाओ का अधिक दूर तक फैलने तथा ऊपरी शाखाओ के कम दूर तक फैलने की वजह से। जबकि पुराने होने पर इसका आकार गोलाकार हो जाता हे।

✔ चीड़ के पेड़ को काटने से एक प्रकार का चिकना गौद निकलता हे जिनको गंधविरोजा कहते हे जबकि इस पेड़ से तारपीन का तेल भी निकाला जाता हे।

✔ क्या आप जानते हे की दुनिया में सबसे ज्यादा उपयोगी लकड़ियों में से करीबन आधा भाग चीड़ के द्रारा पूरा होता हे यानिकि बड़े कामो में जैसे पुल का निर्माण , बड़ी इमारतों में , रेलगाड़ी की पटरियों में इस पेड़ की लकड़ी का इस्तमाल किया जाता हे।

✔ इस पेड़ में दो प्रकार की टहनियाँ पाई जाती हे एक लम्बी और दूसरी छोटी टहनियाँ। जो लम्बी टहनियाँ होती हे उन पर शल्कपत्र लगते हे जबकि छोटी टहनियाँ पर सुई आकार की लम्बी नुकीली पत्तिया गुच्छो में लगती हे  जिनकी लम्बाई करीबन दो से लेकर 14 इंच तक होती हे। 

चीड़ का पौधा कैसे लगाए ?

चीड़ के बारे में जानकारी – Pine Plant Information In Hindi Read More

गलती के बारे में मेरे अनमोल विचार

दुनिया में हर एक गलती का समाधान माफ़ करना या माफ़ी मांगने से होता हे दुनिया में कोई भी इंसान ऐसा नहीं हे जिससे ग़लती न की हो यानिकि जाने अनजाने हमसे गलती हो ही जाती हे लेकिन जान बुझ कर करने वाली गलती को गलती नहीं कहा जाता। तो दोस्तों आज हम गलती पर अनमोल वचन के बारे में बात करने वाले हे तो मुझे उम्मीद हे की आपको ये पोस्ट जरूर पसंद होगी।

गलती के बारे में मेरे विचार

 

गलती के बारे में मेरे विचार

✅ गलती न मानना हमारी दूसरी गलती हे कई लोग गलती करते हे लेकिन उसे मानते नहीं हे वो ऐसा इसलिए करते हे क्योकि उनको ये लगता हे की अगर मैने गलती मान ली तो मेरी इज्ज़त कम हो जाएगी या फिर अपने अहंकार की वजह से वो ऐसा करते हे लेकिन गलती करना गलत नहीं हे क्योकि गलती गलती से हुई हे लेकिन अपनी गलती ही न मानना हमारी सबसे बड़ी गलती हे इसलिए जब भी आपसे कोई गलती हो जाये तो वो उसका स्वीकार करे क्योकि गलती निकालने के लिए दिमाग चाहिए और गलती स्वीकार करने के लिए कलेजा चाहिए।

************

✅ ये आज की सच्चाई हे की हमें किसी और की गलती पर न्याय चाहिए और खुद की गलती पर समझोता यानिकि आज इंसान खुद की गलती पर वकील बन जाता हे और दुसरो की गलती पर सीधा जज बन जाता हे लेकिन गलती किसी की भी क्यों न हो गलती गलती होती हे और गलती का अंत माफ़ करने से होता हे। 

*************

✅ गलती होने पर साथ छोड़ने वाले तो बहुत होते हे लेकिन गलती के बाद भी आपका साथ न छोड़े, गलती पर आपको समझाए और आपका साथ न छोड़े ऐसे इंसान बहुत कम होते हे यानिकि आज लोग आपकी अच्छाई से ज्यादा आपकी बुराई याद रखते हे उनको आपकी अच्छाई नज़र नहीं आती लेकिन आपकी एक गलती जरूर नज़र आती हे लेकिन एक बात हमेंशा याद रखना की किसी इंसान की एक ग़लती की वजह से उनसे दूर मत हो जाना उनसे रिश्ता मत तोड़ देना क्योकि गलती किताब के एक पेज की तरह होती हे इसलिए किसी से गलती हो तो उसे माफ़ कर देना लेकिन एक गलती रूपी पेज के लिए जिन्दगी रूपी किताब को खो मत देना।

************

✅ गलती हमारी पीठ की तरह होती हे जो हमें दुसरो की दिखाई देती हे लेकिन अपनी कभी नहीं क्योकि आज के लोग दुसरो की गलती ढूंढने में , दुसरो …

गलती के बारे में मेरे अनमोल विचार Read More

मनुष्य का सबसे अच्छा दोस्त कौन हे? Manushy Ka Sabase Achcha Dost Kon Hai

 हर एक इंसान के दोस्त होते हे लेकिन कई दोस्तों अच्छे होते हे तो कई बुरे जो हमें बुरे आदते करने को प्रेरित करते हे दोस्त बनाना एक अच्छी आदत हे लेकिन सोच समझकर दोस्त बनाना उनसे भी अच्छी बात हे क्योकि आज के समय में दोस्त ही दुश्मन बनते हे जबकि एक सच्चा दोस्त वही हे जो हमारा सही मार्गदर्शन करे , हमें गलत काम करने से रोके और हमारे सुख और दुःख में हमेंशा हमारा साथ दे लेकिन आज हम बात करने वाले हे की मनुष्य का सबसे अच्छा दोस्त कौन हे ? इस विषय पर बात करने वाले हे। 

मनुष्य का सबसे अच्छा दोस्त कौन है

मनुष्य का सबसे अच्छा दोस्त कौन हे? 

✔ आमतौर पर देखा जाये तो इंसान का सबसे अच्छा दोस्त उसके माता – पिता , ईश्वर और ज्ञान होता हे क्योकि माता – पिता और ईश्वर मनुष्य का कभी बुरा नहीं चाहते। जब कोई साथ न दे तब माता पिता ही हमारा साथ देते हे और जब कोई नज़र नहीं आता तब ईश्वर ही नज़र आता हे और इंसान को हर एक हालात में, हर परिस्थिति में उनका स्वीकार करते हे उनके साथ रहते हे जबकि ज्ञान मनुष्य देश में हो या विदेश में हर पल उनका साथ देता हे ऐसा कहा गया हे की इंसान की परछाई उनका साथ छोड़ सकती हे लेकिन इंसान का ज्ञान नहीं हे।

 ✔ लेकिन मेरे हिसाब से मनुष्य का सबसे अच्छा दोस्त हम खुद हे जिस प्रकार मनुष्य का सबसे अच्छा दोस्त ही मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु बन जाता हे यानिकि मनुष्य ही मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु हे उसी प्रकार मनुष्य ही मनुष्य का सबसे अच्छा मित्र भी हे यानिकि मनुष्य का सबसे अच्छा दोस्त वो खुद ही हे क्योकि इंसान ही इंसान का दुश्मन होता हे उसी प्रकार इंसान ही इंसान का दोस्त होता हे हमारी सभी समस्या का समाधान हम खुद हे और हमारी सभी सुखो की वजह भी हम खुद ही हे लेकिन आज की भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में हम खुद को समझना नहीं चाहते। हम हमारे लिए उतना वक्त ही नहीं निकालते की हम खुद को पहचान सके लेकिन हमें अपने से ज्यादा दूसरे लोगो में , दूसरे चीजों में अपना समय बर्बाद करते हे लेकिन अपने आप को समझते नहीं हे अपनी खुबिया जानते नहीं हे और जो इंसान अपने आप को अच्छा मित्र मान लेता हे उसे कभी भी किसी मित्र की जरुरत नहीं होती और जिंदगी में वही इंसान खुश होगा जो अपने …

मनुष्य का सबसे अच्छा दोस्त कौन हे? Manushy Ka Sabase Achcha Dost Kon Hai Read More

पक्षियों के लिए हम क्या कर सकते हे ?

पक्षी प्रकृति की शोभा हे पक्षियों का आवाज़ हमें आनंदमय बना देता हे लेकिन आज के समय में बढ़ते आधुनिकरण की वजह से पक्षियों के अस्तित्व पर ख़तरा मंडरा रहा हे जबकि गर्मियों के दिनों में भी कई पक्षी पानी न मिलने की वजह से उनकी मौत हो जाती हे तो अगर ऐसे ही चलता रहा तो एक दिन ऐसा भी आएगा की सभी पक्षी विलुप्त हो जायेगे ऐसे में हमें उनका संरक्षण के लिए कुछ करना हम इंसान का फर्ज हे। तो आज हम इन्ही विषय पर बात करने वाले हे की पक्षियों के लिए हम क्या – क्या कर सकते हे ? 

पक्षियों के लिए हम क्या कर सकते हैं

पक्षियों के हम क्या कर सकते हे ? 

✅ सबसे पहले आज पक्षियों के लिए सबसे बड़ा खतरा वृक्षों की कटाई हे तो हमें जितने हो सके उतने पेड़ लगाने चाहिए। ताकि पक्षी को रहने के स्थल मिल सके। 

गर्मियों के दिनों में पानी को अमृत समान माना जाता हे इसलिए अपने मकान के छत पर या अपने आसपास किसी पेड़ पर एक पानी से भरे बर्तन को रखे ताकि पक्षी उनमे से पानी पि सके और हो सके तो दाने की भी व्यवस्था करे। 

✅ छायादार जग़ह बनाकर वहाँ भी आप पानी और दाने रख सकते हे। 

✅ कम पानी वाले जल स्त्रोतों को गन्दा न करे क्योकि ये पक्षियों के लिए पानी की व्यवस्था हो सकती हे।

✅ कभी भी हमें पक्षियों का शिकार नहीं करना चाहिए और किसी को करने भी देना नहीं चाहिए बल्कि पीड़ित पक्षी को योग्य सारवार मिले उसकी व्यवस्था करनी चाहिए।

✅ अगर आप बिल्लिया पालते हे तो उसे खुल्ले में न छोड़े क्योकि बिल्ली साल में कई पक्षी को मार डालती हे इसलिए हो सके तो बिल्ली और उसके जैसे जानवरो को खुल्ले में न रखे।

✅ जितना हो सके उतनी पेटो की कटाई कम करे। 

✅ किसी भी पक्षी संरक्षण कार्यक्रम को समर्थन दे।

✅ हर जगह पर पक्षी बचावो के नारे लगाए। लोगो को हमारे जीवन में पक्षियों का कितना महत्व हे उसके बारे में बताये। 

✅ हर साल कई पक्षी खिड़कियों में दुर्घटनाग्रस्त होकर मर जाते हे इसलिए खिड़कियों पर स्टिकर लगाए या खिड़कियों पर कवर लगाए।

✅ जरूरत न हो तो रात में अपने घर के बहार की लाइट को ऑफ़ रखे क्योकि प्रकाश की तीव्रता की वजह से कई बार पक्षी अपना रास्ता भूल जाता हे इसलिए हो सके तो रात की लाइट बंध रखे।

✅ कभी भी अपने स्वार्थ के लिए …

पक्षियों के लिए हम क्या कर सकते हे ? Read More

पक्षी नहीं होंगे तो क्या होगा ? – Pakshi Nahi Honge To Kya Hoga

पक्षी पर्यावरण का एक हिस्सा हे पक्षीयो के होने से पर्यावरण संतुलन बना रहता हे यानिकि पर्यारवण की भोजन श्रृंखला में पशु – पक्षियों का एक महत्पूर्ण भूमिका हे इतना ही नहीं पक्षी धरती की शोभा भी बढ़ाते हे लेकिन आज के समय में प्रदुषण , जंगलो की कटाई , जंतुनाशक रसायण की वजह से कई पक्षी विलुप्त हो गए हे और कई विलुप्त के कगार पर हे ऐसे में हमें उनके प्रति उनका सरंक्षण , उनको बचाने की आवश्यकता हे नहिंतर हमारी नई पेढ़ी के लिए पक्षी सिर्फ तस्वीर बनके ही रह जायेंगे तो आज हम पक्षी नहीं होंगे तो क्या होगा इस बारे में बात करने वाले हे। 

पक्षी नहीं होंगे तो क्या होगा

पक्षी नहीं होंगे तो क्या होगा ? 

✅ प्रकृति की हर एक चीज दूसरी चीज से जुडी हुई होती हे ऐसे में अगर पक्षी ही नहीं होंगे तो इस धरती पर मच्छर, कीड़े , मछलियाँ की संख्या में बढ़ोतरी हो जाएगी यानिकि प्रकृति की एक चीज विलुप्त हो जाने से उसके साथ जुडी चीजों में असंतुलन पैदा होगा जिसकी वजह से प्रकृति की श्रृंखला पर विपरीत प्रभाव होगा क्योकि जब फसलों को बर्बाद करने वाले कीड़े मकोड़े को खाने वाले पक्षी नहीं होंगे तब कीड़े मकोड़े की आबादी ज्यादा हो जाएगी जिसकी वजह से हमारी फसलें बर्बाद हो जाएगी और जब फसलें बर्बाद हो जाएगी तो खाद्य प्रदार्थो की कीमत बढ़ जाएगी।

✅  कई पक्षी जो अपना ज्यादातर समय फूलो पर बिताते हे जो परागण में मददगार साबित होते हे कुछ फूल ऐसे हे जिसमे परागण पक्षियों के द्रारा होता हे जैसे की पक्षी फलो को खाते हे और फलो के बीज को दूर – दूर तक प्रसार में मदद करते हे ऐसे में अगर पक्षी ही नहीं होंगे तो ये प्रक्रिया रुक जाएगी जिसकी वजह से फल , फूलो की प्रजाति भी विलुप्त हो जाएगी जबकि न्यूजीलैंड में पक्षी की दो प्रजाति विलुप्त हो जाने से ग्लौक्सिीनिया नाम का पौधा भी विलुप्त के कगार पर हे यानिकि अगर पक्षी नहीं होंगे तो फल , फूल की कई सारी प्रजाति भी विलुप्त हो जाएगी। 

✅ पक्षी हमारे लिए मनोरंजन का एक भाग भी हे यानिकि कई स्थानों पर अलग – अलग प्रकार के रंगीन , सुन्दर पक्षी रखे जाते हे जो हमारे लिए मनोरंजन का साधन हे जबकि तालाबों में , सरोवरों में , समुद्र में जो पक्षी देखते ही हमारा मन प्रफुलित हो जाता हे ऐसे में हम कल्पना कर सकते हे की पक्षी न हो तो क्या होगा। …

पक्षी नहीं होंगे तो क्या होगा ? – Pakshi Nahi Honge To Kya Hoga Read More

दोस्ती और प्यार में कौन बड़ा हे ? Dosti Or Pyar Me Bada Kon Hai

 कई लोगो का ये सवाल होता हे की दोस्ती और प्यार में कौन बड़ा हे ? तो आमतौर पर तो दोनों ही अपनी  -अपनी जगह पर सही हे क्योकि न दोस्ती का कोई मोल होता हे और ना ही प्यार का। दूसरे शब्दों में कहे तो जहाँ प्यार होता हे वही दोस्ती भी होती हे और जहाँ दोस्ती होती हे वहाँ प्यार भी होता हे यानिकि दोस्ती और प्यार एक दूसरे से जुड़े हुए हे दोनों ही विश्वास की बुनियाद पर टिके हुए होते हे लेकिन फिर भी हम आपको ये बताने का प्रयास करेंगे की दोस्ती और प्यार में कौन बड़ा हे ?

दोस्ती और प्यार में कौन बड़ा है

✅ आमतौर पर देखा जाये तो न दोस्ती बड़ी होती हे और ना ही प्यार बड़ा होता हे बल्कि जो उसे दिल से निभाए वो बड़ा होता हे दूसरे शब्दों में कहे तो ये हमारी सोच पर निर्भय करता हे की दोस्ती बड़ी या प्यार। लेकिन आज के समय में देखा जाये तो दोस्ती और प्यार में बड़ा दोस्ती ही हे क्योकि आज का प्यार छोटी – छोटी बातो पर भी प्यार में ब्रेकअप हो जाता हे जबकि दोस्ती में ऐसा नहीं होता। 

✅ दोस्ती और प्यार में कौन बड़ा हे तो दोस्ती बड़ी हे क्योकि लोग प्यार में एक दूसरे से बिछड़ जाने के बाद नजरे चुरा लेते हे जबकि दोस्ती गले से लगा लेती हे। ज्यादातर प्यार ही आपको रुलाएगा वही पर दोस्ती ही आपको हासाएँगी यानिकि जितना दुःख हमें प्यार में मिलता हे उतना दोस्ती में कभी नहीं मिलता। प्यार एक जूनून हे जबकि दोस्ती एक सुकून हे। प्यार एक बंधन हे जिसे महसूस किया जाता हे जबकि दोस्ती में सिर्फ विश्वास हे कोई बंधन नहीं हे विश्वास किया तो ठीक नहीं किया तो भी ठीक। 

✅ प्यार हमें लाचार बना सकता हे लेकिन दोस्ती हमें आपको मजबूत बनाती हे। प्यार आपके आंसू की वजह बन सकता हे और दोस्ती आपके आंसू रोकने की वजह बन सकता हे। प्यार में अक्शर उम्मीद होती हे जबकि दोस्ती में कोई उम्मीद नहीं होती। प्यार करने वाले दो इंसान एक दूसरे से कहते हे की तुम्हे कुछ हो गया तो में जी नहीं पाउँगा जबकि दोस्ती में दो दोस्त कहते हे की पागल मेरे हुए तुम्हे कुछ हो सकता हे क्या? दोस्ती में कोई वजह नहीं होती जबकि प्यार एक वजह बनकर रह जाता हे क्योकि दोस्ती को समझने की जरुरत नहीं होती जबकि प्यार को समझने की आवश्यकता होती हे। प्यार इंसान को एकांत में …

दोस्ती और प्यार में कौन बड़ा हे ? Dosti Or Pyar Me Bada Kon Hai Read More

सूर्य मंदिर कहा – कहा हे ? Sury Mandir Kaha – Kaha Hai

 हमारे देश में सूर्य को एक भगवान के रूप में माना जाता हे जिसकी वजह से हमारे देश में सूर्य मंदिरो का निर्माण प्राचीन काल से होता आ रहा हे जबकि वेदो पुराणों में भी सूर्य का काफी महत्व दिखा गया हे। हमारे जीवन में सूर्य का महत्व तो आज हम ये जानने का प्रयास करेंगे की सूर्य मंदिर कहा – कहा हे ?

सूर्य मंदिर कहा कहा है

सूर्य मंदिर कहा – कहा हे ?

1 . कोणार्क सूर्य मंदिर : कोणार्क का सूर्य मंदिर ओडिसा राज्य में कोणार्क शहर में स्थित हे ये सूर्य मंदिर सूर्य मंदिरो से सबसे बड़ा मंदिर हे। 

2 . मोढेरा सूर्य मंदिर : ये सूर्य मंदिर गुजरात के महेसाणा जिले में मोढेरा नामक गांव के पुष्पा नदी पर स्थित हे इस मंदिर की पूरा करना निषिद्ध हे। मोढेरा के इस सूर्य मंदिर के परिषद् के तीन भाग हे।

3 . उलार्क सूर्य मंदिर : इस मंदिर को उसके दूसरे नाम उलार के मान से भी जाना जाता हे।सूर्य मंदिर बिहार के पटना जिले में पालीजंग के पास उलार में स्थित हे।

4 . कटारमल सूर्य मंदिर : ये सूर्य मंदिर भारत के प्राचीन सूर्य मंदिरो में से एक मंदिर हे जो उत्तराखंड राज्य के अल्मोड़ा जिले में अधेली सुनार नामक गांव में स्थित हे। 

5 . देव सूर्य मंदिर :  इस सूर्य मंदिर अन्य सूर्य मंदिरो की तरह पूर्वाभिमुख नहीं बल्कि पश्चिमाभिमुख हे जो बिहार राज्य के औरंगाबाद जिले में देव नामक स्थान पर स्थित हे।

6 . रनकपुर सूर्य मंदिर : ये मंदिर जैनियों के द्रारा बनाया गया हे जो राजस्थान राज्य के रणकपुर नामक स्थान पर मौजूद हे। 

7 . सूर्य पहर मंदिर : ये सूर्य मंदिर असम में गोवालपारा नामक स्थान पर सूर्य पहर नाम के पर्वत पर स्थित हे इस सूर्य मंदिर में भगवान सूर्य के अलावा नौ शिवलिंग भी हे। 

8 . दक्षिणार्क सूर्य मंदिर : ये सूर्य मंदिर बिहार राज्य के गया जिले में स्थित हे इस सूर्य मंदिर का निर्माण मौर्य कालीन राजा चन्द्रगुप्त मौर्य के जन्म से भी पहले हुआ था। 

9 . सूर्य मंदिर , प्रतापगढ़ : ये भी एक प्राचीन मंदिर हे जो भगवान सूर्य को समर्पित हे जो प्रतापगढ़ में स्थित हे।

10 . बेलार्क सूर्य मंदिर : इस मंदिर का निर्माण राजा सूबा ने करवाया था जो बिहार के भोजपुर जिले के बेलाउर गांव में स्थित हे। 

11 . औंगारी सूर्य मंदिर :  इस मंदिर का निर्माण तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में करवाया गया था। ये …

सूर्य मंदिर कहा – कहा हे ? Sury Mandir Kaha – Kaha Hai Read More

संसार में सबसे सुखी कौन हे – Sansar Me Sabase Sukhi Kon Hai

 इस संसार में हर कोई सुखी होना चाहता हे यानिकि आजकल हर एक इंसान अपने जीनव को सुखी से जी सके इसके लिए हमेंशा कार्यरत होता हे लेकिन वास्तव में कोई इंसान सुखी हे क्या ? या फिर संसार में सबसे सुखी कौन हे। ऐसा कौन हे जिसे हम सुखी इंसान कह सके तो ये बड़ा ही मुश्किल सवाल हे क्योकि दुनिया में ऐसा कोई भी इंसान नहीं हे जो सुखी हो किसी को कुछ ना कुछ समस्या होती ही हे लेकिन फिर भी हम आपको ये बताने का पूरा प्रयास करेंगे की संसार में सबसे सुखी कौन हे।

संसार में सबसे सुखी कौन हे

वास्तविकता को स्वीकार करने वाला इंसान

✅ जो इंसान वास्तविकता का स्वीकार करता हे वो सुखी होता हे क्योकि जब हम वास्तविकता का स्वीकार कर लेते हे तब हमें दुःख नहीं होता हे यानिकि जब हम किसी बुरी परिस्थिति से गुजरते हे , हमारे जीवन में बुरा वक्त आता हे , कोई इंसान हमारा दिल दुखाता हे तब हम उन परिस्थिति का स्वीकार कर लेते हे जिसे हम दुखी नहीं होता यानिकि ज़िन्दगी में सुख और दुःख आते रहते हे अगर ये हमने स्वीकार लिया तो जब हमारे जीवन में दुःख आता हे तब हम उनका सामना करते हे क्योकि हमें ये वास्तविकता का स्वीकार किया हे ज़िन्दगी में सुख और दुःख एक पहलू हे इसलिए हम हर एक स्थिति , हर हालत का स्वीकार करते हे जिसमे दुखी होने का कोई सवाल ही नहीं हे।इसलिए जिन्दगी में सुखी होने हे तो ज़िन्दगी की वास्तविकता का स्वीकार करना सीखिए।

सतुष्ट इंसान 

✅ हर इंसान की अपनी – अपनी सोच होती हे जैसे की अगर हम ये सवाल किसी को पूछते हे की इस संसार में सबसे सुखी कौन हे तो कई लोगो का जवाब ये होगा की जिसके पास धन हे वो सबसे सुखी होगा तो कई लोग कहेंगे की साधु संत सबसे सुखी होंगे लेकिन आपको पता हे की संसार का सबसे सुखी इंसान कौन हे तो इस संसार का सबसे सुखी इंसान वो हे जो सतुष्ट हे क्योकि उसके पास सतुष्टि रूपी धन हे जो उनको सुखी रखता हे। जिसे हर एक चीज से वो सतुष्ट हे उसे किसी दूसरे की चीज से जलन नहीं होती क्योकि जो चीज उसके पास हे उसी में उनको अपनी ख़ुशी दिखती हे।

वर्त्तमान में जीना वाला इंसान

✅ संसार में वो इंसान भी सुखी होता हे जो वर्तमान में जीता हे जैसे की एक वृद्ध अतीत में जीता हे जिसकी वजह से …

संसार में सबसे सुखी कौन हे – Sansar Me Sabase Sukhi Kon Hai Read More

परिवर्तन क्यों जरुरी हे ? Parivartan Kyo Jaruri Hai

दुनिया में वही इंसान सफल हुआ हे जिसने परिवर्तन को अपनाया हे। परिवर्तन प्रकृति का नियम हे जिसके बिना कुछ भी संभव नहीं हे यानिकि जिस प्रकार रात के बाद दिन होता हे दुःख के बाद सुख होता हे , ठण्ड के बाद गर्मी होती हे ये सब होता रहेगा क्योकि परिवर्तन प्रकृति का एक हिस्सा हे इसी प्रकार इंसान के जीवन में भी परिवर्तन जरुरी होता हे क्योकि जब हम खुद को बदलना ख़त्म कर देते हे तब हम खुद भी ख़त्म हो जाते हे। 

परिवर्तन क्यों जरूरी है

परिवर्तन क्यों जरुरी हे ?

आपका एक परिवर्तन ही दूसरे परिवर्तन को जन्म देता हे जब कोई मौसम का परिवर्तन होता हे तब इंसान के जीवन में असंतुलित पैदा होता हे जिसकी वजह से इंसान प्रकृति को कोसता रहता हे की ऐसा क्यों होता हे लेकिन हमेंशा प्रकृति के परिवर्तन को हमें स्वीकारना चाहिए जैसे की ठण्ड के दिनों में हम जिन सूर्य का इंतजार करते हे वही पर गर्मी के दिनों में उसी सूर्य का हम तिरस्कार करते हे ऐसा नहीं करना चाहिए क्योकि सूर्य की गर्मी से अनाज पकते हे , गर्मी की वजह से बारिश होती हे जो कुदरत के आधीन हे इसलिए कभी भी परिवर्तन से घभराना नहीं हे बल्कि उनका स्वीकार करना चाहिए उसी प्रकार हमें भी अपने जीवन में परिवर्तन लाना चाहिए।

जिस प्रकार प्रकृति में संतुलन बनाने के लिए परिवर्तन जरुरी हे उसी प्रकार हमारे जीवन में भी परिवर्तन का होना बहुत जरुरी हे और होता भी हे। ज़िन्दगी में हमेंशा सुख ही हो तो क्या होगा ? किसी इंसान को दुःख क्या हे ? उसके बारे में पता ही नहीं चलेगा लेकिन परिवर्तन के अनुसार हमारे जीवन में भी सुख और दुःख आते रहते हे उसी प्रकार अगर दिन ही होता और रात न होती तो लोग मात्र सूर्य को जान सकेंगे चन्द्रमा को नहीं इसलिए हमारे जीवन में परिवर्तन का होना जरुरी हे। परिवर्तन से ही किसी वस्तु , चीज या इंसान की कीमत होती हे।

1 . खुद को बहेतर बनाने के लिए 

बदलाव का अर्थ ये बिलकुल नहीं हे की इंसान अपने जीवन के मूल्यों को ही बदल दे बदलाव का मतलब हे की इंसान सही जीवन के लिए रास्तो की तलाश करे। अगर आपको बहेतर बनना हे तो आपके जीवन में परिवर्तन लाना होगा और जब तक आप परिवर्तन नही होंगे तब तक आप खुद को बहेतर नहीं बना सकते जैसे की आप सुबह सात बजे उठते , अपने समय को बर्बाद …

परिवर्तन क्यों जरुरी हे ? Parivartan Kyo Jaruri Hai Read More