Gulzar Shayari in Hindi | गुलज़ार शायरी हिंदी में

गुलज़ार शायरी हिंदी में | Gulzar Shayari | Gulzar Shayari in Hindi | Gulzar shayari in hindi 2 lines | gulzar shayari in hindi 2 lines on life | गुलज़ार शायरी | gulzar shayari in hindi sad | Gulzar Shayari

गुलज़ार शायरी हिंदी में: जैसा की आप सभी को मालूम ही है हमारे भारत में गुलज़ार साहब लोकप्रिय लेखकों में से एक हैं इसके अलावा गुलज़ार साहब सर्वश्रेष्ठ फिल्म निर्माता और गीतकार है इसके साथ ही गुलज़ार साहब हिंदी और उर्दू में हज़ारों खूबसूरत ग़ज़ल, Gulzar Shayari in Hindi, कविता, उद्धरण, अल्फाज़ और कविताएँ लिखते हैं। उनके सभी शायरी और उनकी बाते सभी के दिलो को छू जाती है। आप सभी आज हमारी इस पोस्ट में गुलज़ार साहब की कुछ दिल को छू लेने वाली शायरी को पढ़ेंगे व Gulzar Shayari in Hindi डाउनलोड भी कर सकेंगे।
गुलज़ार साहब एक महान लेखक हैं. उनके द्वारा लिखी गुलज़ार शायरी हिंदी में दिल को छू जाती है, यहाँ पर हमने ऐसी ही
गुलज़ार साहब के द्वारा लिखी हुई कुछ लोकप्रिय शायरियों को एकत्रित किया है जो आपको बहुत पसंद आएँगी।

Gulzar Shayari in Hindi

इश्क़ की तलाश में,
क्यों निकलते हो तुम,
इश्क़ खुद तलाश लेता है,
जिसे बर्बाद करना होता है।

तुझ से बिछड़ कर,
कब ये हुआ कि मर गए,
तेरे दिन भी गुजर गए,
और मेरे दिन भी गुजर गए.

आऊं तो सुबह,
जाऊं तो मेरा नाम शबा लिखना,
बर्फ पड़े तो,
बर्फ पे मेरा नाम दुआ लिखना,

वो शख़्स जो कभी,
मेरा था ही नही,
उसने मुझे किसी और का भी,
नही होने दिया.,

सालों बाद मिले वो,

गले लगाकर रोने लगे,
जाते वक्त जिसने कहा था,
तुम्हारे जैसे हज़ार मिलेंगे…

Beautiful Gulzar Shayari lyrics

जब भी आंखों में अश्क भर आए,
लोग कुछ डूबते नजर आए,
चांद जितने भी गुम हुए शब के,
सब के इल्ज़ाम मेरे सर आए,

जिन दिनों आप रहते थे,
आंख में धूप रहती थी,
अब तो जाले ही जाले हैं,
ये भी जाने ही वाले हैं.,

जबसे तुम्हारे नाम की,
मिसरी होंठ लगाई है,
मीठा सा गम है,
और मीठी सी तन्हाई है.

वक्त कटता भी नही,
वक्त रुकता भी नही,
दिल है सजदे में मगर,
इश्क झुकता भी नही,

एक बार जब तुमको बरसते पानियों के पार देखा था,
यूँ लगा था जैसे गुनगुनाता एक आबशार देखा था,
तब से मेरी नींद में बसती रहती हो,

बोलती बहुत हो और हँसती रहती हो,.

Famous Gulzar Shayari Zindagi

होती नही ये मगर,
हो जाये ऐसा अगर,
तू ही नज़र आए तू,
जब भी उठे ये नज़र,

मेरा ख्याल है अभी, झुकी हुई निगाह में,
खिली हुई हँसी भी है, दबी हुई सी चाह में,
मैं जानता हूं, मेरा नाम गुनगुना रही है वो,
यही ख्याल है मुझे, के साथ आ रही है वो,

तुम्हें जिंदगी के उजाले मुबारक,
अंधेरे हमें आज रास आ गए हैं,
तुम्हें पा के हम खुद से दूर हो गए थे,
तुम्हें छोड़कर अपने पास आ गए हैं,

उतर रही हो या,
चढ़ रही हो ?,
क्या मेरी मुश्किलों को,
पढ़ रही हो ?,

सुरमे से लिखे तेरे वादे,
आँखों की जबानी आते हैं,
मेरे रुमालों पे लब तेरे,
बाँध के निशानी जाते हैं,

4 Line Gulzar Shayari in Hindi

तेरे इश्क़ में तू क्या जाने,
कितने ख्वाब पिरोता हूं,
एक सदी तक जागता हूं मैं,
एक सदी तक सोता हूं,

गुल पोश कभी इतराये कहीं,
महके तो नज़र आ जाये कहीं,
तावीज़ बनाके पहनूं उसे,
आयत की तरह मिल जाये कहीं,

पता चल गया है के मंज़िल कहां है,
चलो दिल के लंबे सफ़र पे चलेंगे,
सफ़र ख़त्म कर देंगे हम तो वहीं पर,
जहाँ तक तुम्हारे कदम ले चलेंगे,

उम्मीद तो नही,
फिर भी उम्मीद हो,
कोई तो इस तरह,
आशिक़ शहीद हो,

कोई आहट नही बदन की कहीं,
फिर भी लगता है तू यहीं है कहीं,
वक्त जाता सुनाई देता है,
तेरा साया दिखाई देता है,

ishq kee talaash mein,
kyon nikalate ho tum,
ishq khud talaash leta hai,
jise barbaad karana hota hai.

tujh se bichhad kar,
kab ye hua ki mar gae,
tere din bhee gujar gae,
aur mere din bhee gujar gae.

aaoon to subah,
jaoon to mera naam shaba likhana,
barph pade to,
barph pe mera naam dua likhana,

vo shakhs jo kabhee,
mera tha hee nahee,
usane mujhe kisee aur ka bhee,
nahee hone diya.,

saalon baad mile vo,
gale lagaakar rone lage,
jaate vakt jisane kaha tha,
tumhaare jaise hazaar milenge.,

jab bhee aankhon mein ashk bhar aae,
log kuchh doobate najar aae,
chaand jitane bhee gum hue shab ke,
sab ke ilzaam mere sar aae,

jin dinon aap rahate the,
aankh mein dhoop rahatee thee,
ab to jaale hee jaale hain,
ye bhee jaane hee vaale hain.,

jabase tumhaare naam kee,
misaree honth lagaee hai,
meetha sa gam hai,
aur meethee see tanhaee hai.

vakt katata bhee nahee,
vakt rukata bhee nahee,
dil hai sajade mein magar,
ishk jhukata bhee nahee,

ek baar jab tumako barasate paaniyon ke paar dekha tha,
yoon laga tha jaise gunagunaata ek aabashaar dekha tha,
tab se meree neend mein basatee rahatee ho,
bolatee bahut ho aur hansatee rahatee ho,.

famous gulzar shayari zindagi hotee nahee ye magar,
ho jaaye aisa agar,
too hee nazar aae too,
jab bhee uthe ye nazar,
mera khyaal hai abhee,

jhukee huee nigaah mein,
khilee huee hansee bhee hai,
dabee huee see chaah mein,
main jaanata hoon,

mera naam gunaguna rahee hai vo,
yahee khyaal hai mujhe,
ke saath aa rahee hai vo,
tumhen jindagee ke ujaale mubaarak,

andhere hamen aaj raas aa gae hain,
tumhen pa ke ham khud se door ho gae the,
tumhen chhodakar apane paas aa gae hain,
utar rahee ho ya,

chadh rahee ho ?,
kya meree mushkilon ko,
padh rahee ho ?,
surame se likhe tere vaade,

aankhon kee jabaanee aate hain,
mere rumaalon pe lab tere,
baandh ke nishaanee jaate hain,

tere ishq mein too kya jaane,
kitane khvaab pirota hoon,
ek sadee tak jaagata hoon main,
ek sadee tak sota hoon,

gul posh kabhee itaraaye kaheen,
mahake to nazar aa jaaye kaheen,
taaveez banaake pahanoon use,
aayat kee tarah mil jaaye kaheen,

pata chal gaya hai ke manzil kahaan hai,
chalo dil ke lambe safar pe chalenge,
safar khatm kar denge ham to vaheen par,
jahaan tak tumhaare kadam le chalenge,

ummeed to nahee,
phir bhee ummeed ho,

koee to is tarah,
aashiq shaheed ho,

koee aahat nahee badan kee kaheen,
phir bhee lagata hai too yaheen hai kaheen,
vakt jaata sunaee deta hai,
tera saaya dikhaee deta hai,

Hindi Gulzar Shayari on Life

तू समझता क्यूं नही है,
दिल बड़ा गहरा कुआँ है,
आग जलती है हमेशा,
हर तरफ धुआँ धुआँ है,

टकरा के सर को जान न दे दूं तो क्या करूं,
कब तक फ़िराक-ए-यार के सदमे सहा करूं,
मै तो हज़ार चाहूँ की बोलूँ न यार से,
काबू में अपने दिल को न पाऊं तो क्या करूं,

एक बीते हुए रिश्ते की,
एक बीती घड़ी से लगते हो,
तुम भी अब अजनबी से लगते हो,

जाने कैसे बीतेंगी,
ये बरसातें,
माँगें हुए दिन हैं,
माँगी हुई रातें,.

Gulzar Shayari on Mohabbat

ऐसा कोई ज़िंदगी से वादा तो नही था,
तेरे बिना जीने का इरादा तो नही था.,
वो बेपनाह प्यार करता था मुझे,
गया तो मेरी जान साथ ले गया,

झुकी हुई निगाह में, कहीं मेरा ख्याल था,
दबी दबी हँसी में इक, हसीन सा गुलाल था,
मै सोचता था, मेरा नाम गुनगुना रही है वो,
न जाने क्यूं लगा मुझे, के मुस्कुरा रही है वो,

इस दिल में बस कर देखो तो,
ये शहर बड़ा पुराना है,
हर साँस में कहानी है,
हर साँस में अफ़साना है,

Heart Touching Gulzar Shayari on yaadein

धीरे-धीरे ज़रा दम लेना,
प्यार से जो मिले गम लेना,
दिल पे ज़रा वो कम लेना,

दबी-दबी साँसों में सुना था मैंने,
बोले बिना मेरा नाम आया,
पलकें झुकी और उठने लगीं तो,
हौले से उसका सलाम आया,

उड़ते पैरों के तले जब बहती है जमीं,
मुड़के हमने कोई मंज़िल देखी तो नही,
रात दिन हम राहों पर शामो सहर करते हैं,

राह पे रहते हैं यादों पे बसर करते हैं,

इतना लंबा कश लो यारो,,
दम निकल जाए,
जिंदगी सुलगाओ यारों,
गम निकल जाए,

Behatareen Gulzar’s poetry

वो चेहरे जो रौशन हैं लौ की तरह,
उन्हें ढूंढने की जरूरत नही,
मेरी आँख में झाँक कर देख लो,
तुम्हें आइने की जरूरत नही,

मेरे उजड़े उजड़े से होठों में,
बड़ी सहमी सहमी रहती है जबाँ,
मेरे हाथों पैरों में खून नही,
मेरे तन बदन में बहता है धुँआ,

वो शाम कुछ अजीब थी,,
ये शाम भी अजीब है,
वो कल भी पास पास थी,
वो आज भी करीब है,

जीना भूले थे कहां याद नहीं!
तुमको पाया है जहाँ,
सांस फिर आई वहीं,

Gulzar Famous Shayari in Hindi

क्यूं बार बार लगता है मुझे,
कोई दूर छुपके तकता है मुझे,
कोई आस पास आया तो नही,
मेरे साथ मेरा साया तो नही,

तुम मिले तो क्यों लगा मुझे,,
खुद से मुलाकात हो गई,,
कुछ भी तो कहा नही मगर,
ज़िंदगी से बात हो गई,,

ख़ामोश रहने में दम घुटता है,
और बोलने से ज़बान छिलती है,
डर लगता है नंगे पांव मुझे,
कोई कब्र पांव तले हिलती है,

टूटी फूटी शायरी में,
लिख दिया है डायरी में,
आख़िरी ख्वाहिश हो तुम,
लास्ट फरमाइश हो तुम,

too samajhata kyoon nahee hai,
dil bada gahara kuaan hai,
aag jalatee hai hamesha,
har taraph dhuaan dhuaan hai,

takara ke sar ko jaan na de doon to kya karoon,
kab tak firaak-e-yaar ke sadame saha karoon,
mai to hazaar chaahoon kee boloon na yaar se,
kaaboo mein apane dil ko na paoon to kya karoon,

ek beete hue rishte kee,
ek beetee ghadee se lagate ho,
tum bhee ab ajanabee se lagate ho,
jaane kaise beetengee,

ye barasaaten,
maangen hue din hain,
maangee huee raaten,.
aisa koee zindagee se vaada to nahee tha,

tere bina jeene ka iraada to nahee tha.,
vo bepanaah pyaar karata tha mujhe,
gaya to meree jaan saath le gaya,
jhukee huee nigaah mein,

kaheen mera khyaal tha,
dabee dabee hansee mein ik,
haseen sa gulaal tha,
mai sochata tha,

mera naam gunaguna rahee hai vo,
na jaane kyoon laga mujhe,
ke muskura rahee hai vo,
is dil mein bas kar dekho to,
ye shahar bada puraana hai,

har saans mein kahaanee hai,
har saans mein afasaana hai,

dheere-dheere zara dam lena,
pyaar se jo mile gam lena,

dil pe zara vo kam lena,
dabee-dabee saanson mein suna tha mainne,

bole bina mera naam aaya,
palaken jhukee aur uthane lageen to,
haule se usaka salaam aaya,
udate pairon ke tale jab bahatee hai jameen,

mudake hamane koee manzil dekhee to nahee,
raat din ham raahon par shaamo sahar karate hain,
raah pe rahate hain yaadon pe basar karate hain,
itana lamba kash lo yaaro,,

dam nikal jae,
jindagee sulagao yaaron,
gam nikal jae,
vo chehare jo raushan hain lau kee tarah,

unhen dhoondhane kee jaroorat nahee,
meree aankh mein jhaank kar dekh lo,
tumhen aaine kee jaroorat nahee,
mere ujade ujade se hothon mein,

badee sahamee sahamee rahatee hai jabaan,
mere haathon pairon mein khoon nahee,
mere tan badan mein bahata hai dhuna,
vo shaam kuchh ajeeb thee,,

ye shaam bhee ajeeb hai,
vo kal bhee paas paas thee,
vo aaj bhee kareeb hai,

jeena bhoole the kahaan yaad nahin!
tumako paaya hai jahaan,

saans phir aaee vaheen,
kyoon baar baar lagata hai mujhe,
koee door chhupake takata hai mujhe,
koee aas paas aaya to nahee,

mere saath mera saaya to nahee,
tum mile to kyon laga mujhe,,
khud se mulaakaat ho gaee,,
kuchh bhee to kaha nahee magar,

zindagee se baat ho gaee,,
khaamosh rahane mein dam ghutata hai,
aur bolane se zabaan chhilatee hai,
dar lagata hai nange paanv mujhe,

koee kabr paanv tale hilatee hai,
tootee phootee shaayaree mein,
likh diya hai daayaree mein,
aakhiree khvaahish ho tum,
laast pharamaish ho tum,

Sad Love Gulzar Quotes

हमने देखी है उन आँखों की खुशबू
हाथ से छूके इसे रिश्तों का इल्ज़ाम न दो
सिर्फ़ एहसास है ये रूह से महसूस करो
प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो

ख्वाबी ख्वाबी सी लगती है दुनिया
आँखों में ये क्या भर रहा है
मरने की आदत लगी थी
क्यूं जीने को जी कर रहा है

कहीं किसी रोज यूं भी होता
हमारी हालत तुम्हारी होती
जो रातें हमने गुजारी मरके
वो रातें तुमने गुजारी होती

उम्मीद भी अजनबी लगती है
और दर्द पराया लगता है
आईने में जिसको देखा था
बिछड़ा हुआ साया लगता है

hamane dekhee hai un aankhon kee khushaboo
haath se chhooke ise rishton ka ilzaam na do
sirf ehasaas hai ye rooh se mahasoos karo
pyaar ko pyaar hee rahane do

koee naam na do khvaabee khvaabee see lagatee hai duniya
aankhon mein ye kya bhar raha hai
marane kee aadat lagee thee
kyoon jeene ko jee kar raha hai

kaheen kisee roj yoon bhee hota
hamaaree haalat tumhaaree hotee
jo raaten hamane gujaaree marake
vo raaten tumane gujaaree hotee

ummeed bhee ajanabee lagatee hai
aur dard paraaya lagata hai
aaeene mein jisako dekha tha
bichhada hua saaya lagata hai

Gulzar Shayari Text

कोई तो करता होगा हमसे भी
खामोश मोहब्बत..
किसी का हम भी अधूरा
इश्क रहे होंगे…

Koi to karta hoga humse bhi
khamosh Mohabbat…
Kisi ka hum bhi adhura
Ishq rahe honge….

आखिरी नुकसान था तू जिंदगी में,
तेरे बाद मैंने कुछ खोया ही नहीं..

Aakhiri nuksaan tha tu Zindagi me,
Tere baad maine kuch khoya hi nahi

सब खफा हैं मेरे लहजे से,
पर मेरे हालात से वाकिफ
कोई नहीं..

Sad khafa hain mere lahze se,
Par mere halat se wakif
koi nahi….

तन्हाइयां कहती हैं
कोई महबूब बनाया जाए,
जिम्मेदारियां कहती हैं
वक़्त बर्बाद बहुत होगा..

tanhaiyan kahti hain
Koi mahboob banaya jaye,
Jimmedariyan kahti hain
waqt barbad bahut hoga

मेरे कंधे पर कुछ यूं गिरे उनके आंसू ,
कि सस्ती सी कमीज़ अनमोल हो गई..

Mere Kandhe par kuch yun gire unke aansu,
ki sasti si kameez anmol ho gai….

Best Gulzar Poetry In Hindi

बहुत करीब से अनजान बनके
गुजरा है वो शख्स,
जो कभी बहुत दूर से
पहचान लिया करता था..

Bahut kareeb se anjaan banke
Gujra hai wo Shakhs,
Jo kabhi bahut door se
pahchan liya karta tha.

उतार कर फेंक दी उसने

तोहफे में मिली पायल,
उसे डर था छनकेगी तो
याद जरूर आऊंगा मै..

Utaar kar fenk di usne
Tohfe me mili payal,
Use dar tha chhankegi to
Yaad jarur aaunga mai….

सब तारीफ कर रहे थे
अपने अपने महबूब का,
हम नीद का बहाना बना कर
महफ़िल छोड़ आए..

Sab tareef kar rahe the
apne apne mahboob ka,
hum need ka bahana bana kar
mahfil chhod aaye.

वो हमे भूल ही गए होंगे
भला इतने दिनों तक
कौन खफा रहता है..

Wo hume bhool hi gaye honge
bhala itne dino tak
kaun khafa rahta hai…

2 Line Gulzar shayari In Hindi

आज थोड़ी बिगड़ी है

कल फिर सवांर लेंगे
जिंदगी है जो भी होगा
संभाल लेंगे…

Aaj thodi bigdi hai
kal fir sawar lenge
Zindagi hai jo bhi hoga
Sambhal lenge….

सालों बाद मिले वो
गले लगाकर रोने लगे,
जाते वक़्त जिसने कहा था
तुम्हारे जैसे हजार मिलेंगे..

Salon baad mile wo
Gale lagakar rone lage,
Jate waqt jisne kaha tha
tumhare jaise hajaar milenge..

मांगा नही रब से तुम्हे
लेकिन इशारा तुम्हीं पर था,
नाम बेशक नही लिया
मगर पुकारा तुम्हीं को था..

Manga nahi rab se tumhe
Lekin ishaara tumhi par tha,
Naam beshak nahi liya
Magar pukara tumhi ko tha..

थोड़ा सा रफू

कर के देखिए ना
फिर से नई सी लगेगी,
जिंदगी ही तो है..

Thoda sa rafu
kar ke dekhiye na
Fir se nai si lagegi
Zindagi hi to hai..

कौन कहता है कि
हम झूठ नही बोलते,
एक बार खैरियत
तो पूछ के देखिए..

kaun kahta hai ki
Hum jhooth nahi bolte,
Ek baar khairiyat
to puchh ke dekhiye.

Gulzar Shayari On Life In Hindi

लगता है जिंदगी
आज खफा है,
चलिए छोड़िए
कौनसी पहली दफा है !

Lagta hai Zindagi
Aaj Khafa hai,
Chaliye chhodiye
kaunsi pahli dafa hai.

हर पल में हंसने का
हुनर था जिनके पास,
आज वो रोने लगे हैं तो
कोई बात तो होगी ना !

Har pal me hansne ka
Hunar tha jiske paas,
Aaj wo rone lage hain to
Koi baat to hogi na…

हमेशा से तो नही रहा होगा
तू भी सख्त दिल
तेरी भी मासूमियत से भी
किसी ने खेला होगा !!

Hamesha se to nahi raha hoga
Tu bhi sakht dil
Teri bhi masumiyat se bhi
kisi ne khela hoga…

बड़े बेताब थे वो
मोहब्बत करने को हमसे
जब हमने भी कर ली तो
उनका शौक बदल गया !

Bade betaab the wo
Mohabbat karne ko hamse
Jab hamne bhi kar li to
Unka shauk badal gya…

सफर छोटा ही सही
पर यादगार होना चाहिए,
रंग सांवला ही सही
पर वफादार होना चाहिए..

Safar Chhota hi sahi
Par yadgaar hona chahiye,
Rang sawla hi sahi
Par Wafadar hona chahiye.

Gulzar Shayari Sad

बस इतना सा असर होगा
हमारी यादों का,
की कभी कभी तुम बिना
बात के मुस्कुराओगे..

Bas itna sa asar hoga
hamari yadon ka,
Ki kabhi kabhi tum bina
Baat ke muskuraoge…

मुझे मालूम था कि वो
मेरा हो नही सकता,
मगर देखो मुझे फिर भी
मोहब्बत हो गई उससे..

Mujhe maloom tha ki wo
mera nahi ho sakta,

Magar dekho mujhe fir bhi
Mohabbt ho gai usse..

जो हैरान हैं मेरे सब्र पर
उनसे कह दो जो आंसू जमीन पर
नहीं गिरते वो दिल चीर देते हैं..

Jo hairan hain mere sabar par
Unse kah do jo aansu jameen par
Nahi girte wo dil cheer dete hain..

मेरी आंखों ने पकड़ा है
उन्हें कई बार रंगे हाथ
वो इश्क करना तो चाहते हैं
मगर घबराते बहुत हैं !

Meri aankhon ne pakda hai
Unhe kai baar range haath
Wo ishq karna to chahte hain
Magar ghabrate bahut hain

अपनी पीठ से निकले
खंजरों को जब गिना मैंने
ठीक उतने ही निकले
जितनो को गले लगाया था !

Apni peeth se nikle
khanzaron ko jab gina maine
theek utne hi nikle
Jitno ko gale lagaya tha !

Gulzar Shayari Words On Dosti

जो बीत गया है वो अब दौर न आएगा,
इस दिल में सिवा तेरे कोई और न आएगा,
घर फूंक दिया हमने, अब राख उठानी है,
जिंदगी और कुछ नही, तेरी मेरी कहानी है।

Jo beet gaya wo ab daur na aayega,
Is zindagi me siwa tere koi aur n aayega,
ghar foonk diya hamne, ab raakh uthani hai,
Zindagi aur kuch bhi nahi, teri meri kahani hai..

ठुकराया हमने भी है
बहुतों को तेरे खातिर
तुझसे फासला भी शायद
उनकी बद्दुआओं का असर है।

thukraya hamne bhi hai
bahuton ko tere khatir
tujhse fasla bhi shayad
unki badduaaon ka asar hai..

मोहब्बत में अक्सर ऐसा होता है,
पूरी दुनिया से लड़ने वाला इंसान
अपने मन पसंद इंसान से हार जाता है।

Mohabbat me aksar esa hota hai,
Poori duniya se ladne wala insaan
Apne man pasand insaan se haar jata hai..

नही करता मै तेरा जिक्र
किसी तीसरे से,
तेरे बारे में बात सिर्फ
खुदा से होती है।

Nahi karta mai tera zikar
Kisi teesre se,
Tere bare me baat sirf
Khuda se hoti hai..

Gulzar Shayari On love

तुझे पाने की जिद थी
अब भुलाने का ख्वाब है,
ना जिद पूरी हुई और
ना ही ख्वाब..

Tujhe pane ki zid thi
Ab bhulane ka khwab hai,
Na zid poori hui aur
Na hi khwab..

“ सब तरह की दीवानगी
से वाकिफ हुए हम,
पर मा जैसा चाहने वाला
जमाने भर में ना था ! “

Sab tarah ki diwangi
Se wakif huye hum,

Par man jaisa chahane wala
jamane bhar me na tha !

अब टूट गया दिल
तो बवाल क्या करें,
खुद ही किया था पसंद
अब सवाल क्या करें ?
������

Ab toot gya dil
To bawal kya karen,
Khud hi kiya tha pasand
ab sawal kya karen?
������

कयामत तक याद करोगे
किसी ने दिल लगाया था,
एक होने की उम्मीद भी न थी
फिर भी पागलों की तरह चाहा था।

Kayamat tak yaad karoge
Kisi ne dil lagaya tha,
Ek hone ki ummid bhi n thi
Fir bhi pagalon ki tarah chaha tha.

हर कोई परेशान है
मेरे कम बोलने से,
और मै परेशान हूं
अपने अंदर के शोर से..!!

Har koi pareshan hai
mere kam bolne se,
Aur mai pareshaan hun
Apne ander ke shor se…

Gulzar Shayari On Zindagi

तुम्हारी आदत सी
हो गई थी हमें,
मालूम तो हमे भी था कि
तुम नसीब में नही हो.

Tumhari aadat si
Ho gai thi hame,
Maalom to hame bhi tha ki
Tum naseeb me nahi ho..

किसी को उजाड़ कर
बसे तो क्या बसे,
किसी को रुला कर
हंसे तो क्या हंसे..!!

Kisi ko ujaad kar
Base to kya base,
Kisi ko rula kar
hanse to kya hanse..!!

तुझसे दूर जाने का
कोई इरादा ना था,
पर रुकते आखिर कैसे

जब तू ही हमारा न था..!!

फिक्र है इज्जत की तो
मोहब्बत छोड़ दो जनाब,
आओगे इश्क की गली में
तो चर्चे जरूर होंगे..!!

fikar hai ijjat ki to
Mohabbat Chhod do janaab,
aaoge ishq ki gali me
To charche Jarur honge..!!

अब मत मिलना
तुम दोबारा मुझे,
वक़्त बहुत लगा है
खुद को संभालने में..!!

Ab mat milna
Tum dubara mujhe,
Waqt bahut laga hai
Khud ko sambhalne me..

गुलज़ार शायरी इन हिंदी

कहने को तो बस
बातें हो जाती हैं,
पर दिल खोलकर बात किए हुए
जमाना हो गया….

Kahne ko to bas

Baaten ho jati hain,
Par dil kholkar baat kiye huye
Zamana ho gya…

पल्लू गिर गया,
पर वो घबराई नहीं
उसे यकीन था मेरी
नजर झुकी होगी..

Pallu gir gaya
Par wo ghabrai nahi
Use yakeen tha meri
Nazar Jhuki hogi..

गलती तेरी थी या
मेरी क्या फर्क पड़ता है
रिश्ता तो हमारा था ना।

Galti teri thi ya
Meri kya fark padta hai
Rishta to hamara tha na..

अगर मोहब्बत उससे ना मिले
जिसे आप चाहते हो,
तो मोहब्बत उसको जरूर देना
जो आपका चाहते हैं…

Agar mohabbt usse na mile
Jise aap chahate ho,
To Mohabbt usko jarur dena

Jo aapko chahate hain..

सच कहा था
एक फकीर ने मुझसे,
तुझे मोहब्बत तो मिलेगी
पर तड़पाने वाली !

Sach kaha tha
Kisi fakeer ne mujhse,
Tujhe mohabbat to milegi
Par tadpane wali..

2 line gulzar poetry in hindi

जाने वाला कमियां देखता है,
निभाने वाला काबिलियत..

Jane wala kamiyan dekhta hai,
Nibhane wala kabiliyat.

इसलिए पसंद है किताब मुझे
वो टूटकर बिखर जाना पसंद करेगी
मगर अपने लफ्ज़ बदलना नही..

Isliye pasand hai kitab mujhe
Wo tutkar bikhar jana pasand karegi
Magar apne lafz badalna nahi..

रोना उनके लिए
जो तुम पर निसार हो,

उसके लिए क्या रोना
जिनके आशिक़ हजार हों..

Rona unke liye
Jo tum par nisaar ho,
Uske liye kya rona
Jinke Aashiq hazar hon..

हम झूठों के बीच में सच बोल बैठे,
वो नमक का शहर था
और हम जख्म खोल बैठे…

Hum jhuthon ke beech me sach bol baithe,
Wo namak ka shahar tha
Aur ham jakhm Khol baithe…

सच बड़ी काबिलियत से
छुपाने लगे हैं हम,
हाल पूछने पर बढ़िया
बताने लगे हैं हम..!

Sach badi kabiliyat se
Chhupane lage hain hum,
Haal puchhne par badhiya
batane lage hain hum..

गुलज़ार शाहब की शायरी इन हिंदी

जिसका हक है उसे ही मिलेगा,
इश्क पानी नही जो सबको पिला दें

jiska haq hai usko hi milega
ishq pani nahi jo sabko pila den..

तिनका सा मै और समुंदर सा इश्क,
डूबने का डर और डुबाना ही इश्क..

Tinka sa mai aur samundar sa ishq,
Dubne ka dar aur dubana hi ishq..

बातों से सीखा है हम ने
आदमी को पहचानने का फन
जो हल्के लोग होते हैं
हर वक़्त बातें भारी भारी करते हैं..

Baaton se sikha hai hum ne
Aadmi ko pahchanne ka fan
Jo halke log hote hain
Har waqt baaten bhari bhari karte hain..

वो सफर बचपन के अब तक
याद आते हैं मुझे,
सुबह जाना हो कहीं तो
रात भर सोते नही थे..!

Wo safar bachpan ke ab tak
Yaad aate hain mujhe,
Subah jana ho kahi to
Raat bhar sote nahi the..!

कमियां तो पहले भी थीं मुझमें
अब जो बहाना ढूंढ़ रहे हो
तो बात अलग है…

Kamiyan to pahle bhi thi mujhme
Ab jo bahana dhundh rahe ho
To baat alag hai..

गुलज़ार शायरी इन हिंदी

नजर भी ना आऊं
इतना भी दूर ना करो मुझे,
पूरी तरह बदल जाऊं
इतना भी मजबूर मत करो मुझे..

Nazar bhi na aaun
Itna bhi door na karo mujhe,
Puri tarah badal jaun
Itna bhi majboor mat karo mujhe..

आइने के सामने खड़े होकर
खुद से ही माफी मांग ली मैंने,
सबसे ज्यादा अपना ही दिल दुखाया है
औरों को खुश करते करते..

Aaine ke samne khade hokar
khud se hi mafi mang li maine,
Sabse jyada apna hi dil dukhaya hai
Auron ko khush karte karte..

दिल तो रोज़ कहता है
कि तुम्हे कोई सहारा चाहिए,
फिर दिमाग कहता है
क्यों तुम्हे धोखा दुबारा चाहिए..

Dil to rooz kahta hai
Ki tumhe koi sahara chahiye,
Fir Dimag kahata hai
Kyon tumhe Dhokha dubara chahiye.

हंसना मुझे भी आता था
पर किसी ने रोना सिखा दिया,
बोलने में माहिर हम भी थे
किसी ने चुप रहना सिखा दिया..

Hansna mujhe bhi aata tha
par Kisi ne rona sikha diya,
Bolne me mahir ham bhi the
Kisi ne chup rahna sikha diya..

कोई रंग नही होता
बारिश के पानी में,
फिर भी फिजा को रंगीन
बना देती है..

koi rang nahi hota
Barish ke pani me,
Fir bhi fiza ko rangeen
Bana deti hai..

Gulzar Shayari In Hindi

इतने बुरे नही थे
जितने इल्ज़ाम लगाए लोगों ने,
कुछ किस्मत खराब थी
कुछ आग लगाई लोगों ने..

Itne bure nahi the
Jitne ilzaam lagaye logon ne,
Kukh Kismat Kharab thi
Kuch aag lagai logon ne..

बहुत कम लोग हैं
जो मेरे दिल को भाते हैं,
और उससे भी बहुत कम हैं
जो मुझे समझ पाते हैं..

Bahut kam log hain
Jo mere dil ko bhate hain,
Aur usse bhi bahut kam hain
Jo Mujhe samjh pate hain..

गुस्सा भी क्या करूं तुम पर
तुम हंसते हुए बेहद अच्छे लगते हो !

Gussa bhi kya karun tum par
Tum hanste huye behad achhe lagte ho !

दोस्ती रूह में उतरा हुआ
रिश्ता है साहब,

मुलाकातें कम होने से
दोस्ती कम नही होती..

Dosti ruh me utra huaa
Rishta hai sahab,
Mulakaten kam hone se
Dosti kam nahi hoti..

मुकम्मल इश्क से ज्यादा तो चर्चे
अधूरी मोहब्बत के होते हैं !

Mukammal ishq se jyada to charche
Aduri Mohabbat ke hote hain..

2 line Gulzar ghazal

तमाशा जिंदगी का हुआ,
कलाकार सब अपने निकले !

tamasha zindagi ka hua,
kalakar sab apne nikle..

किसी ने मुझसे पूछा की
दर्द की कीमत क्या है.?
मैंने कहा, मुझे नही पता
मुझे लोग फ्री में दे जाते हैं !

Kisi ne mujhse puchha ki
Dard ki keemat kya hai.?
Maine kaha, mujhe nahi pata

Mujhe log free me de jate hain.!

उनकी ना थी कोई खता
हम ही गलत समझ बैठे
वो मोहब्बत से बात करते थे
हम मोहब्बत समझ बैठे !

Unki na thi koi khtaa
Ham hi galat samjh baithe
Wo mohabbat se baat karte the
Ham Mohabbat samajh baithe.!

लौटने का ख्याल भी आए
तो बस चले आना,
इंतजार आज भी बड़ी
बेसब्री से है तुम्हारा..

Lautne ka khyal bhi aaye
To bas chale aana,
Intjaar aaj bhi badi
besbri se hai tumhara…

%d bloggers like this: