Dard Shayari – Gine huye kadam inhraaf kya hota

Gine huye kadam inhraaf kya hota,
Gunaah tarze-nigaah tha, maaf kya hota,
Jhuki hui meri aakhein, sile huye mere lab,
Ab is se badh kar tera etaraaf kya hota.

Khud apni vehshate-jaan se wafa na ki hum ne,
Zamaana aur hamaare khilaaf kya hota,
Diye to ab bhi diye hain vo bazm ho ki harm,
Bujhe huye dilon-jaan se tavaaf kya hota.

Sitara tha bhi to aansu ki istaara tha,
Kisi falak ka yahan inkishaf kya hota,
Vahi gubaare-tamanna, vahi shamime dua,
Tu rozo shab mein mere ikhtilaaf kya hota…

– Parveen Shakir

गिने हुए कदम इनराफ क्या होता,
गुनाह तर्ज़े-निगाह था, माफ़ क्या होता,
झुकी हुई मेरी आखें, सिले हुए मेरे लब,
अब इस से बढ़ कर तेरा एतराफ़ क्या होता.

खुद अपनी वहशते-जान से वफ़ा ना की हम ने,
ज़माना और हमारे खिलाफ क्या होता,
दिए तो अब भी दिए हैं वो बजम हो की हरम,
बुझे हुए दिलों-जान से तवाफ़ क्या होता.

सितारा था भी तो आँसू की इस्तारा था,
किसी फलक का यहाँ इंकिशाफ़ क्या होता,
वही गुबारे-तमन्ना, वही शमिमे दुआ,
तू रोज़ो शब में मेरे इकतिलाफ क्या होता…

– परवीन शकीर

Leave a Reply

%d bloggers like this: