Dard Bhari Shayari in Hindi

गुजारिश हमारी वह मान न सके,
मज़बूरी हमारी वह जान न सके,
कहते हैं मरने के बाद भी याद रखेंगे,
जीते जी जो हमें पहचान न सके..

Leave a Reply

%d bloggers like this: