【 हिंदी शायरी 】Hindi Shayari Collection Best Love & Sad Shayari In Hindi

Complete Hindi Shayari Collection For Lovers

वफा माथे पर लट लहराती है,
चूड़ी की खनक बुलाती है ।
रुखसारों पे है हया न का पर्दा,
चाहत फिर भी उसे सताती है ।

लोग हमारी मौत की दुआ मांगते हैं,
हम बेशर्मी से जीये जाते हैं ।
उनकी तमन्ना है जनाजा देखने की,
हम खड़े होकर मुस्कुराते जाते हैं ॥

दुआ बद्दुआ बन जाती है,
जब तकदीर बेवफा हो जाये।
उससे सारी खुदाई रूठ जाती है,
जिसका अपना दिल दुश्मन हो जाये

मुझे भी आ गया जीना
ये जबसे चोट खाई है
गमों संग अच्छा लगता है
खुशी लगती पराई है ।

हर नजर को तुम चाहते हो,
चाहत क्या होती है समझाओं हमे ॥
हम तो बेवफा हैं सागर
वफा क्या होती है समझाओं हमे ॥

दिलजला कहते हैं लोग मुझे
जख्म मुहब्बत में मैंने खाये हैं।
जो हमें बेवफा कहते हैं दोस्त,
उनके लिये खून के आंसू बहाये हैं ।

वफ़ा का नाम लेकर दोस्त,
वो बेवफाई का खंजर आजमाते हैं ॥
जख्मी दिल है पास मेरे,
वो फिर भी ठेस पहुंचाते है।

* 0 0 0 0 0 *

मुझे भी चोट लगती है
मुझे भी दर्द होता है
तो पत्थर भी है रो पड़ता
ये दिल जब मेरा रोता है ।

* 0 0 0 0 0 *

न फितरत ये रही मेरी
कि आगे हाथ फैलाऊँ
है इससे अच्छा तो नहीं
इसी पल मर न क्यूँ जाऊ ।

Hindi Shayari Collection For True Lovers

वो देता राम रहा मुझको
न जिद मैंने भी छोड़ी है
कमा कर राम की ये दौलत
यूं भर रखी तिजौरी है ।

* 0 0 0 0 0 *

ज़रा सी आहट होती है।
तो तेरा ख्याल आता है
ज़रा मुझको भी बतलाना
कि कै सा भूला जाता है ।

* 0 0 0 0 0 *

बहुत रोती हैं ये आंखें
ये दिल भी रोता है मेरा
न बाकी कु छ रहा मुझमें
न बिगड़ा कु छ सनम तेरा।

* 0 0 0 0 0 *

कहा था लोगों ने मुझसे
न दिल उनसे लगाना तुम
हुआ क्या हाल फिर सागर
न ये ह मको बताना तुम।

* 0 0 0 0 0 *

मुबारक तुझको ये दुनिया
नहीं मुझको समझ इसकी
वो मुझको छोड़ जाता है
कद्र करता हू मै जिसका।

True love Hindi Shayari Collection

टाहनी से एक फूल गिरा और
गिर कर पंहुचा राहों में
कुचला सबने बारी बारी
आया क्यों वो निगाहों में।

* 0 0 …

Read More

Mirza Ghalib Shayari in Hindi & Ghalib Shayari Collection

Mirza Ghalib(Mirza Asadullah Khan Ghalib), the Urdu and Persian poet during the last years of the Mughal Empire.He used his pen-names of Ghalib. Here we are sharing “Mirza Ghalib Shayari in Hindi

इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,
दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया।

आता है दाग-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद,
मुझसे मेरे गुनाह का हिसाब ऐ खुदा न माँग।

आया है बे-कसी-ए-इश्क पे रोना ग़ालिब,
किसके घर जायेगा सैलाब-ए-बला मेरे बाद।

आशिकी सब्र तलब और तमन्ना बेताब,
दिल का क्या रंग करूँ खून-ए-जिगर होने तक।

कितना खौफ होता हैं शाम के अंधेरों में ,
पूछ उन परिंदो से जिनके घर नहीं होते. . .!

कितना दूर निकल गए रिश्ते निभाते निभाते ,
खुद को खो दिया हमने अपनों को पाते पाते ,

लोग कहते है दर्द है मेरे दिल में ,
और हम थक गए मुस्कुराते मुस्कुराते

हम ने मोहबतों कि नशे में आ कर उसे खुद बना डाला ,
होश तब आया जब उसने कहा कि खुद किसी एक का नहीं होता .

अभी मशरूफ हूँ काफी , कभी फुर्सत में सोचूंगा ,
के तुझको याद रखने में मैं क्या क्या भूल जाता हूँ .

न सोचा मैंने आगे, क्या होगा मेरा हशर,
तुझसे बिछड़ने का था, मातम जैसा मंज़र!

Mirza Ghalib Shayari in Hindi 2 lines

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है

हम को उन से वफ़ा की है उम्मीद
जो नहीं जानते वफ़ा क्या है

बुलबुल के कारोबार पे हैं ख़ंदा-हा-ए-गुल
कहते हैं जिस को इश्क़ ख़लल है दिमाग़ का
ख़ंदा-हा-ए-गुल  =   फूलों की हंसी

‘ग़ालिब’ बुरा न मान जो वाइज़* बुरा कहे
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे

हाए उस चार गिरह कपड़े की क़िस्मत ‘ग़ालिब’
जिस की क़िस्मत में हो आशिक़ का गिरेबाँ होना

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और

बुलबुल के कारोबार पे हैं ख़ंदा-हा-ए-गुल
कहते हैं जिस को इश्क़ ख़लल है दिमाग़ का
ख़ंदा-हा-ए-गुल  =   फूलों की हंसी

दिल दिया जान के क्यों उसको वफादार “असद” 
ग़लती की के जो काफिर को मुस्लमान समझा

खुदा के वास्ते पर्दा न रुख्सार से उठा ज़ालिम 
कहीं ऐसा न हो जहाँ भी वही काफिर सनम निकले..

फिर उसी बेवफा पे मरते हैं 
फिर वही ज़िन्दगी हमारी है 
बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’
कुछ तो है जिस की पर्दादारी है

यह जो हम हिज्र में दीवार-ओ -दर को देखते हैं 
कभी …

Read More

Teri Yaad Shayari

Din gujar jata hai apko soch soch kar,
Aati hai sham din gujar jaane ke baad,
Kat ti nahin sham ki tanhaiyaan,
Jaati nahi teri yaad tere jaane ke baad.

Shaam hote hi yeh dil udas hota hain,
Sapno ke siva kuchh na pass hota hai,
Aap ko bahut yaad karte hain hum,
Yado ka har lmha mere liye khas hota hai.

Bazaron ki chahal pahal se roshan hai
In aankhon mein mandir jaisi sham kahan,
Main usko pahchan nahi paya toh kya
Yaad use bhi aaya mera naam kahan,
Din bhar suraj kiska pichha karta hai
Roj pahadi par jati hai sham kahan,
Logo ko suraj ka dhoka hota hai
Aansu bankar chamka mera naam kahan,
Dalano ki dhoop chhaton ki sham kahan
Ghar ke bahar ghar jaisa aaram kahan.

Aaya hi nahi humko aahista guzrana
Sishe ka mukkadar hai takra ke gujar jana,
Taron ki tarah shab ke seene mein utar jana
Aahat na ho kadmon ki is tarah gujar jana,
Nashe mein sambhlane ki ada yun hi nahi aaya
In julfo se sikha hai lahra ke sanvar jana,
Bhar jayenge aankho mein aanchal se bhare badal
Yaad aayega jab gul par shabnam ka bikhar jana,
Har mod par do aankhe humse yahi kahti hain
Jisa taraf bhi mumkin ho tum lout kar ghar jana.

Mujhe bhulaye kabhi yaad karke roye bhi,
Woh apne aap ko bikhraye aur piroye bhi,
Shumar hum na huye un chamkne walon mein
Badan bhi malte rahe roj kapde dhoye bhi,
Bahut gubar bhara tha dilon mein dono ke
Magar woh ek hi bistar par raat siye bhi.

Sukr Hai Khariyat Se Hun Sahab,
Aapse Aur Kya Kahu Sahab,
Ab Samjhne Laga Hu Labh Hani,
Ab Kahan Woh Mujh Mein Junun Sahab,
Hum Tumhe Yaad Karte Ro Lete,
Do Khadi Milta Jo Sukun Sahab,
Sham Bhi Dhal Rahi Hai Ghar Bhi Door Hai,
Kitni Der Aur Main Ruku Sahab,
Ab Jhukunga Toh Toot Jaaunga,
Kaise Ab Aur Main Jhuku Sahab.

Yeh Mujhse Puchhate Hain Doctor Kyu,
Ki Tu Zinda To Hai Ab Tak, Magar Kyu,
Jo Rasta Chhod Ke Main Ja Raha Hun,
Usi Raste Par Jati Hai Najar Kyu,
Sunayenge Kabhi Fursat Mein Tumko,
Ki Hum Barson Rahe Hai Darbadar Kyu,
Yahan bhi sab hai begana hi mujhse
Kahun Main Kya Ki Yaad Aaya Hai Ghar Kyu,
Main Khus Rahta Gar Samjha Na Hota,
Ye Duniya Hai To Main Deedavar Kyu.

Fir …

Read More

Best shayari | Love | Sad | Emotional | Inspirational | Best shayari in Hindi

Best shayari | Love | Sad | Emotional | Inspirational | Best shayari in Hindi

Best Shayari || Best shayari in Hindi – अगर आप सबसे अच्छी शायरी पाना चाहते हैं और इसे अपने दोस्तों के साथ share करना चाहते हैं तो हम प्यार के लिए शायरी का नवीनतम संग्रह प्रदान कर रहे हैं

आपको यहां दिल छू लेने वाली हिंदी शायरी पढ़ना पसंद आएगा। हमने सभी शेरो शायरी को हिंदी और अंग्रेजी दोनों लिपि में पोस्ट किया है, खासकर शायरी प्रेमियों के लिए। आप इस हिंदी शायरी को व्हाट्सएप स्टेटस के रूप में सेट कर सकते हैं या इसे फेसबुक, पर share कर सकते हैं।

Best shayari

हज़ार बार ली है तुमने तलाशी मेरे दिल की,
बताओ कभी कुछ मिला है इसमें प्यार के सिवा

कर दे नज़रे करम मुझ पर,
मैं तुझपे ऐतबार कर दूँ,
दीवाना हूँ तेरा ऐसा,
कि दीवानगी की हद को पर कर दूँ

आईना देखोगे तो मेरी याद आएगी
साथ गुज़री वो मुलाकात याद आएगी
पल भर क लिए वक़्त ठहर जाएगा,
जब आपको मेरी कोई बात याद आएगी

सोती हुई आँखों को सलाम हमारा
मीठे सुनहरें सपनों को आदाब हमारा,
दिल मे रहे प्यार का एहसास सदा ज़िंदा,
आज का यही है पैग़ाम हमारा।

प्यार तो दिल से होना चाहिये,
किस्मत का क्या है,
वो तो कभी भी बदल सकती है..!!

हँसता हुआ चेहरा तेरा इस दिल को
और भी Romantic बना देता हैं..!!

मेरी जान को हमेशा खुश रखना ए खुदा उसके
जख्मों की कीमत मेरी जिंदगी से काट लेना..!

तुम मेरी बाहों का हार बनो,
मेरे आँखो की चमक बनो,
तुम इस दिल की धड़कन बनो,
मेरे साँसों की महक बनो,
बस हर पल यूही इस दिल की चाहत बनो.

चुपचाप गुजार देंगे तेरे बिना भी ये जिंदगी
लोगों को सिखा देंगे मोहब्बत ऐसे भी होती है

तेरी यादों की खुशबू से हम महकते रहते हैं,
जब जब तुझको सोचते हैं हम बहकते रहते हैं…

हर बार हम पर इल्जाम लगा देते हो मुहब्बत का,
कभी खुद से भी पूंछा है इतनी खूबसूरत क्यों हो

शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत, तुम चले आओ…
थोड़ा हम बदल जाते हैं, थोड़ा तुम बदल जाओ।

दीवानगी मे कुछ ऐसा कर जाएंगे।
महोब्बत की सारी हदे पार कर जाएंगे,
वादा है तुमसे दिल बनकर तुम धड़कोगे
और सांस बनकर हम आएँगे।।

कमाल की चीज है ये मोहब्बत अधूरी हो सकती है,
पर कभी खत्म नही हो सकती।

बरसात होती हैं आँखों में जब याद तेरी आती हैं
बहुत रोता हैं ये दिल मेरा जब दूर तू जाती हैं |…

Read More

90+ Ishq Shayari Urdu – Hindi

90+ Ishq Shayari Urdu

आप सभी को नमस्कार यह पोस्ट Ishq Shayari का दुसरा पार्ट हैं. इसमें आप पढ़ सकते Ishq Shayari Urdu के बेहतरीन कलेक्शन को जो विश्व प्रसिद्ध शायरों ने हैं.

तो आईये लुफ्त उठाते हैं इश्क़ शायरी उर्दू के लाज़वाब कलेक्शन का और पढ़ते हैं इश्क पर बनी हिंदी उर्दू शायरी को जो आप को बेहद  पसंद आएगी। तो इस पोस्ट की शुरुआत  करने  पहले एक मिर्ज़ा ग़ालिब द्वारा लिखी गयी  ज्यादा लोकप्रिय शेर के साथ.  

इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया वर्ना हम भी आदमी थे काम के 

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है 
ये वो आतिश ‘ग़ालिब’ 
कि लगाए न लगे 
और बुझाए न बने 
मिर्ज़ा ग़ालिब
☜☆☞
Ishk Par Jor Nahi Hai 
Ye Wo Aatish Galib
Ki Lagaye Naa Lage
Aur Bujhaye Na Bane

Ishq Shayari Urdu

2

अब तो है इश्क़-ए-बुताँ में 
ज़िंदगानी का मज़ा
जब  ख़ुदा का सामना होगा तो
देखा जाएगा
..

अकबर इलाहाबादी 
☜☆☞
Ab To Hai Ishk-E-Bunta Me
Zindagani Ka Maza
Jab Khuda Ka Saamana Hoga Yo
Dekha Jaayega

3

गुज़रे है 
आज इश्क के उस मुकाम से, 
नफरत सी हो गयी है मोहब्बत के 
नाम से 

Ishq Shayari Urdu – Hindi

Guzare Hai
Aaj Ishk Ke Us Mukaam Se,
Nafarat Si Ho Gayi Hai Mohabbat Ke 
Naam Se.

4

इश्क चख लिया था इत्तफ़ाक से,
ज़बान पर आज भी दर्द के 
छाले हैं.  
Ishk Chakh Liya Tha  Itfaak Se
Jabaan Par Aaj Bhi Dard Ke
Chhale Hain

5

तेरी  बेवफाई का सौ बार शुक्रिया,
मेरी जान छूटी इश्क़-ऐ-बवाल से .
Teri Bewafayi Ka Sau Baar Shukriya
Meri Jaan Chhuti Ishk-E-Bavaal Se

6

धुआँ धुआँ 
सा लग रहा है शहर में
लगता है किसी का इश्क़ जल रहा है 
ठंड में

Dhuaa-Dhua 
Sa Lag Raha Hai Shahar Me
Lagata Hai Kisi Ka Ishk jal Raha Hain

ना कर तू इतनी कोशिशे,  
मेरे दर्द को समझने की, 
पहले इश्क़ कर, फिर चोट खा, 
फिर लिख  दवा मेरे दर्द की. 

Naa Kar Tu Itani Koshishe
Mere Dard Ko Samjhane Ki
Pahale Ishk Kar Fir Chot Kha
Fir Likh Dawa Mere Dard Ki

तेरी ख़ामोशी, 
अगर तेरी मज़बूरी है, तो 
रहने दे इश्क़ कौन सा जरुरी है.

Teri Khamoshi
Agar Majburi Hai To 
Rahane De Ishk Kaun Sa Jaruri Hai.

इश्क़ के चर्चे भले ही सारी 
दुनिया में होते होंगे,
पर दिल तो ख़ामोशी से ही 
टूटते हैं

Ishk Ke Charche Bhale Hi Sari
Duniya Me Hote Honge
Par …

Read More

Famous Dr. Rahat Indori Shayari

राहत इन्दौरी को इन दिनों कौन नहीं जानता | वैसे तो राहत इन्दौरी बहुत ही प्रसिद्ध उर्दू एव हिंदी शायरी, हिंदी कवि और हिंदी सिनेमा जगत के गीतकार भी है| लेकिन इन दिनों ज्यादा ही प्रचलन में है, और इसका कारण उनकी “बुलाती है मगर जाने का नहीं” कविता का ट्रेंड में होना है, इस पोएम को जनता से बहुत ज्यादा प्यार मिला है और ये लेख सोशल मीडिया एप्लीकेशन टिकटोक पर से भी सबसे ज्यादा प्रचलन में आयी है, जिससे अधिक से अधिक लोग डॉक्टर राहत इन्दौरी साहब को जानने लगे है|

Famous Dr. Rahat Indori Shayari

राहत इन्दौरी जी, देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर में उर्दू साहित्य के प्राचार्य भी रहे हैं। इनका जन्म इंदौर में 1 जनवरी 1950 को एक मुस्लिम परिवार में हुआ | इनकी प्रारंभिक शिक्षा भी इंदौर से हुयी लेकिन बाद में इंदौरी जी ने उर्दू साहित्य में ऍमए, भोपाल क्षेत्र से किया तत्पश्चात इन्होने भोज मुक्त विश्वविद्यालय से उर्दू साहित्य में पीएचडी की उपाधि ग्रहण की।

राहत इन्दौरी जी कॉलेज टाइम से ही शायरी का शौक रखते थे और यही शौक इन्हे आज बुलंदियों पे ले गया | तो आईये दोस्तों राहत इन्दौरी जी द्वारा लिखी हुयी कुछ चुनिंदा शेर ओ शायरी हिंदी और उर्दू में जानते है, कुछ फेमस राहत इन्दौरी शायरी और स्टेटस जो प्रचलन में है –

Dr. Rahat Indori Shayari

सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें
शाखों से टूट जाए वो पत्ते नहीं हैं हम
आंधी से कोई कह दे की औकात में रहें


जवान आँखों के जुगनू चमक रहे होंगे
अब अपने गाँव में अमरुद पक रहे होंगे
भुलादे मुझको, मगर मेरी उंगलियों के निशान
तेरे बदन पे अभी तक चमक रहे होंगे


Bulati hai magar jane ka nahi Famous Poetry

बुलाती है मगर जाने का नहीं
ये दुनिया है इधर जाने का नहीं

मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर
मगर हद से गुज़र जाने का नहीं

ज़मीं भी सर पे रखनी हो तो रखो
चले हो तो ठहर जाने का नहीं

सितारे नोच कर ले जाऊंगा
मैं खाली हाथ घर जाने का नहीं

वबा फैली हुई है हर तरफ
अभी माहौल मर जाने का नहीं

वो गर्दन नापता है नाप ले
मगर जालिम से डर जाने का नहीं


हर एक हर्फ़ का अंदाज़ बदल रखा हैं
आज से हमने तेरा नाम ग़ज़ल रखा हैं
मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया
मेरे कमरे में भी एक “ताजमहल” रखा हैं


मौसमो का ख़याल रखा …

Read More

Love Shayari – 99-प्यार मोहब्बत इश्क़ की शायरी हिन्दी मे

Top True Love Shayari in Hindi With Images For Girlfriend

प्यार में प्यार को आज़माया नहीं जाता
आज़मा कर प्यार कभी पाया नहीं जाता
प्यार पाने के लिए विश्वास की जरुरत है
बिना विश्वास प्यार कभी निभाया नहीं जाता ||

लव शायरी हिंदी में
वो दिल ही क्या जो वफ़ा ना करे
तुझे भूल कर जीयूं खुदा ना करे
रहेगा तेरा प्यार ज़िंदगी बन कर
वो बार और है अगर ज़िंदगी वफ़ा ना करे ||

Love Shayari For Girlfriend

उनकी यादो को प्यार करते है
लाखो जनम उन पर निसार करते है
अगर राह में मिले वो आपसे
तो कहना उनसे हम आज भी उनका इंतज़ार करते है

Love Shayari Hindi For Girlfriend

उस नज़र की तरफ मत देखो
जो तुम्हे देखना से इनकार करती है
दुनिया की इस महफ़िल में उस नज़र को देखो
जो आपका इंतज़ार करती है ||

आपकी चाहत हमारी कहानी है
ये कहानी इस वक़्त की मेहरबानी है
हमारी मौत का तो पता नहीं
पर हमारी ये ज़िंदगानी सिर्फ आपकी दीवानी है ||

Sad Love Shayari

प्यार क्या होता है हम नहीं जानते 
अपनी ही ज़िंदगी को हम अपना नहीं मानते 
गम इतना मिला है के अब एहसास नहीं होता 
प्यार कोई करे हमसे तो हमें विश्वास नहीं होता ।।

रात गयी तो तारे चले गऐ 
गैरों से क्या गिला जब हमारे चले गऐ 
हम जीत सकते थे कई बाज़िया 
बस  कुछ अपनों को जीताने के लिए हम हारे चले गऐ

Romantic Shayari On Love

कभी करते है ज़िंदगी की तमन्ना 
तो कभी मौत का इंतज़ार करते है 
वो हमसे क्यों दूर है पता नहीं 
जिन्हे हम ज़िंदगी से भी ज़्यादा प्यार करते है ।

Love Shayari in Hindi Font

वो समझे या ना समझे मेरे जज्बात को 
मुझे तो मानना पड़ेगा उनकी हर बात को
हम तो चले जायेंगे दुनिया से एक दिन 
मगर देख लेना वो सोंएगे अकेले हर रात को ।

True Love Shayari

कुछ रिश्तों की चमक नहीं जाती 
कुछ यादों की कसक नहीं जाती 
कुछ दोस्तों से होता है ऐसा रिश्ता 
के दूर रह कर भी उनकी महक नहीं जाती ।।

क्यों सताते हो हमें बेगानो की तरह
कभी तो याद करो चाहने वालों की तरह
हम में थी कोई कमी जो आपको याद ना आये
आपमें थी कुछ बात जो हम आपको भुला ना पाये ।।

मुहब्बत को जब लोग खुदा मानते है
प्यार करने वालों को क्यों बुरा मानते है
जब जमाना ही पत्थर दिल है
फिर पथर …

Read More

Yaad Shayari, Samne Na Ho To Tarasti Hain Aankhe

Samne Na Ho To Tarasti Hain Aankhe,
Yaad Me Teri Barsti Hain Aankhen,
Mere Liye Nahin Inke Liye Hi Aa Jaao,
Aapka Bepanah Intezar Karti Hain Aankhen. Yaad Shayari, Samne Na Ho To Tarasti Hain Aankhe

सामने ना हो तो तरसती हैं आँखे,
बिन तेरे बहुत बरसती हैं आँखे,
मेरे लिए ना सही इनके लिए आ जाओ,
क्यूंकी तुमसे बेपनाह प्यार करती हैं आँखे। Yaad Shayari, Samne Na Ho To Tarasti Hain Aankhe

Read More

Yaadein Shayari in Hindi on Yaad Karenge To

याद करेंगे तो दिन से रात हो जायेगी,
आईने को देखिये हमसे बात हो जायेगी,
शिकवा न करिए हमसे मिलने का,
आँखे बंद कीजिये मुलाकात हो जायेगी..…

Read More

Munir Ahmed Shayari – Collection of Munir Ahmed Shayari

Munir Ahmed was better known as Munir Niazi was an Urdu Punjabi poet who was known for his contribution to the Urdu language with a touch of Punjabi. Some of his poetry was used in films and these film songs became extremely popular super-hit songs among the Public. Taiz Hawa Aur Tanha Phool, Jungle Mein Dhanak, Dushmanoon Kai Darmiyan Sham and Mah-e-Munir are some of his Urdu publications.

Munir Ahmed Shayari – Collection of Munir Ahmed Shayari

Best Munir Ahmed Shayari

Meri Sada Hawa Mein Bahut Dur Tak Gayi,
Par Main Bula Raha Tha Jise Wo Bekhabar Raha,
Usaki Aakhiri Nazar Mein Ajab Dard Tha “Muneer”,
Uske Jaane Ka Ranj Mujhe Umar Bhar Raha.

Shehar Mein Wo Moatbir Meri Gawahi Se Huwa,
Phir Mujhe Is Shehar Mein Namoatbir Usi Ne Kiya,
Shehar Ko Barbaad Kar Ke Rakh Diya Us Ne “Muneer”
Shehar Par Yeh Zulam Mere Naam Per Usi Ne Kiya.

Aise Bhi Hum Nahi,
Gham Se Lipat Jaenge Aise Bhi Hum Nahi,
Duniya Say Kat Hi Jaenge Aise Bhi Hum Nahi,
Itne Sawal Dil Mein Hain Or Wo Khamosh Der,
Is Der Say Hat Jaenge Aise Bhi Hum Nahi.

Zaruri Kya Har Ek Mahafil Mein Baithen,
Takalluf Ki Rava-daari Se Bache,
Hum Bhi Kisi Kamaan Se Nikale The Tir Se,
Ye Aur Baat Hai Ki Nishane Khata Huye,
Ham Labon Se Kah Na Paye Un Se Haal-e-dil Kabhi,
Aur Woh Samajhe Nahin Ye Khamushi Kya Cheez Hai.

Hamara Mir-ji Se Muttafiq Hona Hai Na-mumkin,
Uthaana Hai Jo Patthar Ishq Ka To Halka Bhari Kya,
Har Adami Mein Hote Hain Das Bis Aadami,
Jis Ko Bhi Dekhana Ho Kai Baar Dekhana.

Kisi Ko Apane Amal Ka Hisaab Kya Dete,
Sawal Sare Galat The, Ham Jawab Kya Dete,
Hawa Ki Tarah Musafhir The, Dilabaron Ke Dil,
Unhen Bas Ek Hi Ghar Ka Ajaab Kya Dete.

Gum Ki Barish Ne Bhi Tere Naqsh Ko Dhoya Nahin,
Tune Mujhe Kho Diya Mene Tujhe Khoya Nahin,
Janata Hun Ek Aise Shakhs Ko Main Bhi “Muneer”,
Gum Se Patthar Ho Gaya Lekin Kabhi Roya Nahin.

Shehar-E-Sangdil,
Is Shehar-E-Sangdil Ko Jalaa Dena Chahiye,
Phir Is Ki Khaak Ko Bhi Udaa Dena Chahiye,
Gum Ho Chale Ho Tum To Bahut Khud Mein Ae “Muneer”
Duniya Ko Kuch To Apna Pata Dena Chahiye.

Mere Haalat,
Tujhse Bichad Kar Kya Hoon Main, Ab Bahar Akar Dekh
Himmat Hai To Mere Haalat Se Aankh Mila Kar Dekh
Tu Bhi “Muneer” Ab Bhare Jahaan Mein Mil Kar Rehna Sikh
Bahar …

Read More