Dosti Shayari in Hindi on Alag Hi Usool Hain

अपनी ज़िंदगी के कुछ अलग ही उसूल हैं,
दोस्ती की खातिर हमें काँटे भी क़बूल हैं,
हँस कर चल देंगे काँच के टुकड़ों पर भी,
अगर दोस्त कहे यह दोस्ती में बिछाये फूल हैं..

Leave a Reply