Ghalib’s Sher in Hindi (Mirza Ghalib famous shayari)

Apni gali men mujhko na kar dafn baad-e-qatl
mere pate se khalq ko kyuun tera ghar mile

अपनी गली में मुझको ना कर दफ़्न बाद-ए-क़त्ल
मेरे पाते से कॉल्क को क्यूउन तेरा घर मिले

*******

Aaina dekh apna sa munh le ke rah gaye
saahab ko dil na dene pe kitna guruur tha

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गये
साहब को दिल ना देने पे कितना गुरुुर् था

*******

Aaye hai be-kasi-e-ishq pe rona ‘Ghalib’
kis ke ghar jaayega sailaab-e-balaa mere baad

आए है बे-कसी-ए-इश्क़ पे रोना ‘ग़ालिब’
किस के घर जाएगा सैलाब-ए-बाला मेरे बाद

*******

Aage aati thi haal-e-dil pe hansi
ab kisi baat par nahi aati

आयेज आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी
अब किसी बात पर नही आती

*******

Aata hai daagh-e-hasrat-e-dil ka shumaar yaad
mujh se mire gunah ka hisaab ai khuda na maang

आता है दाघ-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद
मुझ से माइर गुनाह का हिसाब आई खुदा ना माँग

*******

Aashiq hoon pe maashooq-farebi hai mira kaam
majnuun ko bura kahti hai laila mere aage

आशिक़ हूँ पे माशूक़-फरेबी है मीरा काम
मजनूउन को बुरा कहती है लैला मेरे आयेज

*******

Ishq ne ‘Ghalib’ nikamma kar diya
varna ham bhi aadmi the kaam ke

इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकँमा कर दिया
वरना हम भी आदमी थे काम के

*******

Ishq par zor nahi hai ye vo aatash ‘Ghalib’
ki lagaaye na lage aur bujhaaye na bane

इश्क़ पर ज़ोर नही है ये वो आताश ‘ग़ालिब’
की लगाए ना लगे और बुझाए ना बने

*******

Is nazaaqat ka bura ho vo bhale hain to kya
haath aave to unhe haath lagaaye na bane

इस नज़ाक़त का बुरा हो वो भले हैं तो क्या
हाथ आवे तो उन्हे हाथ लगाए ना बने

*******

Is saadgi pe kaun na mar jaaye ai khuda
ladte hain aur haath mein talwaar bhi nahi

इस सादगी पे कौन ना मार जाए आई खुदा
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नही

*******

Udhar vo bad-gumani hai idhar ye naa-tavaani hai
na poochha jaaye hai us se na bola jaaye hai mujh se

उधर वो बाद-गुमानि है इधर ये ना-तवानी है
ना पूचछा जाए है उस से ना बोला जाए है मुझ से

*******
Un ke dekhe se jo aa jaati hai munh pe raunak
vo samajhte hain ki beemar ka haal achchha hai

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पे रौनक
वो समझते हैं की बीमार का हाल अच्च्छा है

*******

Etibar-e-ishq kee khana-kharaabi dekhna
gair ne kee aah lekin vo khafaa mujh par huye

एटिबार-ए-इश्क़ की खाना-खराबी देखना
गैर ने की आ लेकिन वो खफा मुझ पर हुए

*******

Qat’a keejiye na taalluk ham se
kuchh nahi hai to adaavat hi sahi

क़त’आ कीजिए ना ताल्लुक हम से
कुच्छ नही है तो अदावत ही सही

*******

Karz kee peete the may lekin samajhte the ki haan
rang laavegi hamaari faaka-masti ek din

क़र्ज़ की पीते थे मे लेकिन समझते थे की हन
रंग लावेगी हमारी फाका-मस्ती एक दिन

*******

Kahaan may-khaane ka darvaaja ‘Ghalib’ aur kahaan vaaiz
par itna jaante hain kal vo jaata tha ki ham nikle

कहाँ मे-खाने का दरवाजा ‘गॅलाइब’ और कहाँ वाइज़
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था की हम निकले

*******

Kaaba kis munh se jaaoge ‘Ghalib’
sharm tum ko magar nahi aati

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शर्म तुम को मगर नही आती

*******

Qaasid ke aate-aate khat ik aur likh rakhuun
mai jaanta huun jo vo likhenge jawaab mein

क़ासिद के आते-आते खत इक और लिख रखुऊँ
मई जानता हुउँ जो वो लिखेंगे जवाब में

*******

Kitne sheereen hain tere lab ki raqeeb
gaaliyaan kha ke be-mazaa na hua

कितने शीरीन हैं तेरे लब की रक़ीब
गालियाँ खा के बे-मज़ा ना हुआ

Leave a Reply